Friday, May 12, 2017

MAHA BHARAT KATHAEN महाभारत कथाएँ

MAHA BHARAT KATHAEN (2) महाभारत कथाएँ 
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM  By :: Pt. Santosh Bhardwaj dharmvidya.wordpress.com  hindutv.wordpress.com  santoshhastrekhashastr.wordpress.com 
 jagatgurusantosh.wordpress.com bhagwatkathamrat.wordpress.com 
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com bhartiyshiksha.blogspot.com       
Photo: NAG KANYA ULUPI नागकन्या उलूपी :: Ulupi was the daughter of Kouravy-Adi-Shesh, a descendant of Nagraj Airavat. Her father ruled the underwater kingdom of serpents in the Ganga river. Ulupi is known by numerous names in Maha Bharat viz. Bhujag Atmja, Bhujgendr Kanya, Bhujag Ottam, Kauravi, Kauravy Duhita, Kauravy Kul Nandini, Pannag Nandini, Pannag Sut, Pannag Atmja, Pannageshwar Kanya, Pannagi and Urag Atmja. Ulupi is described as a mythical form of a Nag Kanya (Nag-serpent princess), half-maiden and half-serpent capable to assuming the shape of humans. Ulupi was a well-trained warrior. These serpents had divine powers to change them selves to humans or any other organism.
A portrait of Ulupi and ArjunaShe was the second among the four wives of Arjun. She also finds a mention in the Vishnu Puran and the Bhagwat Puran. Scriptures known as Brahmans, describe the movement of Arjun to north-eastern region of present-day India. 
Arjun, the third amongest the Pandavs, was exiled from Indr Prasth, as he broke the rule of not entering any brother's room, when either of the remaining 4 brothers was with Draupadi. He under took one year's pilgrimage as a penance suggested by Devarshi Narad. Accompanied by Brahmns, Arjun reached Kam Rup-north eastern region of present-day India. He decided to spend first few days on the Ganga Ghat, he used to go for bathing daily deep in the water, deeper than a normal person can go, being the son of a demigod-Dev Raj Indr, he had that capability.
UlupiOne day when he bathed in the Ganga river to perform his rituals, the current pulled him inside the river. He later realised that it was Ulupi, the Nag princess, who grasped and pulled him into the river. She held him with her hands and travelled at her will. They finally ended up in an underwater kingdom, the abode of Kourvay. Arjun saw a sacrificial fire in the place and offered his rites in the fire. Agni was pleased with Arjun's unhesitating offering of oblations.
Delighted by her act, Arjun inquired Ulupi of her background. She revealed her lineage and admitted that she had fallen in love with him. Arjun, however, declined her proposal citing his celibacy on his pilgrimage. Ulupi argued that his celibacy was limited only to Draupadi, Arjun's first wife-the divine woman, who took birth from fire and was named as Krashna. Bhagwan Shri Krashn revered her as a sister. Convinced by her argument, he married her and spent a night with her. A son named Iravan was born to them. Pleased by Arjun, Ulupi granted him a boon that all animals that lived under water would obey him and he will be invincible under the water.
The Vasus, Bhishm's divine brothers in his previous birth, cursed Arjun after he killed Bhishm through treachery in the Kurukshetra War. When Ulupi heard of the curse, she sought the help of her father, Kouravy. Her father went to Maa Ganga, Bhishm's mother, and requested her for a relief him from the curse. Upon hearing him, Maa Bhagwati Ganga said that Arjun would be killed by his own son, Babru Vahan—Arjun's son through Chitrangada and would be brought back to life, when Ulupi would place a gem over his chest.
She played a major part in the upbringing of Babru Vahan, Arjun's son with Chitrangada. Following her father's advice, Ulupi instigated Babru Vahan to fight Arjun. When Arjun went to Manipur with the horse intended for the Ashw Medh Yagy-sacrifice, the king Babru Vahan, as directed by Ulupi, challenged Arjun for a duel. In the fierce battle that took place between them, both were mangled by the other's arrows. Finally, Arjun was mortally wounded and was killed by his son, when he shot a powerful arrow at him. Chitrangada rushed to the spot and abused Ulupi for instigating Babru Vahan to fight Arjun. Repenting over his deed, Babru Vahan determined to kill himself, but was promptly stopped by Ulupi. She brought the gem, placed the gem over Arjun's chest and revived him, thus relieving him of the Vasus' curse. Brought back to his life, Arjun became happy to see Ulupi, Chitrangada and Babru Vahan. He took all of them to Hastinapur.
Iravan, dies in battle of Maha Bharat on 8th day by Alam Bush-a demon.
Upon the onset of the Kali Yug, the Pandavs along with Draupadi retired and left the throne to their only heir Arjun's grandson, Parikshit. Giving up all their belongings and ties, they made their final journey of pilgrimage to the Himalay, accompanied by a dog. Ulupi returned to her kingdom in the Ganga river.
