Monday, April 8, 2013

AYURVED: CHAPTER (I) MIRACLE AMAZING WONDER HERBS आयुर्वेद: अध्याय (I) चमत्कारी जड़ी बूटियाँ

AYURVED: CHAPTER (I) MIRACLE AMAZING WONDER HERBS आयुर्वेद: अध्याय (I) चमत्कारी जड़ी बूटियाँ 
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By:: Pt. Santosh Kumar Bhardwaj  
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com   bhagwatkathamrat.wordpress.com
This chapter constitutes the first part of 
DOMESTIC-HOME REMEDIES TO KEEP FIT दादी माँ के नुख्से over: santoshsuvichar.blogspot.com
(I)
A number of chapters are available in Agni Puran, which describes a number of herbs-preparations, which have miraculous-wonderful curative effects, in addition to increasing life span. All these, all freely available in the market at extremely low prices. These are tried and trusted for ages, still one may subject them to clinical tests. No one should try to obtain patents, anywhere in the world, since these medicines are in use in Ayurvedic system of medicine and cure.
LONGEVITY 100-1,000 YEARS  मृत्युन्जय-योग 
सौ साल तक आयु(1) निम्ब के  तैल की मधु सहित नस्य लेने से मनुष्य सौ साल जीता है और उसके बाल हमेशां काले बने रहते हैं। (2) कमल गन्ध का चूर्ण भांगरे  के रस की भावना देकर मधु और घृत की साथ लेने पर सौ वर्ष की आयु प्रदान करता है। (3) असगन्धत्रिफला,चीनी,तैलघृत में सेवन करने वाला सौ साल तक जिन्दा रह सकता है। (4) गदहपूर्ना  का चूर्ण एक पल मधुघृत और दुग्ध के साथ खाने वाला शतायु होता है। (5) अशोक की छाल का एक पल चूर्ण मधु और घृत के साथ दुग्धपान करने से रोग नाश होता है। (6) बहेड़े के चूर्ण को एक तोला मात्रा में शहद , घी और दूध के साथ पीने वाला शतायु होता है। (7) पिप्पली युक्त त्रिफलामधु और घृत के साथ। (8) खांड युक्त दूध पीने से। Drinking of milk with raw sugar enhances longevity to 100 years. (9) शर्करासैन्धव और सौंठ के साथ अथवा पीपलमधुएवं गुड़ के साथ प्रति दिन दो हर्रे का सेवन करें। 
दो सौ वर्ष की आयु: (1)कड़वी तुम्बी के एक तोले भर तैल का नस्य दो सौ वषों की आयु प्रदान करता है। (2)सौंठ का चित्रक  विडंग के साथ प्रयोग भी लम्बी आयु दायक है। 
तीन सौ वर्ष की आयु: (1) लौह भस्म  शतावरी को भृंगराज रसमें भावना देकर मधु  घी के साथ लेने से तीन सौ वर्ष की आयु प्राप्त होती है।  (2) त्रिफला,पीपल और सौंठ का प्रयोग तीन सौ वर्ष की आयु प्रदान करता है। (3) त्रिफलापीपल और सौंठ का चित्रक के साथ प्रयोग भी तीन सौ वर्ष की आयु प्रदान करता है। (4) मधु (-honey), त्रिफलाघृत (-clarified butter), गिलोय।  Cures all diseases and extends life span up to 300 years, provided its added with chastity. (5) हरीतकी चूर्ण भृंगराज रस की भावना देकर एक तोले की मात्रा में घृत और मधु के साथ सेवन करने वाला रोगमुक्त होकर तीन सौ साल की उम्र तक जीता है। (6) हर्रे, चित्रक, सौंठ, गिलोय और मुसली का चूर्ण गुड़ के साथ खाने पर सभी रोगों का नाश होता है और 300 वर्ष की आयु प्राप्त होती है। 
पाँच सौ साल की आयु : (1) ताम्र भस्मगिलोयशुद्ध गंधक को सामान भाग घी कुंवार के रस में घोंट कर दो-दो रत्ती की गोलियां बनायें। इनका सेवन घृत के साथ करने से पाँच सौ साल की आयु प्राप्त होती है।(2) गेठीलोह चूर्णशतावरी को समान भाग से भृंगराज रस तथा घी के साथ लेने से पांच सौ वर्ष की आयु प्राप्त होती है (3) पलाश-तैल का मधु के साथ,1 तोलेदूध के साथ प्रति दिन 6 मास तक सेवन करने से आयु 5 सौ वर्ष हो जाती है। (4) बिल्व-तैल  का नस्य एक मास तक लेने से आयु  को 500साल तक बढ़ाता है। Extends age up to 500 years. (5) त्रिफला  4 तोले, 2 तोले  या  1 तोले:  Extends age up to 500 years. (Tola-measure for weighing around 40 grams).
