Thursday, August 21, 2014

KARM :: SIN & VIRTUE पुण्य व पाप

 
PIOUS DEEDS Vs  SIN पुण्य व पाप
 CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM 
By :: Pt. Santosh Bhardwaj
dharmvidya.wordpress.com  hindutv.wordpress.com  santoshhastrekhashastr.wordpress.com   bhagwatkathamrat.wordpress.com jagatgurusantosh.wordpress.com  santoshkipathshala.blogspot.com     santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com 

पाँच महापातक :: ब्रह्महत्या, सुरापान, स्वर्णस्तेय, गुरुतल्पगमन और इन चतुर्विध पापों के करने वाले पातकी से संसर्ग रखना।
अतिपातक :: मातृगमन, भगिनीगमन।
अनुपातक :: शरणागत का वध, गुरु से द्वेष।
उपपातक :: स्त्रीविक्रय, सुतविक्रय।
जातिभ्रंशकरण पातक :: मित्र से कपट करना, ब्राह्मण को पीड़ा देना।
मालिनीकरण पातक :: लकड़ी चुराना, पक्षी की हत्या करना। 
अपात्रीकरण पातक :: ब्याज से जीविका चलाना, असत्य बोलना, इत्यादि।
पाप तीन प्रकार का होता है :: (1). शारीरिक-कार्मिक, (2). वाचिक और (3). मानसिक। ईश्वर की आराधना, दान-पुण्य, व्रत-उपवास, तीर्थ यात्रा, पवित्र नदियों-सरोवरों में पर्वोँ-उत्सवों पर स्नान, गरीब-मज़लूम की सहायता, धर्म-कर्म, भजन कीर्तन, साधना, तपस्या, चिन्तन-मनन आदि कुछ ऐसे उपाय हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य पाप से मुक्ति पा सकता है।  पाप मनुष्य को घोर नर्कों में ले जाते हैं। 
शारीरिक :- किसी भी प्राणी को शारीरिक आघात-कष्ट पहुँचाना। 
वाचिक :- वचनों-वाणी-शब्दों से अपमान-तिरस्कार-दिल दुखाना-क्रोध करना । 
मानसिक :- बुरा सोचना-दुर्भावना रखना-बदले की चाहत। 
पाप को प्रायश्चित, आराधना, तपस्या, दूसरों की मदद करके कम किया जा सकता है।
(1). परस्त्री की संगति, पापियों के साथ रहना और प्राणियों के साथ कठोरता का व्यवहार करना। 
(2). फलों की चोरी, आवारागर्दी, वृक्ष पेड़ काटना।
(3.1). वर्जित वस्तुओं को लेना, (3.2). वे कसूर को मारना, जेल-बन्धन में डालना, धन की प्राप्ति के लिये मुकदमा करना। 
(4). सार्वजनिक सम्पत्ति को नष्ट करना धर्म-नियमों के विपरीत चलना। 
(5). पुरश्चरण आदि तान्त्रिक अभिचरों से किसी को मारना, मृत्यु जैसा अपार कष्ट देना, मित्र के साथ छल-छंद, झूँठी शपथ, अकेले मधुर पदार्थ खाना। 
(6). फल-पत्र-पुष्प की चोरी, बंधुआ रखना, सिद्ध की प्राप्ति में बाधा डालना और नष्ट करना, सवारी के सामानों चोरी। 
(7). राजा को देय राशि में घपला, राजपत्नी का सन्सर्ग और राज्य-देश का अमंगल।
(8). किसी वस्तु या व्यक्ति पर लुभा जाना, लालच करना, पुरुषार्थ से प्राप्त धर्म युक्त धन का विनाश करना, लारमिली वाणी-चिकनी-चुपड़ीबातें करना बनाना। 
(9). ब्राह्मण को देश से निकालना, उसका धन चुराना, निंदा करना, तथा बन्धुओं से द्वेष-विरोध रखना।
(10). शिष्टाचार का नाश, शिष्ट जनों से विरोध, नादान-अबोध बालक की हत्या करना, शास्त्र-ग्रंथों की चोरी, स्वधर्म का नाश-धर्म परिवर्तन।
(11). वेद-विद्या, संधि विग्रह, यान, आसन, द्वैधी भाव, समाश्रय-राजनैतिक गुणों का प्रतिवेश। 
(12). सज्जनों से वैर, आचारहीनता, संस्कार हीनता, बुरे कामों से लगाव। 
(13). धर्म, अर्थ, सत्कामना की हानि, मोक्ष प्राप्ति में बाधा डालना या इसके समन्वय में विरोध उत्पन्न करना।
(14). कृपण,  धर्म हीनता, परित्याज्य और आग लगाने वाला।
(15) विवेकहीनता, दूसरे के दोष निकालना, अमंगल-बुरा करना, अपवित्रता एवं असत्य वचन बोलना। 
