Thursday, May 30, 2013

LINES OVER THE FOREHEAD मस्तक रेखाएँ

 LINES OVER THE FOREHEAD 
मस्तक रेखाएँ 
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By:: Pt. Santosh Bhardwaj  
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com   bhagwatkathamrat.wordpress.com
santoshhastrekhashastr.wordpress.com  dharmvidya.wordpress.com
The first line over the forehead represents Saturn, followed by the lines of Jupiter and Mars respectively. The line just above our right eye brow is the Sun Line while  the one just above our left eye brow is Moon line.
Image result for forehead lines readingThe place in between the Sun and Moon-Lunar lines & the eye brows, is the residence of the Venus line and jut below the Venus line, the Line of  Mercury is present.  
A line which very straight, in isolation with any other line, very short in length, discontinuous-broken at several places, badly formed, will indicate decline in the qualities represented by the corresponding planet of that line.
(1).  A line rising up from Saturn Line is not considered auspicious. It could be vertical line or slanting line on left side or right side. There may be several lines forming the shape of V, U, L, I, K, H or W. Depending on the place where it is found,  struggle of  different nature is predicted.
(2). If sun and moon lines are formed nicely, native would not lead a bad life, his life would be average in terms of everything, even if Saturn and Mars lines are discontinuous at several locations and the Jupiter line is short.
(3). Nicely formed Saturn line gives the bearer a good vision, serious nature, thinking mind and reasonable.
(4). If Saturn line is discontinuous at several places, Jupiter line is long and straight, Mars line have just one cut in the middle and Venus line has a cut in the middle portion, the native would be minister, soft spoken and easy going.
(5). RAJ YOG: If both Jupiter and Saturn line have a half moon over them, sun and moon lines are well connected, the native would be empowered with administrative abilities and Raj Yog.
(6). If Saturn Line is short in length, Jupiter line is discontinuous in the middle, Mars line is long, slanting and is bending on one side, Venus line breaks in the middle and one small line is cutting the Venus line from right side, the native will be arrogant, disposed to anger, passionate, sexy and vulpturous with wretchedness. 
(7). Saturn line is deep-well cut, slightly bent, Jupiter line long, bent from both sides and Sun line breaks-discontinues in the middle, the native would be beautiful, happy, knowledgeable, generous, famous and respectable.
(8). Saturn and Jupiter lines have half moons, Saturn line short and both eye brows meet, makes the native  rich, highly passionate-sexy and a liar (-झूँठा).
(9). Saturn line is of the bow shaped, Jupiter line resembles a serpent-irregular-wavy-curved, Mars line is long, Sun line has a branch, and Venus line gets discontinuous from middle, the native would be courageous, but disturbed with wanting nature. He may not be successful in life.
(10). Saturn line is long and Jupiter Line is serpentine, the bearer would be dominated and afraid of spouse.
(11). 2 lines cut a straight Saturn line and Jupiter, Mars lines gets discontinuous from middle, the native may loose his properties and wealth.
(12). presence of a trident between Sun and Jupiter lines, will help the native in acquiring divine powers. If a line cuts Jupiter line over the Sun line, the native will have some Siddhi.
(13). Jupiter line is short, Mars line is deep and well cut, Saturn line is wavy and discontinuous from lower segment and wavy Sun line gets discontinuous from middle; such a person would be a fool, thief, arrogant and disposed to anger.
(14). The lines originating from Mars lines repeatedly cut Sun line, the unfortunate would face financial troubles.
(15). Mars and Saturn lines gets discontinuous from middle and Jupiter line gets bends downward from the middle segment, the native would have vision and would be fortunate. Both Jupiter and Saturn line meet each other after being discontinuous, the native will destroy his life.
(16). Mars line is bends towards Moon line with a dark spot on Mars line, Saturn line is long and deep, Jupiter line is short, the bearer is ruthless and selfish.
(17). Mars line is short, Saturn line is straight and Jupiter line bends a little, the possessor is fortunate.