एक सहस्त्र वर्ष की आयु: (1) पथे के एक पल चूर्ण को मधु घृत और दूध के साथ सेवन करते हुए दुग्धान्न का भोजन करने वाला निरोग रहकर एक सहस्त्र वर्ष की आयु का उपभोग करता है। (2) कांगनी के पत्तों का रस या त्रिफला दूध के साथ लेने से 1 हजार वर्ष की आयु प्राप्त होती है। (3) शतावरी का त्रिफलापीपल और सौंठ का प्रयोग सहस्त्र वर्ष की आयु  अत्यधिक बल प्रदान करता है। 
हजारों वर्ष की आयुतोले शतावरी-चूर्ण (-powdered Asparagus racemosus), घृत  मधु के साथ लेने से हजारों वर्ष की आयु प्राप्त होती है।
PROTECTION FROM AGING & DEATH अपमृत्यु और वृद्धावास्था (1) भिलावा और तिल  का सेवन रोगअपमृत्यु और वृद्धावास्था  को दूर करता है। (2) 4  तोले मधु+घी+सोंठ  की 4 तोले की मात्रा का  प्रति दिन प्रातः काल उपयोग  करने से व्यक्ति मृत्यु पर विजय प्राप्त करता है।  Anyone who consumes around 40 grams of honey+ghee+sonth (-dried powdered ginger), every day in the morning wins death. (3) मधु (-honey-Mel despumatus) के साथ उच्चटा (-भुईं आंवला ) को एक तोले की मात्रा में खाकर दुग्धपान करने वाला मनुष्य मृत्यु पर विजय प्राप्त करता है। Death is  conquered  by the use of this combination, regularly. (4) मेउड़ की जड़ का चूर्ण या पत्र स्वरस रोग एवं मृत्यु का नाश करता है। (5) नीम (-Azadirachta indica) के पंचांग-चूर्ण को ख़ैर के क्वाथ (काढ़ाकी भावना देकर भृंगराज (-Eclipta alba) के रस  साथ एक तोला भर सेवन करने मनुष्य रोग को जीत कर अमर हो सकता है। (6) रुदन्तिका चूर्ण घृत और मधु के साथ सेवन करने से या केवल दुग्धाहार से मनुष्य मृत्यु को जीत लेता है। 
झुर्रियां  बाल सफ़ेद पर रोकब्राह्मी चूर्ण के साथ दूध का सेवन करने चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़तीं और बाल सफ़ेद नहीं होते  आयु वृद्धि होती है। Use of Brahmi(-Bac0pa monnieri) powder with milk protect against wrinkle formation and graying of hair, in addition of boosting of age.
LONG LIFE: त्रिफलापीपलसौंठ का लोहभृंगराजखरेटीनिम्ब-पञ्चांगख़ैरनिर्गुण्डीकटेरीअडूसा और पुनर्नवा के साथ या इनके रस की भावना देकर या इनके संयोग से बटी या चूर्ण बनाकर उसका घृतमधुगुड़ और जलादि के साथ सेवन करने से लम्बी उम्र की प्राप्ति होती है। 
 ह्रूं :मन्त्र से अभिमंत्रित योगराज मृतसंजीवनी के समान होता हैयह रोग  मृत्युपर विजय प्रदान करता है। 
स्त्री संभोग: उड़दपीपलअगहनी का चावलजौ और गेंहू-इन सबका चूर्ण सामान मात्रा में लेकर घृत में पूरी बना लें इसका भोजन करके शर्करा युक्त दुग्ध का सेवन करें  
स्त्री प्रिय: आंवले के स्वरस से भावितआंवले के चूर्ण को मधुघृत तथा शर्करा के साथ चाट कर दुग्ध पान करें। 
 ह्रूं एवं  जूं  मृतुन्जय मन्त्र हैं। यदि विधि-विधान के साथ इनका निरन्तर जप किया जाये तो अपेक्षित परिणाम मिलते हैं। 
(II)
This chapter will prove to be immense help to the health conscious,  if studied along with Pranayam and Longevity of this blog.
वात ज्वर: बिल्वादि पंचमूल-बेलसोनापाठागम्भारपाटनएवं अरणी का काढ़ा प्रयोग करें। 
पाचन: पिप्पली मूलगिलोय और सोंठ का क्वाथ प्रयोग करें।
ज्वर: आंवलाअभया (बड़े हरै ), पीपल और चित्रक-यह आमल क्यादि  क्वाथ सब प्रकार के ज्वर का नाश करता है। 
खांसीज्वरअपाचनपार्श्व शूल और कास (-खाँसी): दश मूल-बिल्वमूलअरणीसोनापाठागम्भारीपाटलशालपर्णीगोखुरूपृष्टपर्णीबृहती, (बड़ी कटेर ) का क्वाथ  कुश के मूल का क्वाथ-प्रयोग करें। Cough associated with fever, indigestion, extreme one side stomach pain.