CHITRANGADA :: After the stay of one night with Ulupi, Arjun moved to Mani Pur. While he was resting in jungle, he saw Chitrangada, daughter of king of Manipur, Chitr Bhan and fall for her at the first sight as she was on hunting spree and asked for her hand directly from her father revealing his identity. Her Father agreed only on condition that, her offspring will born and brought up in Manipur only, as per the prevailing tradition. Chitrangada was the only child of the king. Arjun stayed there for approx three years and after the birth of their son, Babru Vahan, he left Manipur and continued his exile. Ulupi took care of Babru Vahan and brought him up.
TILOTMA :: Dev Rishi had the desire of visiting Hastina Pur to see Samrat Yudhishtar. He saw the 5 brothers enjoying life with Draupadi comfortable without any dispute. As per his habit and divine inspiration he narrated the story of Tilotma.
Long ago, there were two Asur (demons, Rakshas, giants, monsters) brothers, Sund and Upsund. They loved each other and always did everything together. They both prayed to the Brahma Ji-the creator and obtained a boon that they could be killed only by each other. They felt that their love for each other was so great that such a thing would never happen. The two of them then became so powerful that they drove away Dev Raj Indr and other demigods from Heaven. Indr was unable to face them. They ruled over the earth and the skies with no one to stop them.
As the demigods did not know what to do, they decided that the only chance they had was to create a rift between the two brothers. Brahma thought that over and created the most beautiful woman ever. She was called Tilotma. Even the demigods could not remove their eyes off the beautiful Tilotma. Tilotma then went to the two brothers.
However that proved to be the downfall of the two brothers. Both the brothers wanted to marry her. Neither wanted to give up the woman for the other. They became enemies and fought and they killed each other.
Narad Ji suggested that any one who broke the alliance pertaining to Draupadi, knowing or unknowingly would be made serve 12 years in exile, as a penance. Pandavs agreed to it happily.
Arjun had vowed that he would be willing to help the Brahmns at all times. One day a Brahmn reached him requesting to bring back his cows from the decoits. Arjun at once looked for his Gandeev Dhanush-bow which was placed in the room of Yudhishtar who was in the company of Draupadi at that time. And the improbable happened. Arjun brought back the cows but had to bow to the commitment for 12 years of exile. Yudhishtar was willing to pardon him but Arjun remained adamant-firm.
INVINCIBLE :: अजेय, अपराजेय, न जीते जाते योग्य; insurmountable, unbeaten, unconquerable, insuperable, invulnerable, indestructible,  indomitable, unassailable. 
अनहोनी :: unusual, improbable, impossible.
चक्रवर्ती महाराज भरत और भारत देश :: ऋषभदेव को भगवान् विष्णु का अवतार माना जाता है। उनके पुत्र राजा भरत बहुत तेजस्वी और प्रतापी थे। सन्यास लेने के बाद उनका मोह एक हिरण शावक में हो गया और वे अगले जन्म में हिरण बनकर पैदा हुए। पिछले जन्म की याद होने की वजह से उन्होंने ब्राह्मण कुल में जन्म पाया। 
एक छत्र हिमवान से समुद्र पर्यन्त छह खण्ड में शासन करने वाले ऋषभपुत्र भरत चक्रवर्ती के नाम पर ही इस देश का नाम भारत वर्ष प्रसिद्ध हुआ। इन्हीं के नाम से प्रसिद्ध इस देश को सम्राट् खारवेल ने भी अपने ऐतिहासिक शिलालेख में भारतवर्ष (भरधवस) लिखकर चक्रवर्ती भरत के काल से लेकर खारवेल के युग तक को भारतवर्ष नाम से प्रमाणित किया। 18 सितम्बर, 1949 की संविधान परिषद् की मीटग में स्वतन्त्र देश ने अपना पुरातन पौराणिक नाम भारतवर्ष ही संविधान में रखा। इस बात के अनेक प्रमाण हैं। शास्त्रों में भी महाराज भरत के नाम से भारतवर्ष नामकरण का उल्लेख शारदीयाख्य नाममाला 147, शिवपुराण 37.57, लिंगपुराण 47.19-23, स्कन्ध पुराण कौमार्यखण्ड 37.37, ब्रह्माण्डपुराण 2.14, मत्स्यपुराण 114.5-6, आदि में मिलता है। 
लिंग पुराण में लिखा है :-
हिमाद्रेर्दक्षिणं वर्षं भरताय न्यवेदयत्। तस्मात्तु भारतं वर्ष तस्य नाम्ना विदुर्बुधा:।।
ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।
द्रोपदी द्वारा दुर्योधन का अपमान :: खाण्डव वन (-वर्तमान नौयडा-दिल्ली-इंद्रप्रस्थ) नागों की भूमि थी। उससे भी पूर्व यह मय दानव-मन्दोदरी के पिता व् रावण के स्वसुर, के राज्य का हिस्सा था। खाण्डव वन साफ-सफाई के दौरान इसके के दहन के समय अर्जुन ने मय दानव को अभय दान दे दिया था। इससे कृतज्ञ हो कर मय दानव ने अर्जुन से कहा कि हे कुन्तीनन्दन! आपने मेरे प्राणों की रक्षा की है अतः आप आज्ञा दें, मैं आपकी क्या सेवा करूँ?" अर्जुन ने उत्तर दिया कि मैं किसी बदले की भावना से उपकार नहीं करता, किन्तु यदि तुम्हारे अन्दर सेवा भावना है तो तुम भगवान् श्री कृष्ण की सेवा करो।" मयासुर के द्वारा किसी प्रकार की सेवा की आज्ञा माँगने पर भगवान् श्री कृष्ण ने उससे कहा कि हे दैत्यश्रेष्ठ! तुम युधिष्ठिर की सभा हेतु ऐसे भवन का निर्माण करो जैसा कि इस पृथ्वी पर अभी तक न निर्मित हुआ हो।" मयासुर ने भगवान् श्री कृष्ण की आज्ञा का पालन करके एक अद्वितीय भवन का निर्माण कर दिया। इसके साथ ही उसने पाण्डवों को देवदत्त शंख, एक वज्र से भी कठोर रत्नजटित गदा तथा मणिमय पात्र भी भेंट किया।