(16). आलस्य, विशेष रूप से क्रोध करना, सभी के प्रति आतताई बन जाना और घर में आग लगाने वाला।
(17). परस्त्री की कामना, सत्य के प्रति ईर्ष्या, निन्दित एवं उदण्ड व्यवहार। 
(18). देव ऋण, ऋषिऋण, प्राणियों के ग्रहण-विशेषतः मनुष्यों एवं पित्तरों का ऋण, सभी वर्णो को एक समझना, ॐ  कार  के उच्चारण में उपेक्षा भाव रखना, पापकर्मों को करना, मछली खाना तथा अगम्या स्त्री से संगत; महापाप हैं। 
(19). तेल-घृत बेचना, चाण्डाल से दान लेना अपना दोष छिपना और दूसरे का उजागर करना घोर पाप हैं। 
(20). दूसरे का उत्कर्ष देखकर जलना, कड़वी बात बोलना, निर्दयता, भयंकरता और अधर्मिकता। [वामन पुराण] 
Sin is divided into three categories ::
(1). PHYSICAL :: The abuse is carried out physically by torture, murder, beating-thrashing, assault, tying, inflicting pain by harming bodily, over powering.
(2). VOCAL :: Speaking harsh words, insult, abusing, making fun, cutting jokes, rejection, mental agony-turpitude, harassment.
(3). MENTAL :: Thinking bad of others, desire for revenge, bad motives, desire for illicit relations, sensuality, passions, pride, ego, greed. 
Any deed-action-maneuver, preformed with bad intentions to harm others, amounts to sin. Harming others whether intentional or without intention-chance-happening is sin. Penances, repentance, ascetics, prayers devotion to God, helping others-poor-down trodden-elders-needy, pity on others, forgiving.
SIN-VICE (Devil, satanic, wicked, vicious, corrupt, villain, wretch, enemy) :: One is subjected-forced into the hells for thousands and thousands of years, become insect, worm, animal, tree on his release from the hells. The God provides him with an opportunity to improve by giving birth in human incarnation. This opportunity must be utilises for our own sack.
(17.1). Company of others women, wicked and too strict behaviour.
(17.2).  Stealing of fruits, roaming aimlessly with leisure, cutting-felling of trees.
(17.3). Acceptance of restricted goods, killing, beating, imprisoning, filing of false cases against for the sake of extracting money against the innocents. 
(17.4). Destruction of community property and acting against the religious rules-scriptures-epics-code.
(17.5). Killing of people through ghostly-wretched actions, torture like-comparable to death, cheating with friends-relatives-well wishers, false promise, ignoring colleagues-friends-relatives, sitting nearby while sweets. 
(17.6). Theft of vegetation-leaves-fruits-flowers, either vehicles or their components, keeping bonded labor, creating troubles-hindrances in the way of devotees busy in meditation asceticism.
 (17.7). Contact-relations with the queen, action against the country and non payment of the state dues. 
(17.8). To become greedy (-bait, lure, to temp, to decoy,intense desire, avarice) for a person or thing,  to be greedy and to destroy the wealth-money earned through righteous-honest means. 