वात और पित्त ज्वर: गिलोयपित्त पापड़ानगर मोथाचिरायतासौंठ-यह पञ्च भद्र क्वाथवात और पित्त ज्वर में देना चाहिये।
विरेचक  सम्पूर्ण ज्वर : निशोथविशाला (इंद्र वारुणी ), कुटकीत्रिफलाअमलतास का क्वाथ यवक्षार मिला कर पिलायें।  
COUGH CURE-कास रोग (-खांसी): (1) देवदारु,खरेठीअडूसात्रिफलाव्योष (-सौंठकाली मिर्चपीपल), पद्द्काष्ठवाय विडंग और मिश्री सभी सामान भाग में, (2) अडूसे का रसमधु और ताम्र भस्म सामान मात्र में लें। A  combination of these in equal quantity cures, 5 different kinds of cough.
HEART TROUBLE-ह्रदय रोगगृहणीहिक्काश्र्वाषपार्श्व रोग  कास रोग:  दशमूल,कचूररास्नापीपलबिल्वपोकर मूलकाकड़ा सिंगीभुई आंवलाभार्गीगिलोय और पान इनसे विधि वत सिद्ध किया हुआ क्वाथ या यवागू का पान करें।Heart trouble, hiccups, pain in one side of stomach, cough, breathing.
हिक्का-हिचकी: मुलहठी (-चूर्ण), के साथ पीपलगुड के साथ नागर और तीनों नमक (-सैंधा नमकविड नमककाला नमक) 
अरुचि रोग: कारवी अजाजी (-काला जीरासफ़ेद जीरा), काली मिर्चमुन्नकावृक्षाम्ल (-इमली), अनारदानाकाला नमक और गुड़इन्हें समान भाग में मिला कर चूर्ण को शहद के साथ निर्मित कारव्यादी बटी का सेवन करें।  
अरुचिकास रोग (-खांसी), श्र्वाषप्रति श्याय (-जुकामऔर कफ विकार: अदरक के रस के साथ मधु इनका  का नाश करते हैं। Lose of taste, cough, difficulty in breathing, sneezing.
VOMITING AND THIRST-प्यास और वमन-उल्टी: वट-वटा ङ्कुरकाकड़ा सींगी,  शिलाजीतलोधअनारदाना और मुलहटी के चूर्ण में सामान भाग में मिश्री मिला कर मधु के साथ अवलेह (चटनीबनायें तथा चावल के पानी के साथ लें।Thirst, vomiting.
कफ युक्त रक्तप्यासखांसी एवं ज्वर: गिलोयअडूसालोध और पीपल को शहद के साथ प्रयोग करें। Fever, cough, thirst and sputum with blood.
SNAKE POISONING & COUGH CURE: सर्प विष  कास: शिरीष पुष्प  के स्वर रस में भावित सफेद मिर्च लाभ प्रद हैं।
CURE FROM PAIN वेदना-दर्द-पीड़ामसूर सभी प्रकार की वेदना को नष्ट करता है। 
पित्त दोष: चौंराई का साग।  
PROTECTION FROM POISONING-विष नाशक: मेउड़शारिवासेरू  और अङ्कोल। 
मूर्छामदात्यय रोग: सौंठगिलोयछोटी कटेरीपोकर मूलपीपला मूल और पीपल का क्वाथ।  
उन्माद: हींगकाला नमक एवं व्योष (सौंठमिर्चपीपल), ये सब दो दो पल लेकर 4 सेर घृत और घृत  से 4 गुनी मात्रा  में गौ मूत्र में सिद्ध करने पर  प्रयोग करें। 
उन्माद और अपस्मार रोग का नाश  मेधा वर्धक: शंख पुष्पीवचऔर मीठा कूट से सिद्ध ब्राह्मी रस को मिला कर इनकी गुटिका बना लें। 
LEPROSY कुष्ठ  नाशक: (1) हर्रेभिलावातेलगुड़ और पिंड खजूर। (2) वाकुचि को तिलों के साथ एक वर्ष तक खाया जाये तोवह साल भर में कुष्ठ रोग दूर कर देती है। (3) परवल की पत्ती , त्रिफलानीम की छालगिलोयपृश्र्निपर्णीअडूसे  के पत्ते के साथ तथा करज्ज-इनको सिद्ध करने वाला घृत। यह वज्रक कहलाता है।  
(4) हर्रे के साथ पंचगव्य या घृत का प्रयोग। इस उपाय से कुष्ठअस्सी प्रकार के वात रोगचालीस प्रकार के पित्त रोग और बीस प्रकार के क़फ़ रोगखांसीपीनस (-बिगड़ा जुकामठीक हो जाते हैं। (5) वाचुकी के पञ्चांग  के चूर्ण को खैर  (कत्था )-के क्वाथ के साथ 6 माह  तक प्रयोग करने से कुष्ठ पर काबू हो जाता है। 