कुछ काल पश्चात् धर्मराज युधिष्ठिर ने राजसूय यज्ञ का सफलतापूर्वक आयोजन किया। यज्ञ के आयोजन के पहले भीम के द्वारा जरासंध का वध हुआ एवं यज्ञ के दौरान शिशुपाल का वध हुआ। यज्ञ के समाप्त हो जाने के बाद भी कौरव राजा दुर्योधन अपने भाइयों के साथ युधिष्ठिर के अतिथि बने रहे। एक दिन दुर्योधन ने मय दानव के द्वारा निर्मित राजसभा को देखने की इच्छा प्रदर्शित की जिसे युधिष्ठिर ने सहर्ष स्वीकार किया। दुर्योधन उस सभा भवन के शिल्पकला को देख कर आश्चर्यचकित रह गया। मय दानव ने उस सभा भवन का निर्माण इस प्रकार से किया था कि वहाँ पर अनेक प्रकार के भ्रम उत्पन्न हो जाते थे जैसे कि स्थल के स्थान पर जल, जल के स्थान पर स्थल, द्वार के स्थान दीवार तथा दीवार के स्थान पर द्वार दृष्टिगत होता था। दुर्योधन को भी उस भवन के अनेक स्थानों में भ्रम हुआ तथा उपहास का पात्र बनना पड़ा, यहाँ तक कि उसका उपहास करते हुये द्रौपदी ने कह दिया कि 'अन्धों के अन्धे ही होते हैं।' दुर्योधन अपने उपहास से पहले से ही जला-भुना किन्तु द्रौपदी के कहे गये वचन उसे चुभ गये।
द्यूत-क्रीड़ा :: हस्तिनापुर लौटते समय शकुनि ने दुर्योधन से कहा, "भाँजे! इन्द्रप्रस्थ के सभा भवन में तुम्हारा जो अपमान हुआ है उससे मुझे अत्यन्त दुःख हुआ है। तुम यदि अपने इस अपमान का प्रतिशोध लेना चाहते हो तो अपने पिता धृतराष्ट्र से अनुमति ले कर युधिष्ठिर को द्यूत-क्रीड़ा (जुआ खेलने) के लिये आमन्त्रित कर लो। युधिष्ठिर द्यूत-क्रीड़ा का प्रेमी है, अतएव वह तुम्हारे निमन्त्रण पर वह अवश्य ही आयेगा और तुम तो जानते ही हो कि पासे के खेल में मुझ पर विजय पाने वाला त्रिलोक में भी कोई नहीं है। पासे के दाँव में हम पाण्डवों का सब कुछ जीत कर उन्हें पुनः दरिद्र बना देंगे।"
हस्तिनापुर पहुँच कर दुर्योधन सीधे अपने पिता धृतराष्ट्र के पास गया और उन्हें अपने अपमानों के विषय में विस्तारपूर्वक बताकर अपनी तथा मामा शकुनि की योजना के विषय में भी बताया और युधिष्ठिर को द्यूत-क्रीड़ा के लिये आमन्त्रित करने की अनुमति माँगी। थोड़ा-बहुत आनाकनी करने के पश्चात् धृतराष्ट्र ने दुर्योधन को अपनी अनुमति दे दी। युधिष्ठिर को उनके भाइयों तथा द्रौपदी के साथ हस्तिनापुर बुलवा लिया गया। अवसर पाकर दुर्योधन ने युधिष्ठिर के साथ द्यूत-क्रीड़ा का प्रस्ताव रखा जिसे युधिष्ठिर ने स्वीकार कर लिया।
पासे का खेल आरम्भ हुआ। दुर्योधन की ओर से मामा शकुनि पासे फेंकने लगे। युधिष्ठिर जो कुछ भी दाँव पर लगाते थे उसे हार जाते थे। अपना समस्त राज्य तक को हार जाने के बाद युधिष्ठिर ने अपने भाइयों को भी दाँव पर लगा दिया और शकुनि धूर्तता करके इस दाँव को भी जीत गया। यह देख कर भीष्म, द्रोण, विदुर आदि ने इस जुए का बन्द कराने का प्रयास किया किन्तु असफल रहे। अब युधिष्ठिर ने स्वयं अपने आप को दाँव पर लगा दिया और शकुनि की धूर्तता से फिर हार गये।
राज-पाट तथा भाइयों सहित स्वयं को भी हार जाने पर युधिष्ठिर कान्तिहीन होकर उठने लगे तो शकुनि ने कहा, "युधिष्ठिर! अभी भी तुम अपना सब कुछ वापस जीत सकते हो। अभी द्रौपदी तुम्हारे पास दाँव में लगाने के लिये शेष है। यदि तुम द्रौपदी को दाँव में लगा कर जीत गये तो मैं तुम्हारा हारा हुआ सब कुछ तुम्हें लौटा दूँगा।" सभी तरह से निराश युधिष्ठिर ने अब द्रौपदी को भी दाँव में लगा दिया और हमेशा की तरह हार गये।
चीर हर :- अपनी इस विजय को देख कर दुर्योधन उन्मत्त हो उठा और विदुर से बोला, "द्रौपदी अब हमारी दासी है, आप उसे तत्काल यहाँ ले आइये।"
नीच दुर्योधन के वचन सुन कर विदुर तिलमिला कर बोले, "दुष्ट! धर्मराज युधिष्ठिर की पत्नी दासी बने, ऐसा कभी सम्भव नहीं हो सकता। ऐसा प्रतीत होता है कि तेरा काल निकट है इसीलिये तेरे मुख से ऐसे वचन निकल रहे हैं।" परन्तु दुष्ट दुर्योधन ने विदुर की बातों की ओर कुछ भी ध्यान नहीं दिया और द्रौपदी को सभा में लाने के लिये अपने एक सेवक को भेजा। वह सेवक द्रौपदी के महल में जाकर बोला, "महारानी! धर्मराज युधिष्ठिर कौरवों से जुआ खेलते हुये सब कुछ हार गये हैं। वे अपने भाइयों को भी आपके सहित हार चुके हैं, इस कारण दुर्योधन ने तत्काल आपको सभा भवन में बुलवाया है।" द्रौपदी ने कहा, "सेवक! तुम जाकर सभा भवन में उपस्थित गुरुजनों से पूछो कि ऐसी स्थिति में मुझे क्या करना चाहिये?" सेवक ने लौट कर सभा में द्रौपदी के प्रश्न को रख दिया। उस प्रश्न को सुन कर भीष्म, द्रोण आदि वृद्ध एवं गुरुजन सिर झुकाये मौन बैठे रहे।
यह देख कर दुर्योधन ने दुःशासन को आज्ञा दी, "दुःशासन! तुम जाकर द्रौपदी को यहाँ ले आओ।" दुर्योधन की आज्ञा पाकर दुःशासन द्रौपदी के पास पहुँचा और बोला, "द्रौपदी! तुम्हें हमारे महाराज दुर्योधन ने जुए में जीत लिया है। मैं उनकी आज्ञा से तुम्हें बुलाने आया हूँ।" यह सुन कर द्रौपदी ने धीरे से कहा, "दुःशासन! मैं रजस्वला हूँ, सभा में जाने योग्य नहीं हूँ क्योंकि इस समय मेरे शरीर पर एक ही वस्त्र है।" दुःशासन बोला, "तुम रजस्वला हो या वस्त्रहीन, मुझे इससे कोई प्रयोजन नहीं है। तुम्हें महाराज दुर्योधन की आज्ञा का पालन करना ही होगा।" उसके वचनों को सुन कर द्रौपदी स्वयं को वचाने के लिये गांधारी के महल की ओर भागने लगी, किन्तु दुःशासन ने झपट कर उसके घुँघराले केशों को पकड़ लिया और सभा भवन की ओर घसीटने लगा। सभा भवन तक पहुँचते-पहुँचते द्रौपदी के सारे केश बिखर गये और उसके आधे शरीर से वस्त्र भी हट गये। अपनी यह दुर्दशा देख कर द्रौपदी ने क्रोध में भर कर उच्च स्वरों में कहा, "रे दुष्ट! सभा में बैठे हुये इन प्रतिष्ठित गुरुजनों की लज्जा तो कर। एक अबला नारी के ऊपर यह अत्याचार करते हुये तुझे तनिक भी लज्जा नहीं आती? धिक्कार है तुझ पर और तेरे भरतवंश पर!"