(18). Mars line is discontinuous from middle,  Sun line is long the native would be rich, generous and intelligent. These natives give happiness to others.
(19). There are many half Moon like lines present above Saturn line, line of Jupiter is long and serpentine, the native would always feel insecure, afraid of something and unhappy. One should remain careful w.r.t. water as they may get harmed from water.
(20). Saturn line is straight and gets discontinuous from lower part, many bow like signs on Jupiter line, Mars line has a branch attached to it, Sun line is serpentine , Venus line  is deep and  discontinuous from middle; the native would be virtuous, intelligent, generous, religious, teacher, famous and would love to travel.
(21). Saturn line  deep, Jupiter line short, Mars line deep & thin,  Sun line bent and 2 lines should cut it. One is disposed to anger, quarrelsome, highly sexed and will get an injury from a weapon.
(22). There is only one single long line on the forehead with the shape of a bow, the native is good natured with love for traveling. But, he might be involved into bad deeds.
(23). The forehead has 4 lines. Venus, Saturn lines gets cut by the remaining 2  lines, the native would be easy going, intelligent and of sound character.
(24). Many branch lines from Venus line to Moon line shows bad financial position of the native.
(25). Forehead has only one long serpentine line and there are 2 vertical lines over Mercury, the person would be a good speaker-orator and would remain in midst of women.
(26). Jupiter line is thick and long, Saturn line is thin, the native is dangerous for others.
(27). Saturn line has depth, with lot of hairs between eye brows, the native would be desperate for marriage and would be rich.
(28). Bow like formation of Jupiter and Saturn lines makes the native courageous but he would do bad deeds.
(29). Jupiter line is long and thin, the native would be fortunate and beautiful.
(30). Jupiter and Saturn lines are serpentine, the native would be a liar and selfish and if they both touches each other,he would be quarrelsome.
(31).  Saturn line is long and Mars line is serpentine, the native would have high status.
(32).   A trident is present between eyes brows, the native would definitely loose one of his body parts.
(33).   Small sun line and long Venus line makes the native clever and fortunate.
(34).   Many small broken lines on forehead make the native suffer a lot.
(35).  Jupiter and Saturn line meets each other, the native would be hanged till death.
(36).  Jupiter line is serpentine, the native would be very greedy.
(37).  3 main lines of Jupiter, Saturn and Mars are clearly visible on forehead and 
are straight, easy going and clear, the native would be very fortunate.
(38).  A very long and deep tilted Saturn line makes the native highly passionate, sexy and a bad character. The serpentine line with Mars line will make one a criminal.
(39).  4 clear lines on forehead give native a good character and intelligence.
40).   Jupiter and Mars lines are broken, the native would be financially destabilized.
(41).  Branches in Jupiter line makes one a liar, who will do bad deeds.
(42).  2 vertical lines become visible 
while laughing, between the eye brows, makes the native fortunate & endowed with virtues.
(43). The downwards orientation of forehead with visible nerves, makes the possessor unhappy and entangled with vices.
(44).   A sign of bow, trident and Vajr-thunderbolt on forehead, makes one dearest to the virtuous women.
(45).  Forehead has blue nerves forming vertical line on the Venus and Mercury area and the shape of the forehead resembles half moon, it would make the person happy and rich.
(46).  The lines are not visible over the forehead which is very smooth and slanting, in addition to the visibility of nerves in case of excitement, makes one an intelligent person. 
(47).  The height of forehead is equivalent to the height of his nose and the breadth of forehead is double the length of nose and if one has well developed ears, the possessor will be an ideal person.
(48).  Jupiter line gets divided in two parts leads to financial instability. A short Mars line is present at the middle of forehead may also show this effect.
(49).  A branch from the Mars line goes towards the Sun line, it shows promotions in Job or profits in business.
(50). Isolation, if a line is short, discontinuous on several places, badly formed, then it shows the decline in the qualities represented by the corresponding planet.