PILES-बबासीर-अर्श रोग और व्रण रोगों का नाश: (1) नीम की छालपरवलकंटकारी-पंचांगगिलोय और अडूसा-इन सबको दस दस पल लेकर कूट लें  16 सेर पानी में क्वाथ बनाकर उसमें सेर भर घृत और 20 तोले त्रिफला चूर्ण का कल्क बनाकर डाल दें और चतुर्थांश शेष रहने तक पकाएं। (2) त्रिकुट युक्त घृत को तिगुने पलाश भस्म-युक्त जल में सिद्ध करके पीना है। (3) पाठाचित्रकहल्दीत्रिफला और व्योष (-सौंठमिर्चपीपलइनका चूर्ण तक्र के साथ पीने से अथवा (4) गुड़ के साथ हरीतकी खाने से अर्श रोग दूर होता है। 
उपदंश की शांति : त्रिफला के क्वाथ या भ्रंग राज के रस से व्र णों को धोयें। परवल की पत्ती के चूर्ण  के साथ अनार की छाल या गज पीपर या त्रिफला का चूर्ण उस पर छोड़ें 
PROTECTION FROM VOMITING वमन: त्रिफलालोह्चूर्णमुलहटी, आर्कव, (कुकुरमांगरा ), नील कमलकालि मिर्च और सैन्धव नमक सहित पकाये हुए तैल  के मर्दन से वमन की शांति होती है  
वमन कारक: मुलहठीबचपिप्पली-बीजकुरैया की छाल का कल्क और नीम का क्वाथ घौंट देने वमन कारक होता है। 
PREVENTION FROM GRAYING HAIR-बाल पकने-सफ़ेद होने से रोकना: दूधमार्कव-रसमुलहटी और नील कमलइनकी दो सेर मात्रा को  पका  कर एक पाव तैल में बदल कर नस्य का प्रयोग करें। 
ज्वरकुष्ठफोड़ाफुंसीचकत्ते: नीम की छालपरवल की पत्ती , गिलोयखैर की छालअडूसा या चिरायतापाठा , त्रिफला और लाल चन्दन। Fever, leprosy, boils, spots.
ज्वर और विस्फोटक रोग: परवल की पत्तीगिलोयचिरायताअडूसामजीठ एवं पित्त पापड़ा-इनके क्वाथ में खदिर मिलाकर लिया जाये। 
ज्वरविद्रधि तथा शोथ: दश मूलगिलोयहर्रेगधह पूर्णा,  सहजना  एवं सौंठ  
व्रण शोधक : महुआ और नीम की पत्ती  का लेप।  
बाह्य शोधन: त्रिफला (हेड़बहेड़ाआंवला), खैर (कत्था), दारू हल्दीबरगद की छाल , बरियारकुशानीम के पत्ते तथा मूली के पत्ते का क्वाथ। 
घाव के क्रमि नष्ट करना: करंज , नीमऔर मेउड़  का रस। Destruction of worms in wound. 
व्रण रोपण: धय का फूलसफ़ेद चन्दनखरेठी,  मजीठ , मुलहठीकमलदेवदारु तथा मेद घाव को भरने वाले हैं।  
नाड़ी व्रणदुष्ट व्रणशूल और भगन्दर: गुग्गुलत्रिफलापीपलसौंठमिर्चपीपर  इन सबको समान भाग में पीस कर घृत में मिला कर प्रयोग करें। 
कफ और वात रोग: गौ मूत्र में भिगोकर शुद्ध की हुई हरीतकी (छोटी हर्रको रेडी के तेल में भून कर सैंधा नमक के साथ प्रात प्रति दिन प्रयोग करें। ऐसी हरितकी कफ  वात से होने वाले रोगों को नष्ट करती है।
कफ प्रधान  वात प्रधान प्रकृति वाले मनुष्यों के लिए: सौंठ,मिर्च,पीपल और त्रिफला का क्वाथ यवक्षार और लवण मिलाकर पीने से विरेचन का काम करता है और  कफ वृधि को रोकता है। 
आम वात नाशक:   पीपलपीपला मूलवचचित्रक  सौंठ का क्वाथ या पेय बनाकर पीयें।
वात एवं संधिअस्थि एवं मज्जा गतआमवात: रास्नागिलोयरेंडकी की छालदेवदारु और सौंठ का क्वाथ में पीना चाहिये अथवा सौंठ के जल के साथ दशमूल का क्वाथ पीना चाहिये।
आम वातकटिशूल और पांडु रोग: सौंठ,एवं गोखरू का क्वाथ प्रतिदिन प्रातसेवन करना है। शाखा एवं पत्र सहित प्रसारिणी (छुई मुई ) का तैल भी इस रोग में लाभप्रद है। 
वातरक्त रोग: गिलोय का स्वरसकल्कचूर्ण या क्वाथ का दीर्घ काल तक प्रयोग करना चाहिए।
वातरक्त नाशक: वर्धमान पिप्पली या गुड़ के साथ हर्रे का सेवन करना चाहिए।  