(17.9). To expel a Brahmn (-Pundit, scholar, learned, enlightened) from the country, snatching-looting his money-wealth-property, spoiling the money earned through righteous means-honest-pure means, envy-anguish with the relatives-friends.
(17.10).  Loss of decency, opposition with the descent people, murder of infants-kids, theft-stealing of scriptures-epics-holy-religious books, change-conversion from own religion and acting against the religion.
(17.11). Action against the Veds-Purans-Upnishads, breaking of treaties, destabilising from vehicle-seat-couch, duality in behaviour, equanimity with the political thoughts-ideas-philosophy. 
(17.12). Rivalry-enmity with the descent people-gentle men, lack of virtues-manners, lack of ethics, attachment to bad deeds-vices-wickedness-devilish.
(17.13). Loss of religiosity, money-wealth-finances-budget, loss of good thoughts-ideas, prohibiting in the attainment of Liberty-Salvation-The Ultimate-Almighty.
(17.14) Miserliness, lack of religiosity, one to be rejected-expelled from family-society and the one who ignites fire to others possessions.
(17.15). Imprudence, finding faults with others, doing bad, impurity and speaking untrue-slur.
(17-16). Laziness, furor-being angry-anguish, becoming tyrant to all, burning homes-houses-inhabitants-huts-tents. 
(17.17). Desire for someone else's wife-abduction-forcefully or otherwise luring others women, enmity for truth, bad insensitive abnormal behaviour.
(17.18). All sorts of debt pertaining to elders, ancestors-failure to pay debt-debt servicing, considering all castes to be equal, keeping anti opinion-negligence-rejection-opposition against the pronunciation of Om-Onkar-ॐ : the sound created at the time of evolution, eating fish, sex with impure-wretched women are extreme sins.
(17.19). Selling of oil-ghee, accepting of donations-charity from a Chandal-one who performs last rights in cremation ground-extremely low caste person who lives away from the periphery of civilians-cities, hiding of own faults and exposing others are the ulterior sins.
(17-20). To envy others rise, always speaking the bitter, lack of pity, to act terribly like a monster-fearsome-terrible-dangerous-desolate.

Prayers, donations-charity, fasting, bathing in pious rivers-ponds-lakes on auspicious occasions-festivals, vising holy places-holy rivers, helping poor-down trodden-weaker sections of society, participation in religious activities, chanting-recitation-singing-celebrating-remembering of God's names on auspicious occasions, meditation, asceticism, thinking-analysing God's deeds are some of the actions which helps in getting rid from sins. sins carry the sinners to rigorous hells. On being released from them the soul goes to the species like insects-worms-animals.
मृत्यु :: शरीर में जब वात का वेग बढ़ जाता है तो उसकी प्रेरणा से ऊष्मा अर्थात पित्त का प्रकोप भी हो जाता है।  वह पित्त सारे शरीर को घेर कर सारे सम्पूर्ण देशों को आवर्त के लेता है और प्राणों के स्थान और मर्मों का उच्छेद कर डालता है। फिर शीत से वायु का प्रकोप होता है और वायु अपने निकलने का स्थान-छिद्र ढूढ़ने लगती है। 
दो नेत्र, दो कान, दो नासिका और एक मुँख: ये सात छिद्र हैं और आठवाँ ब्रह्मरन्ध्र है। शुभ कार्य करने वाले मनुष्यों के प्राण प्रायः इन्हीं पूर्व सात मार्गों से निकलते हैं। धर्मात्मा जीव को उत्तम मार्ग और यान द्वारा स्वर्ग भेजा जाता है। 
नीचे भी दो छिद्र हैं: गुदा औए उपस्थ। पापियों के प्राण इन्हीं छिद्रों से निकलते है। 
योगी के प्राण मस्तक का भेदन करके ब्रह्मरन्ध्र से निकलते हैं और जीव इच्छानुसार अन्य लोकों में जाता है।
जीव को यमराज के दूत आतिवाहिक शरीर में पहुंचते हैं। यमलोक का मार्ग अति भयंकर और 86,000 योजन लम्बा है। यमराज के आदेश से चित्रगुप्त जीव को उसके पाप कर्मों के अनुरूप भयंकर नरकों में भेजते हैं। 
DEATH :: Enhancement of the flow of air in the body-blood enhances the bile juices as well. This bile covers the entire body through nervous system, blood circulatory system and the skin. It attacks-targets the soft points-centres of the other  airs (-heart, lungs) in the body. This lead to lowering of body temperature-cold.This cold strengthens the attack of the air in the body further, which start tracing the opening for release.