मस्तक रेखाएँ :: सामुद्रिक शास्त्र, भारतीय ज्योतिष का एक प्रमुख अंग है। इसके आधार पर विभिन् अंगों की सरंचना को देख आप व्यक्ति के बारे में बता सकते हैं। किसी पुरुष के मस्तक को देखकर उसके बारे में कैसे आंकलन किया जा सकता है। 
(1). किसी मनुष्य के ललाट में स्वच्छ, सरल, गम्भीर, पूर्ण तथा स्पष्ट रेखा होने से, वह व्यक्ति सुखी एंव दीर्घायु होता है। छिन्न-भिन्न रेखा से दुःखी और अल्पायु माना जाता है। ललाट में उद्धव रेखा, त्रिशूल स्वास्तिक आदि के बने होने से, धन पुत्र एंव स्त्री युक्त होकर मनुष्य सुखमय जीवन व्यतीत करता हैं।
 (2). जिसके मस्तक पर  रेखाएँ नहीं होती है, वह पुरूष धनी दीर्घजीवी होता है। जिनका ललाट गहरा हो, वह पुरुष अपराध करने में नहीं चूकता और  हत्या तक कर सकता है। ऐसा व्यक्ति कारावास भोगता है। मस्तक में एक रेखा का पूर्णमान लगभग 20 वर्ष माना जाता है। इसी अनुपात से अनुभव द्वारा मनुष्य की आयु का भी निर्णय किया जाता है। 
(3). जिस व्यक्ति का मस्तक उपर से उठा हुआ हो तथ नीचे से झुका हो, वह मनुष्य अधिक स्त्रियों से विवाह करने वाला होता है। ऐसे पुरूष अधिक शिक्षा प्राप्त करके उच्च मुकाम हासिल कर लेते है। इनका स्वास्थ्य बहुत अच्छा नहीं होता है।
(4). जिस पुरूष का मस्तक चैड़ा हो, वह व्यक्ति अधिक पुत्रों वाला होता है, परन्तु काम-धन्धे को लेकर परेशान रहता है। इनकी सन्तान भाग्यशाली एंव कर्मठ मानी जाती है। 
(5). जिस पुरूष का मस्तक छोटा हो, वह मनुष्य अधिक पुत्रियों वाला होता है। ऐसे व्यक्ति कठोर परिश्रम करके ही अपने जीवन का निर्वाहन कर पाते है।
(6). पुरूष के मस्तक पर जितनी रेखाये बनी हो, उसके उतने ही भाई-बहन होने की सम्भावना होती है। मोटी रेखायें भाई की एंव पतली रेखायें बहन की मानी जाती है।
(7). जिस व्यक्ति का मस्तक नीचे से उपर की ओर उठा हुआ हो, वह मनुष्य धैर्यशील, धनवान बुद्धिमान होता है। ये प्रेम के मामलें में काफी अग्रणी होते है। इनका वैवाहिक जीवन सरल एंव सुखमय व्यतीत होता है। 
(8). जिस व्यक्ति के मस्तक पर छोटा सा चाॅद बना हुआ हो, उस मनुष्य पर ईश्वर की विशेष कृपा होती है। ऐसे पुरूष उच्च स्तर के सन्यासी, उपदेशक एंव योगी होते है।
शनि रेखा :: इस रेखा का स्थान मस्तक में सबसे ऊपर होता है। यह रेखा अधिक लंबी नहीं होती, केवल मस्तक के मध्य भाग में ही दिखाई देती है। इस रेखा के आस-पास का भाग शनि ग्रह से प्रभावित माना जाता है। जिसके मस्तक पर यह रेखा स्पष्ट दिखाई देती है, वह गंभीर स्वभाव का होता है। यदि एक उन्नत मस्तक (थोड़ा उठा हुआ) पर शनि रेखा हो तो ऐसे लोग रहस्यमयी, गंभीर थोड़े अंहकारी होते हैं। इनके बारे में अधिक जानकारी बहुत कम लोगों के पास होती है। ये सफल जादूगर, ज्योतिर्विद या तांत्रिक हो सकते हैं।