वातरक्त-दाहयुक्त रोगपटोल्पत्रत्रिफलाराईकुटकीऔर गिलोय का पाक तैयार करें। 
वातजनित पीड़ा: गुग्गुल को ठन्डे-गरम जल सेत्रिफला को सम शीतोष्ण जल से अथवा खरेठीपुनर्नवाएरंड मूलदोनों कटेरीगोखरूका क्वाथहींग  तथा लवण  के साथ। एक तोला पीपला मूल,सैन्धवसौवर्चलविड्सामुद्र एवं औद्भिद-पाँचों नमकपिप्पलीचित्तासौंठत्रिफलानिशोथवचयवक्षारसर्जक्षारशीतलादंतीस्वर्ण क्षीरी (सत्य नाशीऔर काकड़ा सिंगी-इनकी बेर के बराबर गुटिका बनायें और कांजी के साथ सेवन करें-शोथ तथा उससे हुए में भी इसका सेवन करें। उदर वृद्धि में निशोथ का प्रयोग  करें। 
SWELLING शोथ-सूजन: (1) गौमूत्र के साथ सौंठ, मिर्च, पीपल, लोहचूर, यवक्षार तथा त्रिफला का क्वाथ। (2) गुड़, सहिजन एवं निशोथ, सैंधव लवण का चूर्ण या क्वाथ। (3) दारू हल्दीपुनर्नवा तथा सौंठ-इनसे सिद्ध किया हुआ दूध। (4)  मदारपुनर्नवा (-गदह्पुर्नाएवं चिरायता के क्वाथ से सेंक करने पर। 
गलगंड और गलगंड माल: फूल प्रियंगुकमलसँभालूवायविडंगचित्रकसैंधव लवणरास्नादुग्धदेवदारु और वच से सिद्ध चौगुना कटु द्रव्य युक्त तैल मर्दन करने से (-या जल के साथ ही पीसकर लेप करने से) 
क्षय रोग-TUBERCULOSIS: (1) कचूरनागकेसरकुमुद का पकाया हुआ क्वाथ तथा क्षीर विदारीपीपल और अडूसा का कल्क दूध के साथ पका  कर लेने से लाभ होता है। (2) शतावरीविदारीकंदबड़ी हर्रेतीनों खरेटी, असगन्धगदहपूर्णा और गोखरू का चरण शहद और घी के साथ चाटना चाहिये। 
गुल्म रोगउदर रोगशूल और कास रोग: वचाविडलवण,अभया (बड़ी हर्रे), सौंठहींगकूठचित्रक और अजवाइनइनके क्रमशदोतीन:, चारएकसातपाँच और चार भाग ग्रहण करके चूर्ण बनायें।  
गुल्म और पलीहा: पाठादन्ती  मूलत्रिकटु (-सौंठमिर्चपीपलत्रिफला और चित्ता  का चूर्ण गौमूत्र के पीस कर गुटिका बनालें। 
वात-पित्त: अडूसानीम और परवल के साथ। 
PROTECTION FROM WORMS कृमि नाशक: (1) वाय विडंग का चूर्ण शहद के साथ। (2) विडंगसैंधा नमकयव क्षार एवं गौमूत्र के साथ हर्रे भी लेने पर। 
रक्तातिसारशल्लकी (-शाल विशेष), बेरजामुनप्रियालआम्र और अर्जुन-इन वृक्षौं की छाल का चूर्ण बना कर मधु में मिला कर दूध के साथ लेना है। 
DYSENTERY-DIARRHEA अतिसार: कच्चे बेल का सूखा गूदाआम की छालधाय का फूलपाठासौंठ और मोच रस (कदली स्वरस )-इन सबका समान भाग लेकर चूर्ण बना लें गुड मिश्रित तक्र के साथ पीयें।
गुद  भ्रंश रोगचान्गेरीबेरदही का पानीसौंठ और यवक्षार-इनका घृत सही क्वाथ पीने से। 
प्रदर रोग: मजीठधाय के फूललोधनील कमल-इनको दूध के साथ स्त्रियों को लेना चाहिये।
प्रदर रोग नाशक: पीली कट सरैयामुलहठी और चन्दन। 
PROTECTION  OF FOETUS गर्भ स्थिर करना: श्वेत कमल  और नील कमल की जड़ तथा मुलहठीशर्करा और तिल-इनका चूर्ण गर्भपात की आशंका होने पर गर्भ को स्थिर करने में सहायक है। 
शिरो रोग का नाश: देव दारूअभ्रककूठखस और सौंठ-इनको कांजी में पीस कर तैल मिला करलैप करने से शिरोरोग का नाश होता है। 
कर्ण शूल शमन: सैन्धव-लवण को तैल में सिद्ध करके छान लें-हल्का गरम तैल कान में डालने से फायदा होगा। 
कर्णशूल हारी: लहसुनअदरकसहजन और केला -इनमें से प्रत्येक का रस कर्णशूल हारी है। 
तिमिर रोग नाशक: बरियारशतावरीरास्नागिलोयकटसरैया और त्रिफला-इनको सिद्ध करके घृत का पान या इनके सहित घृत का उपयोग। 