यह सब सुन कर भी दुर्योधन ने द्रौपदी को दासी कह कर सम्बोधित किया। द्रौपदी पुनः बोली, "क्या वयोवृद्ध भीष्म, द्रोण, धृतराष्ट्र, विदुर इस अत्याचार को देख नहीं रहे हैं? कहाँ हैं मेरे बलवान पति? उनके समक्ष एक गीदड़ मुझे अपमानित कर रहा है।" द्रौपदी के वचनों से पाण्डवों को अत्यन्त क्लेश हुआ किन्तु वे मौन भाव से सिर नीचा किये हुये बैठे रहे। द्रौपदी फिर बोली, "सभासदों! मैं आपसे पूछना चाहती हूँ कि धर्मराज को मुझे दाँव पर लगाने का क्या अधिकार था?" द्रौपदी की बात सुन कर विकर्ण उठ कर कहने लगा, "देवी द्रौपदी का कथन सत्य है।" युधिष्ठिर को अपने भाई और स्वयं के हार जाने के पश्चात् द्रौपदी को दाँव पर लगाने का कोई अधिकार नहीं था क्योंकि वह पाँचों भाई की पत्नी है अकेले युधिष्ठिर की नहीं। और फिर युधिष्ठिर ने शकुनि के उकसाने पर द्रौपदी को दाँव पर लगाया था, स्वेच्छा से नहीं। अतएव कौरवों को द्रौपदी को दासी कहने का कोई अधिकार नहीं है।"
विकर्ण के नीतियुक्त वचनों को सुनकर दुर्योधन के परम मित्र कर्ण ने कहा, "विकर्ण! तुम अभी कल के बालक हो। यहाँ उपस्थित भीष्म, द्रोण, विदुर, धृतराष्ट्र जैसे गुरुजन भी कुछ नहीं कह पाये, क्योंकि उन्हें ज्ञात है कि द्रौपदी को हमने दाँव में जीता है। क्या तुम इन सब से भी अधिक ज्ञानी हो? स्मरण रखो कि गुरुजनों के समक्ष तुम्हें कुछ भी कहने का अधिकार नहीं है।" कर्ण की बातों से उत्साहित होकर दुर्योधन ने दुःशासन से कहा, "दुःशासन! तुम द्रौपदी के वस्त्र उतार कर उसे निर्वसना करो।" इतना सुनते ही दुःशासन ने द्रौपदी की साड़ी को खींचना आरम्भ कर दिया। द्रौपदी अपनी पूरी शक्ति से अपनी साड़ी को खिंचने से बचाती हुई वहाँ पर उपस्थित जनों से विनती करने लगी, "आप लोगों के समक्ष मुझे निर्वसन किया जा रहा है किन्तु मुझे इस संकट से उबारने वाला कोई नहीं है। धिक्कार है आप लोगों के कुल और आत्मबल को। मेरे पति जो मेरी इस दुर्दशा को देख कर भी चुप हैं उन्हें भी धिक्कार है।"
द्रौपदी की दुर्दशा देख कर विदुर से रहा न गया, वे बोल उठे, "दादा भीष्म! एक निरीह अबला पर इस तरह अत्याचार हो रहा है और आप उसे देख कर भी चुप हैं। क्या हुआ आपके तपोबल को? इस समय दुरात्मा धृतराष्ट्र भी चुप है। वह जानता नहीं कि इस अबला पर होने वाला अत्याचार उसके कुल का नाश कर देगा। एक सीता के अपमान से रावण का समस्त कुल नष्ट हो गया था।"
विदुर ने जब देखा कि उनके नीतियुक्त वचनों का किसी पर भी कोई प्रभाव नहीं पड़ रहा है तो वे सबको धिक्कारते हुये वहाँ से उठ कर चले गये।
दुःशासन द्रौपदी के वस्त्र को खींचने के अपने प्रयास में लगा ही हुआ था। द्रौपदी ने जब वहाँ उपस्थित सभासदों को मौन देखा तो वह द्वारिकावासी श्री कृष्ण को टेरती हुई बोली, "हे गोविन्द! हे मुरारे! हे कृष्ण! मुझे इस संसार में अब तुम्हारे अतिरिक्त और कोई मेरी लाज बचाने वाला दृष्टिगत नहीं हो रहा है। अब तुम्हीं इस कृष्णा की लाज रखो।"
भक्तवत्सल श्री कृष्ण ने द्रौपदी की पुकार सुन ली। वे समस्त कार्य त्याग कर तत्काल अदृश्यरूप में वहाँ पधारे और आकाश में स्थिर होकर द्रौपदी की साड़ी को बढ़ाने लगे। दुःशासन द्रौपदी की साड़ी को खींचते जाता था और साड़ी थी कि समाप्त होने का नाम ही नहीं लेती थी। साड़ी को खींचते-खीचते दुःशासन शिथिल होकर पसीने-पसीने हो गया किन्तु अपने कार्य में सफल न हो सका। अन्त में लज्जित होकर उस चुपचाप बैठ जाना पड़ा। अब साड़ी के उस पर्वत के समान ऊँचे ढेर को देख कर वहाँ बैठे समस्त सभाजन द्रौपदी के पातिव्रत की मुक्त कण्ठ से प्रशंसा करने लगे और दुःशासन को धिक्कारने लगे। द्रौपदी के इस अपमान को देख कर भीमसेन का सारा शरीर क्रोध से जला जा रहा था। उन्होंने घोषणा की, "जिस दुष्ट के हाथों ने द्रौपदी के केश खींचे हैं, यदि मैं उन हाथों को अपनी गदा से नष्ट न कर दूँ तो मुझे सद्गति ही न मिले। यदि मैं उसकी छाती को चीर कर उसका रक्तपान न कर सकूँ तो मैं कोटि जन्मों तक नरक की वेदना भुगतता रहूँ। मैं अपने भ्राता धर्मराज युधिष्ठिर के वश में हूँ अन्यथा इस समस्त कौरवों को मच्छर की भाँति मसल कर नष्ट कर दूँ। यदि आज मै स्वामी होता तो द्रौपदी को स्पर्श करने वाले को तत्काल यमलोक पहुँचा देता।"
भीमसेन के वचनों को सुन कर भी अन्य पाण्डवों तथा सभासदों को मौन देख कर दुर्योधन और अधिक उत्साहित होकर बोला, "द्रौपदी! मैं तुम्हें अपनी महारानी बना रहा हूँ। आओ, तुम मेरी बाँयीं जंघा पर बैठ जाओ। इन पुंसत्वहीन पाण्डवों का साथ छोड़ दो।" यह सुनते ही भीम अपनी दुर्योधन के साथ युद्ध करने के लिये उठ खड़े हुये, किन्तु अर्जुन ने उनका हाथ पकड़कर उन्हें रोक लिया। इस पर भीम पुनः दुर्योधन से बोले, "दुरात्मा! मैं भरी सभा में शपथ ले कर कहता हूँ कि युद्ध में तेरी जाँघ को चीर कर न रख दूँ तो मेरा नाम भीम नहीं।"
इसी समय सभा में भयंकर अपशकुन होता दिखाई पड़ा। गीदड़-कुत्तों के रुदन से पूरा वातावरण भर उठा। इस उत्पात को देखकर धृतराष्ट्र और अधिक मौन न रह सके और बोले उठे, "दुर्योधन! तू दुर्बुद्धि हो गया है। आखिर कुछ भी हो, द्रौपदी मेरी पुत्र वधू है। उसे तू भरी सभा में निर्वसना कर रहा है।" इसके पश्चात् उन्होंने द्रौपदी से कहा, "पुत्री! तुम सचमुच पतिव्रता हो। तुम इस समय मुझसे जो वर चाहो माँग सकती हो।" द्रौपदी बोलीं, "यदि आप प्रसन्न हैं तो मुझे यह वर दें कि मेरे पति दासता से मुक्ति पा जायें।" धृतराष्ट्र ने कहा, "देवि! मैं तुम्हें यह वर दे रहा हूँ। पाण्डवगण अब दासता मुक्त हैं। पुत्री! तुम कुछ और माँगना चाहो तो वह भी माँग लो।" इस पर द्रौपदी ने कहा, "हे तात! आप मेरे पतियों के दिव्य रथ एवं शस्त्रास्त्र लौटा दें।" धृतराष्ट्र ने कहा, "तथास्तु"। पाण्डवों के दिव्य रथ तथा अस्त्र-शस्त्र लौटा दिये गये। धृतराष्ट्र ने कहा, "पुत्री! कुछ और माँगो।" इस पर द्रौपदी बोली, "बस तात्! क्षत्राणी केवल दो वर ही माँग सकती है। इससे अधिक माँगना लोभ माना जायेगा।"