बृहस्पति (गुरु) रेखा :: मस्तक पर शनि रेखा से थोड़ी नीचे गुरु रेखा का स्थान होता है। यह रेखा आमतौर पर शनि रेखा की तुलना में थोड़ी लंबी होती है। यह रेखा पढ़ाई, विचार, अध्यात्म, इतिहास संबंधी रुचि एवं महत्वाकांक्षा आदि की सूचक होती है। जिस व्यक्ति के मस्तक पर यह रेखा लंबी एवं स्पष्ट दिखाई देती है, वह आत्मविश्वासी अपनी बात का पक्का होता है। ऐसे लोगों पर आंख मूंद कर विश्वास किया जा सकता है। ऐसे लोग सरकारी नौकरी या शिक्षा के क्षेत्र में अपना नाम कमाते हैं।
मंगल रेखा :: मस्तक के बीच में कुछ ऊपर एवं गुरु रेखा के नीचे मंगल रेखा होती है। इस रेखा की प्रवृत्ति को समझने से पूर्व व्यक्ति के दोनों कानों के ठीक ऊपर के स्थानों तथा उससे कुछ आगे कनपटियों के ठीक ऊपर के स्थानों को भी देखना चाहिए। यदि एक सपाट या उन्नत मस्तक पर मंगल रेखा अपने शुभ गुणों के साथ हो और व्यक्ति के कनपटी से ऊपर के स्थान थोड़े उठे हुए हों तो ऐसा व्यक्ति साहसी, स्वाभिमानी, वीर, धर्मालु, दूरदृष्टि रखने वाला, समझदार एवं रचनात्मक प्रवृत्ति का होता है। ऐसे लोग किसी प्रशासनिक पद पर, सेना या पुलिस के अधिकारी अथवा राजदूत हो सकते हैं। लेकिन यदि एक निम्न या संकुचित मस्तक पर अशुभ गुणों से युक्त मंगल रेखा हो और कनपटी के ऊपर के भाग भी उन्नत हों तो ऐसा व्यक्ति अपराधी प्रवृत्ति का होता है। ऐसे लोगों को बहुत जल्दी गुस्सा जाता है और वे किसी के साथ कुछ भी कर बैठते हैं।
बुध रेखा :: इस रेखा का स्थान लगभग मस्तक के बीच में होता है। यह रेखा लंबी होती है और कभी-कभी तो व्यक्ति की दोनों कनपटियों के किनारों को स्पर्श करती हुई दिखाई देती है। बुध रेखा व्यक्ति की याददाश्त, अन्य विषयों में उसका ज्ञान, सूझ-बूझ एवं ईमानदारी की सूचक होती है। यदि यह रेखा शुभ गुणों से युक्त हो तो ऐसा व्यक्ति तेज याददाश्त वाला, कलात्मक कामों में रुचि लेने वाला, सही-गलत की सोच रखने वाला, उच्च मानसिक क्षमता वाला पारखी प्रवृत्ति का होता है। ऐसे लोगों में किसी भी इंसान को पहचानने की क्षमता सामान्य तौर पर अधिक होती है।
शुक्र रेखा :: इस रेखा का स्थान बुध रेखा के ठीक नीचे केवल मध्य भाग में होता है। यह रेखा आमतौर पर छोटे आकार की होती है। यह रेखा उत्तम स्वास्थ्य, भ्रमण प्रवृत्ति, आकर्षक एवं सम्मोहक व्यक्तित्व की सूचक होती है। उन्नत मस्तक पर यदि यह रेखा स्पष्ट रूप से दिखाई दे तो ऐसा व्यक्ति स्फूर्ति, आशा उत्साह से भरा रहता है। ऐसे व्यक्ति उच्च जीवन शक्ति से युक्त, घूमने-फिरने वाले, सौंदर्य प्रेमी एवं जरूरी मुद्दों पर गंभीर होते हैं। ऐसे लोग स्वच्छ, साफ तथा सफेद रंग अधिक पसंद करते हैं।