आँखों (-चक्षुश्य), ह्रदयविरेचक और कफ रोग नाशक(-त्रिफलात्रिकुट एवं सेंधव नमक-इनसे सिद्ध किये हुए घृत का पान-आँखोंह्रदयविरेचक और कफ रोग नाशक-के लिए हितकर है।  
दिनौंधीरतौंधी: गाय के गोबर के रस के साथ नील कमल के पराग की गुटिका का अंजन। 
विरेचक: (1) खूब चिकना तथा रेड़ी-जैसे तैल से स्निग्ध किया गया या पकाया गया हुआ यव का पानी विरेचक होता है  इसका अनुचित प्रयोग मंदाग्निउदार में भारीपन और अरुचि को उत्पन्न करता है। (2) निशोथ एवं गुड़ के साथ त्रिफला का क्वाथ। 
GENERAL PROTECTION FROM ALL DISEASES सर्व रोग नाशक  विरेचक:  (1) हर्रेसैन्धव लवण और पीपल-इनके समान भाग का चूर्ण गर्म जल के साथ लें। यह नाराच-संज्ञक चूर्ण सर्व रोग नाशक है। (2) कलौंजी। 
 (III) 36 VITAL HERBS
These herbs are divine in effect and may boost-prolong, limitless life span, if used under controlled conditions and specifications. Asceticism-chastity is an essential requirement. ब्रह्मारूद्र और इंद्र द्वारा उपयोग में लाई जाने वाली अमरीकरण प्रदायक औषधियाँ-These herbs are said to have been used by Brahma Ji, Rudr and Indr.
हरीतकी (-हर्रे), अक्षधात्री (-आंवला), मरीच (-गोल मिर्च)पिप्पली-छोटीशिफा (-जटा मांसी), वह्नि (-भिलावा), शुण्ठी (सौंठ), पीपल-बड़ीगुडुची (गिलोय), वचनिम्बवासक (अडूसा), शतमूली (शतावरी), सैंधव (सेंधा नमक), सिंधुवारकंटकारी (-कटेरी), गोक्षुर (-गोखरू), बिल्व (बेल), पुनर्नवा (-गदह पूर्णा), बला  (-बरियारा), रेंडमुण्डीरुचक (-बिजौरा-नींबू), भ्रंग (-दालचीनी), क्षार (-खारा नमक या यव क्षार), पर्पट (-पित्त पापड़ा), धन्याक (धनिया), यवानी (अजवाइन), जीरक (-जीरा), शत पुष्पी (-सौंफ), विडंग (-वाय विडंग), खदिर (-खैर), कृत माल (-अमलतास), हल्दीवचासिद्धार्थ (-सफ़ेद सरसों) 


(IV)

       अनुक्रम 
                                 औषधियों  की नामावली
     उपयोगी


    प्रथम चतुष्क 
    विशेष संकेत 
    1 भृंग राज 
   ऋत्विज 16
       2 सहदेवी 
    वह्नि 3 गुण 
   3 मयूर शिखा 
        नाग 8
    4 पुत्र जीवक 
      पक्ष 2  नेत्र 
 धूप-उद्वर्तन 
  द्वितीय चतुष्क 
    विशेष संकेत 
  5 अधपुष्पा 
   मुनि 7 शैल 
     6 रुदंतिका 
    मनु 14 इंद्र 
      7 कुमारी 
        शिव 11
     8 रूद्र जटा 
         वसु 8
 अनुलेप 
   तृतीय चतुष्क 
    विशेष संकेत 
   9 विष्णु क्रांता 
       दिशा 10
    10 श्वेतार्क 
        शर 5
  11 लज्जालुका 
       वेद 4 युग़ 
     12 मोह्लता 
          ग्रह 9
 अञ्जन 
    चतुर्थ चतुष्क 
   विशेष संकेत 
  13 कृष्ण धत्तूर 
        ऋतु 6
14 गोरक्षक कर्कटी
        सूर्य 12
     15 मेष श्रंगी
        चंद्रमा 1
       16 स्नुही 
       तिथि 15
 स्नान 


धूप व उबटनरूद्रजटा, गोरख ककड़ी, मेढ़ा सिंगी-इनको पीस कर धूप में प्रयोग करें। 
धूप व उबटन: भृंगराज (-भँगरैया), सहदेवी (-सह्देइया), मयूर शिखा (-मोर की शिखा), पुत्र जीवक की छाल-इनके चूर्ण से धूप  बनायें अथवा पानी के साथ पीस कर उत्तम उबटन बनायें और अपने अंगों में लगायें।
अंजन: अपराजिता (-विष्णु क्रांता ), श्वेतार्क, लाजवंतीलता (-लज्जालुका) और मोहलत से अंजन तैयार कर आँखों में लगायें।  