पाण्डवों के दूत भगवान् श्री कृष्ण :: पाण्डवों के वनवास के बारह वर्ष और अज्ञातवास का एक वर्ष व्यतीत हो गया। दुर्योधन ने कहा कि मैंने पाण्डवों का अज्ञातवास भंग के दिया है, अतः उन्हें फिर से 12 वर्ष के लिए वनवास के लिए जाना होगा। भीष्म पितामह, आचार्य द्रोण और आचार्य कृपाचार्य ने कहा कि इस समय 4 कलैंडर प्रचिलित हैं और उन चारों के अनुसार पाण्डवों का वनवास पूरा हो गया है अतः उनका राज्य उनको वापस लौटा देना चाहिए परन्तु दुर्योधन ने उनकी एक न सुनी और बगैर युद्ध के एक इंच भूमि भी देने से इंकार कर दिया।
पुत्र मोह से ग्रसित दृष्टिविहीन धृतराष्ट्र ने संजय को दूत बनाकर पांडवों के पास भेजा। संजय ने युधिष्ठर को बार-बार वैराग्य धर्म का उपदेश दिया कि तुम्हारी यदि जय भी हो जाए तो इससे क्या लाभ होगा, कुल का नाश हो जाएगा।भगवान् श्री कृष्ण ने कहा : पांडव अपना अधिकार क्यों छोड़े? यह वैराग्य धर्म का उपदेश उस समय कहाँ गया था, जब छल से शकुनि ने युधिस्टर का राज्य छिना था ?!
भगवान् श्री कृष्ण पांडवों की ओर से दूत बनकर कौरवों की राजधानी हस्तिनापुर पहुँचे। दुर्योधन ने वहाँ उनका शाही स्वागत करने का प्रयत्न किया। उन्हें उसने भोजन के लिए आमंत्रित किया, परन्तु भगवान् श्री कृष्ण ने वह निमंत्रण स्वीकार नहीं किया। दुर्योधन बोला : जनार्दन, आपके लिए अन्न, फल, वस्त्र तथा शैय्या आदि जो वस्तुएँ प्राप्त की गई, आपने उन्हें ग्रहण क्यों नहीं किया? आपने हमारी प्रेमपूर्वक समर्पित पूजा ग्रहण क्यों नहीं की?”
भगवान् श्री कृष्ण ने उस समय जवाब दिया : भोजन खिलाने में दो भाव काम करते हैं। एक दया और दूसरी प्रीति- सम प्रीति। भोज्यानयन्नामि आपद्रभोज्यानि वा पुनः? दया दीन को दिखाई जाती है, सो हम दीन-दरिद्र नहीं हैं। जिस काम के लिए हम आए हैं, पहले वह सिद्ध हो जाए तो हम भोजन भी कर लेंगे। आप अपने ही भाइयों से द्वेश क्यों करते हैं? आप हमें क्या खिलाइएगा? उनका धार्मिक पक्ष है, आपका अधार्मिक, सो जो उनसे द्वेष करता है, वह हमसे भी द्वेष करता है। एक बात हमेशा याद रखो : जो द्वेष करता है, उसका अन्न कभी ना खाओ और द्वेष रखने वाले को खिलाना भी नहीं चाहिए :द्विषन्नं नैव भौक्तव्यं द्विषन्तं नैव भोजयेत्।  
भगवान् श्री कृष्ण ने इसी कारण दुर्योधन का राजसी आतिथ्य भी स्वीकार नहीं किया, जबकि सरल विदुर जी का सादा रुखा-सूखा अन्न स्वीकार किया। 
दयाहीन लोगों का भोजन खाने से अच्छा है कि मनुष्य किसी निर्धन के यहाँ भोजन कर ले। 
बर्बरीक :: वो भीम के पुत्र घटोत्कच और नागकन्या अहिलवती का पुत्र था। बर्बरीक को रणकौशल की शिक्षा-दीक्षा अपनी माँ और दादी से हासिल हुई थी। वो अकेला ही पृथ्वी के समस्त योद्धाओं को परास्त करने में सक्षम था। उसने अपनी दादी हिडिम्बा से सुन रखा था कि उसके दादा भगवान् श्री कृष्ण अवतारी हैं और उनके हाथों मरने से मोक्ष की प्राप्ति सहज थी। उसका रणकौशल भगवान् श्री कृष्ण ने अर्जुन को दिखाया तो वो भी भौंचक्के-अवाक रह गए। जब उसने महा भारत के युद्ध में भाग लेने की इच्छा व्यक्त की तो भगवान् श्री कृष्ण ने उससे पूछा कि वो किस पक्ष से युद्ध करना चाहता था। उसने कहा कि वो उस पक्ष में रहेगा जो कमजोर होगा अर्थात बारी-बारी से दोनों ही सेनाओं का संहार करेगा। 
उसे समस्त राक्षसी मायाओं का पूर्ण ज्ञान था। वह अतुलित बलशाली और धुरन्धर तीरन्दाज था। युद्ध के मैदान में भीम पौत्र बर्बरीक दोनों खेमों के मध्य स्थित एक पीपल के वृक्ष के नीचे खड़े हो गए और यह घोषणा कर डाली कि मैं उस पक्ष की तरफ से लडूंगा जो हार रहा होगा। भीम के पौत्र बर्बरीक के समक्ष जब अर्जुन तथा भगवान्  श्री कृष्ण उसकी वीरता का चमत्कार देखने के लिए उपस्थित हुए तब बर्बरीक ने अपनी वीरता का छोटा-सा नमूना मात्र ही दिखाया। भगवान् श्री कृष्ण ने कहा कि यह जो वृक्ष है ‍इसके सारे पत्तों को एक ही तीर से छेद दो तो मैं मान जाऊंगा। बर्बरीक ने आज्ञा लेकर तीर को वृक्ष की ओर छोड़ दिया। जब तीर एक-एक कर सारे पत्तों को छेदता जा रहा था उसी दौरान एक पत्ता टूटकर नीचे गिर पड़ा, भगवान् श्री कृष्ण ने उस पत्ते पर यह सोचकर पैर रखकर उसे छुपा लिया की यह छेद होने से बच जाएगा, लेकिन सभी पत्तों को छेदता हुआ वह तीर भगवान् श्री कृष्ण के पैरों के पास आकर रुक गया। तब बर्बरीक ने कहा प्रभु आपके पैर के नीचे एक पत्ता दबा है कृपया पैर हटा लीजिए क्योंकि मैंने तीर को सिर्फ पत्तों को छेदने की आज्ञा दे रखी है आपके पैर को छेदने की नहीं। उसके इस चमत्कार को देखकर भगवान् श्री कृष्ण चिंतित हो गए। भगवान् श्री कृष्ण यह बात जानते थे कि बर्बरीक प्रतिज्ञावश हारने वाले का साथ देगा। यदि कौरव हारते हुए नजर आए तो फिर पांडवों के लिए संकट खड़ा हो जाएगा और यदि जब पांडव बर्बरीक के सामने हारते नजर आए तो फिर वह पांडवों का साथ देगा। इस तरह वह दोनों ओर की सेना को नष्ट कर देगा। 
भगवान् उसकी इच्छा को भाँप गए और उन्होंने उसका सर सुदर्शन चक्र से काट दिया और फिर अमृत पान कराकर पूछा कि वो और क्या चाहता है। उसने कहा कि उसके सर को ऐसे स्थान पर टाँग दिया जाये जहाँ से वो सारा युद्ध अपनी आँखों से देख सके। भगवान् ने उसकी यह इच्छा पूरी की। उसकी दूसरी इच्छा थी कि उसका शवदाह ऐसे स्थान पर किया जाये जहाँ पर पहले कभी भी किसी का दाह न हुआ हो। भगवान् ने अपनी हथेली को बढ़ाकर उस पर उसका अंतिम संस्कार किया। युद्ध के उपरांत भीम और अर्जुन को अहंकार हो किया कि उन्होंने बहुत बड़ा कारनामा किया है तो भगवान् श्री कृष्ण अन्य बचे कुचे योद्धाओं को लेकर बर्बरीक के पास आये और उससे पूछा कि युद्ध में उसने किसको लड़ते हुए देखा तो उसने बताया कि मैंने जिसे संहार करते देखा वो स्वयं भगवान् कृष्ण थे जो कि एक ओर से तो श्री कृष्ण और दूसरी ओर से भगवान् शिव-महेश थे। पाण्डवों का भ्रम तत्काल मिट गया। 
भगवान्  श्री कृष्ण ने बर्बरीक को कलियुग में स्वयं के नाम से पूजित होने का वर दिया। आज भी बर्बरीक को खाटू श्याम जी के नाम से पूजा जाता है।