सूर्य रेखा :: इस रेखा का स्थान मनुष्य की दाईं आंख की भौंह के ऊपर होता है। यह रेखा अधिक लंबी नहीं होती, सिर्फ आँख के ऊपर सीमित होती है। यह रेखा प्रतिभा, मौलिकता, सफलता, यश तथा समृद्धि की प्रतीक होती है। यदि यह रेखा शुभ गुणों से युक्त हो तो ऐसे व्यक्ति में अद्भुत सूझबूझ होती है। ऐसे लोग अनुशासन में रहना पसंद करते हैं। ये लोग अच्छे गणितज्ञ, शासक या नेता हो सकते हैं। ये अपने सिद्धांतों तथा व्यवहार से लोगों को बहुत जल्दी प्रभावित कर लेते हैं।
चंद्र रेखा :: यह रेखा बांई आँख की भौंह के ऊपर होती है। यदि यह रेखा सरल, सीधी स्पष्ट हो तो ऐसा व्यक्ति कलाप्रेमी, एकांतप्रिय, विकसित बुद्धि वाला तथा कल्पनाशील होता है। इनकी रुचि चित्रकला, गायन, संगीत आदि क्षेत्रों में होती है। कभी-कभी ऐसी रेखा वाले लोग आध्यात्म प्रिय सिद्ध एवं दूरदृष्टि वाले होते है।
मस्तक रेखा से आयु का ज्ञान :: (1). मस्तक पर दो पूर्ण रेखाएँ हों तो मनुष्य की आयु लगभग 60 वर्ष होती है। 
(2). सामान्य मस्तक पर तीन शुभ रेखाएँ हो तो मनुष्य करीब 75 वर्ष की आयु प्राप्त करता है. यदि मस्तक श्रेष्ठ हो तो जातक की उम्र और भी अधिक होती है। 
(3). निम्न-ललाट पर भी शुभ गुणों से युक्त चार रेखाएँ हों तो जातक की आयु लगभग 75 वर्ष होती है। 
(4). सामान्य मस्तक पर पाँच उत्तम रेखाएँ हों तो ऐसे जातक सौ वर्ष तक सुख भोगते हैं। 
(5). यदि उन्नत मस्तक पर पाँच से अधिक रेखाएँ हों तो जातक की आयु मध्यम और यदि मस्तक निम्न श्रेणी का हो तो जातक अल्पायु होता है। 
(6). माथे की किन्हीं दो रेखाओं के किनारे आपस में एक-दूसरे का स्पर्श करते हैं तो ऐसे जातक की आयु करीब 60 वर्ष होती है। 
(7). ललाट पर यदि कोई रेखा हो तो व्यक्ति 25 से 40 वर्ष की आयु में पीड़ा पाता है। 
कटी हुई रेखाएं :: वहीं अगर ये रेखाएं पूरी ना होकर बीच में कट जाती हैं तो ऐसे व्यक्ति को जीवनभर परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
सामान्य व्यक्ति :: अगर किसी सामान्य व्यक्ति के मस्तिष्क पर तीन रेखाएं होती हैं तो उसकी उम्र कम से कम 75 वर्ष तक होती है।
पांच रेखाओं का अर्थ :: मस्तिष्क पर 5 या पांच से अधिक रेखाओं का अर्थ है कि व्यक्ति मध्य आयु का होगा और संभावना है कि वह 66 वर्ष की उम्र तक जीवित रहे।
एक भी रेखा ना होना :: रंतु अगर मस्तिष्क पर एक भी रेखा नहीं है तो यह गंभीर विषय है क्योंकि मुमकिन है वह व्यक्ति अल्पायु हो और सिर्फ 25-40 वर्ष तक ही जीवित रहे और वो भी ताउम्र बीमारियों को झेलने के बाद।
रेखाओं का एक-दूसरे से जुड़ना :: अगर मस्तिष्क की रेखाएं अंत में जाकर एक-दूसरे से मिल जाती हैं तो यह व्यक्ति के साठ वर्षीय जीवन की बात कहता है।



No comments:

Post a Comment