स्नान: कृष्ण धत्तूर (-काला धतूरा), गोरक्षक कर्कटी (-गोरख ककड़ी), मेष श्रंगी (-मेढ़ा सिंगी) और स्नुही (-सेंहुड) से मिश्रित जल से स्नान करना चाहिये।
उबटन या अनुलेपन: अध: पुष्पा, रुदंतिका (-रूद्र दंती), कुमारी और रूद्रजटा को पीस कर अनुलेपन या उबटन बनायें। 
सम्मोहन-HYPNOSIS
1. ऋत्विक् ((भँगरैया), वेद (लाजवंती), ऋ तु (काला धतुरा)  तथा नेत्र (पुत्र जीवक)इन औषधियों से तैयार किया गयाचन्दन का  तिलक, सब लोगों को मोहित करने वाला होता है। 
2. तिथि(सेंहुड), दिक्(अपराजिता), युग(लाजवंती) और बाण(श्वेतार्क )-इन औषधियों के द्वारा बने गई गुटिका (गोली) लोगों को वश में करने वाली होती है। भक्ष्य-भोज्य-पेय पदार्थ में एक गोली मिला दें। 
3. ग्रह (मोह्लता), अब्धि (अध: पुष्पा), सूर्य (गोरक्षक कर्कटी) तथा त्रिदश (काला धतुरा)-इन औषधियों द्वारा बनाई बटी सब को वश में करने वाली होती है (SEDATIVE)। 
स्त्री वश में करना-SUBJECTION OF WOMAN  
1. सूर्य (-गोरख ककड़ी), त्रिदश (-काला धतुरा), पक्ष (-पत्र जीवक) और  पर्वत (अध: पुष्पा)-इन 
औषधियों का अपने शरीर पर लेपन करने स्त्री वश में हो जाती है। 
2. चंद्रमा (-मेढ़ा सिंगी), इंद्र (-रुदंतिका), नाग(-मोरशिखा), रूद्र (-घी कुंआर)-इन औषधियोँ  को योनि में लेप करने से स्रियाँ वश में होतीं हैं।
सुख पूर्वक प्रसव-COMFORTABLE-EASY DELIVERY: त्रिदश(काला धतुरा), अक्शि(पुत्र जीवक), शिव (घृत कुमारी), और सर्प (मयूर शिखा)-से उपलक्षित दवाओंका लेप करने से स्त्री सुख पूर्वक प्रसव कर सकती है। 
जुए में विजय-VICTORY IN GAMBLING: सात (अध: पुष्पा), दिशा (अपराजिता), मुनि (अध: पुष्पा), तथा रंध्र (मोहलता) का लेपन वस्त्र में करने से जुए में विजय प्राप्त होती है। 
पुत्रोत्पत्ति-BIRTH OF SON: काला धतुरा, नेत्र (-पुत्र जीवक), अब्धि (-अध: पुष्पा) तथा मनु (-रुदंतिका)-से उपलक्षित औषधियो का लिंग पर लेप करके रति करने पर जो गर्भाधान होता है, उससे पुत्र की उत्पत्ति होती है। 

अस्त्र शस्त्रों का स्तम्भन-NEUTRALIZING/PROTECTION FROM ASTR-SHASTR: ऋतविक(भंगरैया), ग्रह (मोह्लता), नेत्र (पुत्र जीवक), तथा पर्वत (अध: पुष्पा)-इन औषधियो को मुँह में धारण करने से अस्त्र शस्त्रों का स्तम्भन हो जाता है-वे आघात नहीं कर पाते।  
दुर्भगा से सुभगा: तीन (-सहदेइया),  सोलह (-भंगरैया), दिशा (-अपराजिता) तथा बाण (-श्वेतार्क)-इन औषधियों का लेप करने से दुर्भगा स्त्री सुभगाबन जाती है।
सर्प क्रीडा: त्रिदश (-काला धतुरा), अक्षि (-पुत्र जीवक), दिशा (-विष्णु क्रांता ) और नेत्र (-सह्देइया)-इन दवाओं का अपने शरीर पर लेप करने से मनुष्य सर्पों के साथ क्रीडा कर सकता है।   
(V) TREATMENT OF SNAKE BITE सांप के काटे  का इलाज 
विष के पहले वेग में रोमांच, दूसरे वेग में पसीना, तीसरे में शरीर का कांपना, चौथे में श्रवण शक्ति का अवरुद्ध होना, पांचवें में हिचकी आना, छटे  में ग्रीवा लटकना, सातवें में प्राण निकलना। 
अवस्था 1: आँखों के आगे अँधेरा छा  जाये और शारीर में बार-बार जलन होने लगे, तो यह जानना चाहिये कि, विष त्वचा में है। आक की जड़, अपा मार्ग, तगर और प्रियंगु-को जल में घोंट कर पिलाने से विष शांत हो सकता है।