Sunday, February 12, 2017

OCCUPYING NEW HOUSE गृह प्रवेश

OCCUPYING NEW HOUSE गृह प्रवेश
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By :: Pt. Santosh Bhardwaj  santoshhastrekhashastr.wordpress.com
santoshkipathshala.blogspot.com     santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com    bhagwatkathamrat.wordpress.com palmstory.wordpress.com 
dharmvidya.wordpress.com  
गृह प्रवेश तीन प्रकार से होता है।गृह प्रवेश पूजा से घर में सुख-शांति बनी रहती है।
अपूर्व गृह प्रवेश :– जब पहली बार बनाये गये नये घर में प्रवेश किया जाता है तो वह अपूर्व ग्रह प्रवेश कहलाता है।
सपूर्व गृह प्रवेश: – जब किसी कारण से व्यक्ति अपने परिवार सहित प्रवास पर होता है और अपने घर को कुछ समय के लिये खाली छोड़ देते हैं तब दुबारा वहाँ रहने के लिये जब जाया जाता है तो उसे सपूर्व गृह प्रवेश कहा जाता है।
नए गृह में प्रवेश की विधिद्वान्धव गृह प्रवेश :– जब किसी परेशानी या किसी आपदा के चलते घर को छोड़ना पड़ता है और कुछ समय पश्चात दोबारा उस घर में प्रवेश किया जाता है तो वह द्वान्धव गृह प्रवेश कहलाता है।
गृह प्रवेश की पूजा विधि
सबसे पहले गृह प्रवेश के लिये दिन, तिथि, वार एवं नक्षत्र को ध्यान मे रखते हुए, गृह प्रवेश की तिथि और समय का निर्धारण किया जाता है। गृह प्रवेश के लिये शुभ मुहूर्त का ध्यान जरुर रखें। इस सब के लिये एक विद्वान ब्राह्मण की सहायता ली जाती है, जो विधिपूर्वक मंत्रोच्चारण कर गृह प्रवेश की पूजा को संपूर्ण करता है।
समय-मुहूर्त :: माघ, फाल्गुन, वैशाख, ज्येष्ठ माह को गृह प्रवेश के लिये सबसे सही समय बताया गया है। आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, आश्विन, पौष इसके लिहाज से शुभ नहीं माने गए हैं। मंगलवार के दिन भी गृह प्रवेश नहीं किया जाता विशेष परिस्थितियों में रविवार और शनिवार के दिन भी गृह प्रवेश वर्जित माना गाया है। सप्ताह के बाकि दिनों में से किसी भी दिन गृह प्रवेश किया जा सकता है। अमावस्या व पूर्णिमा को छोड़कर शुक्लपक्ष 2, 3, 5, 7, 10, 11, 12, और 13 तिथियां प्रवेश के लिये बहुत शुभ मानी जाती हैं।
पूजन सामग्री :- कलश, नारियल, शुद्ध जल, कुमकुम, चावल, अबीर, गुलाल, धूपबत्ती, पांच शुभ मांगलिक वस्तुएं, बंदनवार-आम या अशोक के पत्ते, पीली हल्दी, गुड़, चावल, दूध आदि।
गृह प्रवेश विधि :: पूजा विधि संपन्न होने के बाद मंगल कलश के साथ सूर्य की रोशनी में नए घर में प्रवेश करना चाहिए।
घर को बंदनवार, रंगोली, फूलों से सजाना चाहिए। मंगल कलश में शुद्ध जल भरकर उसमें आम या अशोक के आठ पत्तों के बीच नारियल रखें। कलश व नारियल पर कुमकुम से स्वस्तिक का चिन्ह बनाएं। नए घर में प्रवेश के समय घर के स्वामी और स्वामिनी को पांच मांगलिक वस्तुएं नारियल, पीली हल्दी, गुड़, चावल, दूध अपने साथ लेकर नए घर में प्रवेश करना चाहिए। श्री गणेश जी की मूर्ति, दक्षिणावर्ती शंख, श्री यंत्र को गृह प्रवेश वाले दिन घर में ले जाना चाहिए। मंगल गीतों के साथ नए घर में प्रवेश करना चाहिए। पुरुष पहले दाहिना पैर तथा स्त्री बांया पैर बढ़ा कर नए घर में प्रवेश करें। इसके बाद गणेश जी का ध्यान करते हुए गणेश जी के मंत्रों के साथ घर के ईशान कोण (North-East) में या फिर पूजा घर में कलश की स्थापना करें। इसके बाद रसोई घर में भी पूजा करनी चाहिये। चूल्हे, पानी रखने के स्थान और स्टोर आदि में धूप, दीपक के साथ कुमकुम, हल्दी, चावल आदि से पूजन कर स्वास्तिक चिन्ह बनाना चाहिये। रसोई में पहले दिन गुड़ व हरी सब्जियां रखना शुभ माना जाता है। चूल्हे को जलाकर सबसे पहले उस पर दूध उफानना चाहिये, मिष्ठान बनाकर उसका भोग लगाना चाहिये। घर में बने भोजन से सबसे पहले भगवान को भोग लगायें। गौ माता, कौआ, कुत्ता, चींटी आदि के निमित्त भोजन निकाल कर रखें। इसके बाद ब्राह्मण को भोजन करायें या फिर किसी गरीब भूखे आदमी को भोजन करा दें। मान्यता है कि ऐसा करने से घर में सुख, शांति व समृद्धि आती है व हर प्रकार के दोष दूर हो जाते हैं।
कलश स्थापना :- कलश के साथ घर में प्रवेश के बाद गणपति के ध्यान और गणेश मंत्रों के साथ घर के ईशान कोण (उत्तर-पूर्व दिशा जहां मिलती हैं) में या घर के मंदिर में स्थापित कर दे। कलश को थोड़े चावल रखकर उन स्थापित करना चाहिए।