Humans have 2 ears, 2 nostrils, 2 eyes and a mouth, a total of 7 openings-outlets and the 8th is the Brahm Randhr-the ultimate outlet for the soul-Vital. The soul-Pran Vayu of pious-virtuous-righteous releases through these 7 openings. The pious-virtuous, righteous gets heaven by the sanction of Yam Raj. Chitr Gupt send him there through excellent routes by planes.
There are 2 more out lets for the release of Pran Vayu-the vital force-energy: The anus and the pennies. The soul of the wicked-sinner leaves the body through them.
The Yogi has the ultimate outlet for the soul-the Brahm Randhr. The soul explodes the skull and leaves the body to the abodes of its choice, in a divine formation-incarnation achieved by it.
The dead-deceased gets another identical non material body which is moved to hell through a distance of 86,000 Yojan which is very painful. There Yam Raj looks at him and Chitr Gupt thereafter send him to hell, which are extremely painful-torturous. What one gets here is the outcome of his deeds? As one sows, so he gets, here.This is absolute justice.
नरकों का वर्णन :: पापी जीव को यमदूत दुर्गम मार्ग से यमपुरी के दक्षिण द्वार से यम राज के पास ले जाते है। तत्पश्चात उन्हें नरकों में गिरा दिया जाता है।
गौ हत्यारा: महा वीचि में एक लाख वर्ष तक पीड़ित किया जाता है।
ब्रह्मघाती-हत्यारा: अत्यन्त दहकते हुए ताम्रकुम्भ में फेंका जाता है।
भूमिका अपहरण करने वाला: महा प्रलयकाल तक रौरव-नरक में धीरे-धीरे दुःसह पीड़ा दी जाती है। 
स्त्री, बालक, वृद्ध हत्यारा: 14 इन्द्रों के राज्य काल तक महारौरव में क्लेश भोगते हैं।
दूसरे के खेत और घर को जलाने वाला: भयंकर-महारौरव में एक कल्प पर्यन्त तक पकाये जाता है।
चोरी करने वाला: तामिस्त्र में अनेक कल्पों तक यमराज के अनुचरों द्वारा भालों से बींधा जाता है। उसके बाद महा तामिस्त्र में सर्पों और जोकों द्वारा पीड़ित किया जाता है। 
मातृघाती : असिपत्रवन में उनके अंग तब तक कटे जाते हैं, जब तक पृथ्वी है। 
दूसरे प्राणियों के ह्रदय को जलाने वाला: करम्भ वालुका में जलती हुई रेत में भुना जाता है। 
दूसरों को दिए बिना अकेले मिष्ठान्न खाने वाला: काकोल में कीड़ा और विष्ठा का भक्षण करता है। 
पञ्च महायज्ञ और नित्य कर्म का परित्याग करने वाला: कुट्टल में मूत्र और रक्त का पान करता है। 
अभक्ष्य का भक्षण करने वाला: महा दुर्गन्धमय नरक में गिरकर रक्त का आहार करता है। 
दूसरों को कष्ट देने वाला: तैलपाक में तिलों की भांति पेरा जाता है। 
शरणागत का वध करने वाला: तैलपाक में गिराया जाता है। 
यज्ञ में प्रतिज्ञा करके न देने वाला: निरुच्छास में पड़ता है। 
रस-विक्रय करने वाला: वज्रकताह में पड़ता है। 
असत्यभाषण करने वाला: महापात में गिराया जाता है। 
पापपूर्ण विचार करने वाला: महाज्वाल में पड़ता है। 