रसोई की पूजा :- रसोई में गैस चूल्हा, पानी रखने के स्थान और भंडार घर की जगह धूप, दीपक के साथ कुमकुम, हल्दी, चावल आदि से पूजन कर स्वस्तिक चिन्ह बना देने चाहिए। पहले दिन रसोई में गुड़ व हरी सब्जी रखना चाहिए। चूल्हे पर दूध उफानना चाहिए। कोई मिठाई बनाकर उसका भोग लगाना चाहिए। हलुआ या लापसी बनाई जा सकती है। घर में बनाया भोजन सबसे पहले भगवान को भोग लगाएं। गौ माता, कौआ, कुत्ता, चींटी आदि के निमित्त भोजन निकाल कर रखें। पहले दिन अपने परिवार, मित्रों के साथ ब्राह्मण भोजन कराएं। अगर संभव ना हो तो एक ब्राह्मण को भोजन करा दें।
किसी का भी नए घर में प्रवेश बहुत मायने रखता है। हिंदू धर्म में किसी नए घर में प्रवेश करने के लिए पूजा की जाती है जिसे गृहप्रवेश कहते हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि घर से सभी बुरी शक्तियों का खात्मा हो जाए। इस पूजा की अपनी ही एक अहमियत जिसे लोग आज भी मानते हैं। लेकिन गृहप्रवेश के लिए आपको कुछ चीजों के बारे में ध्यान रखने की जरूरत है ताकि आप नए घर में शांति से रह सकें।
सामान्य प्रक्रिया :: गृह प्रवेश की पूजा के बाद उस रात परिवार को उसी घर में सोना चाहिए। वास्तु पूजा  के बाद घर के मालिक को पूरे भवन का एक चक्कर काटना चाहिए। गृह स्वामिनी को पानी से भरे कलश को लेकर पूरे घर में घूमना चाहिए और जगह-जगह पर फूल गिराने चाहिए। गृह प्रवेश वाले दिन एक कलश में पानी या दूध भरकर रखें और अगले दिन उसे मंदिर में चढ़ा दें। गृह प्रवेश वाले दिन घर में दूध उबालना शुभ होता है। गृह प्रवेश के 40 दिन तक घर खाली नहीं होना चाहिए चाहे एक ही सदस्य रहे लेकिन उस घर में किसी न किसी का होना बहुत जरूरी होता है। नए मकान में प्रवेश करने से पहले रंगाई-पुताई करवाकर पानी के सभी नल, बिजली के कनेक्शन आदि की अच्छी तरह से जांच कर लेनी चाहिए।
शुभ मुहूर्त में, मकान का फर्श साफ -सुथरा करके यज्ञ, हवन, पूजन, दीप, धूप आदि द्वारा विधि-विधान से गृह प्रवेश पूजन सम्पन्न करना चाहिए। घर में प्रवेश करने से पहले बड़े-बुजुर्ग, पूजनीय, पित्रों (इष्ट) का आशीर्वाद लें तथा भोजन कराना चाहिए। ऐसा करने से सबके मन में सकारात्मक प्रभाव आता है और उनकी सकारात्मक शक्ति आपको जीवन में आगे बढ़ने का हौसला देती है। रोजाना घर में फिटकरी के पानी से पोछा लगाना भी बेहद लाभकारी माना जाता है। घर में वास्तु दोष निवारक यंत्र (शंख, घण्टा ध्वनि) अवश्य रखें इससे अगर घर की बनावट में किसी तरह की परेशानी होगी तो दूर होगी। हिंदु धर्म और संस्कृति में प्राचीन काल से ही वास्तु देवता की प्रसन्नता के लिए उनकी पूजा का विशिष्ट स्थान रहा है। चाहे नगर निर्माण हो या भवन निर्माण अथवा कर्मकांड के लघु एवं बृहत यज्ञानुष्ठान आदि हों, इन सभी कार्यों में सफलता में आने वाली बाधाओं के शमन के लिए वास्तु पुरुष की विधिपूर्वक पूजा की जाती है। ऐसी स्थिति में संपूर्ण वास्तुयंत्र को अपने घर में स्थापित करने से वास्तु देवता प्रसन्न होते हैं जिससे घर की सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है।
हवन :: निम्न मन्त्रों के द्वारा हवन सम्पन्न करें 
शुद्धि मंत्र :: ॐ अपवित्र: पवित्रो वा सर्वाव स्थान्गतो अपि वा। य: स्मरेत  पुंडरीकाक्षं स वा ह्यभ्यन्तर: शुचि:॥   
ॐ गं गणपत्ये नम:। 
आहुति के लिये :: ॐ गं गणपत्ये स्वाहा:। 
वन्दना :: ॐ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटिसम्स्प्रभः।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥


ग्रह शान्ति :: (1). ब्रह्मा मुरारी  त्रिपुरांतकारी  भानु शशि भूमिसुतो बुधश्च गुरुश्च
 शुक्र: शनि राहु केतव:, सर्वे ग्रहा शान्ति करा भवन्तु।


(2). ॐ द्धयो: शांति अंतरिक्ष शांति पृथिवी शांति आपः शांति औषधय: शांति वनस्पतय: शांति विश्र्वेदेवा शांति सर्व शांति शांतिरेव शांति  सामा शांति शान्तिरेधि: विश्र्वानि देव सवितुर्दुरितानि परासुव। यद् भद्रं तन्न आसुव।
 ॥ ॐ शांति: शांति: शांति: ॐ॥  
आरती करें :: (1).  
आरती श्री जगदीश जी
ओउम् 
जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनन  के संकट, क्षण  में दूर करे॥
 जो ध्यावे फल पावे, दुःख विनसे मन का। सुख सम्पत्ति घर आवे, कष्ट मिटे  तन का॥

मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूं मैं किसकी। 
तुम बिन और न दूजा, आस करूं जिसकी॥ 
तुम पूरण परमात्मा, तुम अंतर्यामी। पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सब के स्वामी॥

 तुम करुणा के सागर, तुम पालन कर्ता। 
मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥ 
तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति। किस विधि मिलूं दयामय, तुमको मैं कुमति॥ 

दीनबन्धु दुःखहर्ता, तुम रक्षक मेरे। 
अपने हाथ उठाओ, द्वार पड़ा मैं तेरे॥ 
विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा। श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ, सन्तन की सेवा॥
  

तन-मन-धन सब है तेरा, स्वामी सब कुछ है तेरा। 
तेरा तुझको अर्पण, क्या लागे मेरा॥
 श्री जगदीश जी की आरती, जो कोई नर गावे। कहत शिवानन्द स्वामी, सुख सम्पत्ति पावे॥ 


ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे;  भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे।  ॐ जय जगदीश…
जो ध्यावे फल पावे, दुःख बिनसे मन का; सुख सम्पति घर आवे, कष्ट मिटे तन का. ॐ जय जगदीश…
मात पिता तुम मेरे, शरण गहूं मैं किसकी; तुम बिन और न दूजा, आस करूं मैं जिसकी। ॐ जय जगदीश…
तुम पूरण परमात्मा, तुम अंतरयामी; पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सब के स्वामी। ॐ जय जगदीश…
तुम करुणा के सागर, तुम पालनकर्ता;  मैं सेवक तुम स्वामी, कृपा करो भर्ता। ॐ जय जगदीश…
तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति;  किस विधि मिलूं दयामय, तुमको मैं कुमति। ॐ जय जगदीश…
दीन बंधु दुखहर्ता, तुम रक्षक मेरे; करुणा हाथ बढ़ाओ, द्वार पड़ा तेरे। ॐ जय जगदीश…
विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा; श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा। ॐ जय जगदीश…
(2). आरती श्री हनुमान जी 
आरती कीजे हनुमान लला की।दुष्टदलन रघुनाथ कला की ॥
 जाके बल से गिरिवर कापै।रोग-दोष जाके निकट न झांपे॥
 अंजनी पुत्र महा बलदाई। संतन के प्रभु सदा सुहाई॥ 
दे बीरा हनुमान पठाये।लंका जारि सिया सुध लाये॥ 
 लंका सो कोट समुद्र सी खाई।जात  पवन सुत बार न लाई॥
 लंका जारि असुर संहारे।सियारामजी के काज संवारे॥
 लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।आनि संजीवन प्राण उबारे॥
 पैठी पाताल तोरि जम-कारे।अहिरावन के भुजा उखारे॥
 बायें भुजा असुर दल मारे।दाहिने भजा संतजन तारे॥ 
सुर नर मुनि आरती उतारें। जय जय जय हनुमान उचारें॥ 



कंचन थार कपूर लौ छाई।
आरती करत अंजना माई॥

 जो हनुमान जी की आरती गावै।बसी बैकुंठ परमपद पावै॥ 
आरती कीजै हनुमान लला की।दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥ 
॥ जय बजरंगबली॥ 


(3). माँ लक्ष्मी जी की आरती



ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता; तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु विधाता। 

 जय ब्रह्माणी रूद्राणी कमला, तू हि है जगमाता; सूर्य चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता। 

जय दुर्गा रूप निरंजन, सुख सम्पति दाता; जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि सिद्धि धन पाता। 

जय तू ही है पाताल बसन्ती, तू ही है शुभ दाता; कर्म प्रभाव प्रकाशक, भवनिधि से त्राता। 

जय जिस घर थारो वासो, तेहि में गुण आता। कर न सके सोई कर ले, मन नहिं धड़काता। 

जय तुम बिन यज्ञ न होवे, वस्त्र न कोई पाता; खान पान को वैभव, सब तुमसे आता। 

जय शुभ गुण सुंदर मुक्त्ता, क्षीर निधि जाता; रत्त्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नही पाता। 

 जय आरती लक्ष्मी जी की, जो कोई नर गाता; उर आनन्द अति उपजे, पाप उतर जाता। 

जय स्थिर चर जगत बचावे, शुभ कर्म नर लाता, मैया तेरा भक्त निरन्तर शुभ दृष्टि चाहता। 

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता; तुमको निश दिन सेवत, हर विष्णु विधाता। 
श्री गायत्री यंत्र :: गायत्री यंत्र के पूजन, दर्शन से घर में सात्विक वातावरण बनता है जिससे घर के सभी सदस्यों में पवित्र भावना का विकास होता है। 
Image result for महा मृत्युंजय यंत्रमहा मृत्युंजय यंत्र :: इस यंत्र के दर्शन, पूजन से घर में दुःख, बीमारियों से रक्षा होती है, व्यक्ति उन्नति की ओर अग्रसर होता है।
Image result for श्री वास्तु महायंत्र :श्री काली यंत्र :: महाकाली यंत्र के दर्शन, पूजन से अकाल मृत्यु से रक्षा होती है। आत्मविश्वास में वृद्धि होती है। 
श्री वास्तु महायंत्र :: इस यंत्र के दर्शन, पूजन से घर में वास्तुदोष का निवारण होता है। घर की सुरक्षा बनी रहती है।
श्री केतु यंत्र :: केतु यंत्र के दर्शन, पूजन से अचानक होने वाली अशुभ घटनाओं का पूर्वाभास होता है। व्यक्ति सावधानीपूर्वक विकट स्थितियों का सामना करने में सफल होता है।
Image result for श्री राहु यंत्रश्री राहु यंत्र :: इस यंत्र के दर्शन, पूजन से कार्यों में आने वाली अड़चनें दूर होती हैं। सामान्य संघर्ष के बाद व्यक्ति सफलता प्राप्त करता है।
Image result for श्री शनि यंत्रश्री शनि यंत्र :: शनि यंत्र के पूजन, दर्शन से हीन भावनाओं का नाश होता है। व्यक्ति स्थिरतापूर्वक कार्यक्षेत्र में सफल होता है।
श्री मंगल यंत्र :: मंगल यंत्र के पूजन, दर्शन से धैर्य एवं साहस में वृद्धि होती है जिससे व्यक्ति निडर होकर कार्य करता है।
Image result for श्री कुबेर यंत्रश्री कुबेर यंत्र :: कुबेर यंत्र के पूजन, दर्शन से आय के स्रोतों में वृद्धि होती है। धन का सदुपयोग होता है।