अगम्य स्त्री के साथ गमन करने वाला: क्रकच में पड़ता है। 
वर्णसंकर संतान उत्पन्न करने वाला: गुडपाक में पड़ता है। 
दूसरों के मर्म स्थल पर पीड़ा पहुँचाने वाला: प्रतुद में पड़ता है। 
प्राणी हिंसा करने वाला: क्षारहृद में पड़ता है। 
भूमि का अपहरण करने वाला: क्षुरधार में पड़ता है। 
गौ और स्वर्ण की चोरी करने वाला: अम्बरीष में पड़ता है। 
वृक्ष काटने वाला: वज्र शस्त्र में पड़ता है। 
मधु चुराने वाला: परिताप में पड़ता है। 
दूसरों का धन अपहरण करने वाला: कालसूत्र में पड़ता है। 
अधिक माँस खाने वाला: कश्मल में पड़ता है। 
पितरों को पिंड न देने वाला: उग्र गन्ध में पड़ता है। 
घूस खाने वाला: दुर्धर में पड़ता है। 
निरपराध मनुष्यों को कैद करने वाला: लौहमय मंजूष में ले जाकर कैद किये जाते हैं।
वेदनिन्दक:अप्रतिष्ठ में गिराया जाता है। 
झूठी गवाही देने वाला: पूति वक्त्र में पड़ता है। 
धन का अपहरण करने वाला: परिलुण्ठ में पड़ता है।
स्त्री, बालक, वृद्ध हत्यारा और ब्राह्मण को पीड़ा देने वाला:कराल में गिराया जाता है। 
मद्यपान करने वाला ब्राह्मण: विलेप में गिराया जाता है। 
मित्रों में परस्पर भेदभाव करने वाला: महाप्रेत में गिराया जाता है। 
पराई स्त्री का उपभोग करने वाला और अनेक पुरुषों से सम्भोग करने वाली स्त्री: शाल्मल में जलती लौहमयी शिला रूपी अपने प्रेमी के साथ आलिंगन करना पड़ता है। 
चुगली करने वाला: उसकी जीभ खींचकर निकल ली जाती है। 
पराई स्त्री को कुदृष्टि से देखने वाले की आँख भोड़ दी जाती है।
माता और पुत्री के साथ व्यभिचार करने वाला: धधकते हुए अंगारों पर फैंक जाता है। 
चोर: छुरी से कटे जाते हैं। 
मांस भक्षण करने वाला: उसी का माँस नरपिशाचों को काटकर खिलाया जाता है। 
मासोपवास, एकादशी व्रत अथवा भीष्म पञ्चक व्रत करने वालों को नरकों में नहीं गिराया जाता।  
The sinner is taken to Yam Puri through South opening-gate to be presented before Yam Raj for award of rigorous punishments for his sins. Chitr Gupt pronounce his sins. On hearing those Yam Raj ask the dreaded Yam Doots-messengers-agents to through the sinner in various Hell. 
Cow slaughters-butchers: Maha Vichi for torturous 1.00,000 years.
Killer of Brahmns: Thrown into flaming-burning Tamrkumbh.
Land grabber-snatcher: He is tortured extremely and slowly in Maha Rourav hell till the Dooms day.
Killer of children, women and the old: He bears extreme troubles-tensions in Maha Rourav hell till the period of 14 Indr-the king of heavens is elapsed.
One who burns the crops and homes of others: He is cooked for one Kalp-Brahma Ji's one day, in dangerous-dreaded Maha Rourav.
Thief: He is pierced for many Kalps by the servants of Yam Raj in Tamistr. Thereafter he is tortured by snakes and leeches.
Mother's murderer-killer: His organs are cut in the Asiptr Van till the earth survives.

No comments:

Post a Comment