अवस्था 2:  त्वचा से रक्त में विष पहुँचने पर दाह और मूर्च्छा आने लगती  है व शीतल पदार्थ अच्छा लगता है। उशीर (खस), चन्दन, नीलोत्पल, सिंदुवार की जड़, धतूरे की जड़, कूट, तगर, हींग और मिर्च को पीसकर देना चाहिये। अगर इससे बाधा शांत न हो तो भटकैया, इन्द्रायण की जड़ और सर्पगंधा को घी में पीसकर देना चाहिए। इससे भी शांत न हो तो, सिंदुवार और हींग का नस्य देना चाहिये और पिलाना चाहिये। इसी का अंजन और लैप भी करना चाहिये, इससे रक्त में विष बाधा शांत हो जाती है। 
अवस्था 3: रक्त से पित्त में विष पहुँचने पर पुरुष उठ-उठ कर गिरने लगता है, शरीर पीला पड़ जाता है, सभी दिशाएँ पीली दिखती हैं। शरीर में दाह और प्रबल मूर्च्छा आती है-इस अवस्था में -पीपल, शहद, महुआ, घी, तुम्बे की जड़, इन्द्रायण की जड़ को गो मूत्र में पीसकर नास्य, लेपन तथा अंजन करने विष का वेग हट जाता है।
अवस्था 4: पित्त से विष के कफ़ में प्रवेश करने पर शरीर जकड जाता है, श्वास भली भांति नहीं आती, कंठ में घर-घर शब्द होने लगता है, मुहं से लार गिरने लगती है-पीपल, मिर्च, सौंठ, श्लेष्मातक (-बहुबार वृक्ष), लोध, एवं, मधुसार को सामान भाग में पीसकर गौमूत्र में लेपन और अंजन और पिलाना भी चाहिए। ऐसा करने विष का वेग शांत हो जाता है।
अवस्था  5: कफ से वात में विष प्रवेश करने पर पेट फूल जाता है, कोई भी पदार्थ दिखाई नहीं पड़ता, द्रष्टि भंग हो जाती है-ऐसा होने पर : शोणा (सोनागाछा) की जड़, प्रियाल, गज पीपल, भ्रंगी ,वचा, पीपल, देवदारु, महुआ, मधुसार, सिंदुवार और हींग-इन सब को पीस कर गोली बना कर रोगी को खिलाएं एवं अंजन और लेपन करें। यह सभी विषों का हरण करती है।  
अवस्था  6: वात से मज्जा  में विष पहुँच जाने पर द्रष्टि नष्ट हो जाती है, सभी अंग बेसुध हो शिथिल हो जाते हैं। ऐसा लक्षण होने पर घी, शहद, शर्करा युक्त, खस और चन्दन को घोंट कर पिलाना चाहिये और नस्य भी देना चाहिए। ऐसा करने विष का वेग हट जाता है।
अवस्था 7: मज्जा से मर्म स्थानों पर विष पहुँचने पर सभी इन्द्रियां निश्चेष्ट हो जाती हैं और मरीज धरती पर गिर पड़ता है। काटने से रक्त नहीं निकलता, केश उखड़ने पर कष्ट नहीं होता-रोगी को म्रत्यु आधीन ही समझना चाहिये। जिसके पास सिद्ध मन्त्र और औषधि होगी वही इलाज कर पायेगा : (i) मोर का पित्त, मार्जार का पित्त और गंध नाड़ी की जड़, (ii) कुंकुम, तगर, कूट, कास मर्द की छाल तथा  (iii) उत्पल, कुमुद और कमल-इन तीनों के केसर-सभी का समान भाग लेकर उसे गोमूत्र में पीस कर  नस्य दें, अंजन लगाएं। यह मृत संजीवनी औषधि है। 
HERBAL TREATMENT FOR INFANTS-CHILDREN 
शिशु चिकित्सा-बालोषधि 
अतिसार तथा  माता के दूध दोषों में: अडूसा, मुलहठी या कचूर, दोनों प्रकार की हल्दी और इन्द्रयब। 
खांसी, वमन, और ज्वर: पीपल और अतीस के साथ काकड़ा श्रंगी का अथवा केवल अतीस का चूर्ण मधु के साथ चटायें। 
वाक शक्ति, रूप संपत्ति, आयु, बुद्धि और कांति: दुग्ध, घृत अथवा तैल के साथ वच का सेवन अथवा मुलहठी और शंख पुष्पि के साथ दुग्धपान। 
बुद्धि वर्धक: वच, कलिहारी, अडूसा, सौंठ, पीपल, हल्दी, कूट, मुलहठी और सैंधव का चूर्ण प्रात: काल चटायें । 
कृमि रोगों का नाश: देव दारू, सहजन, त्रिफला और नागर मोथा का क्वाथ अथवा पीपल और मुनक्का  का कल्क। 
नेत्र रोग: शुद्ध रांगे को त्रिफला, भ्रंग राज तथा अदरख के रस या मधु घृत में अथवा भेड़ या गौमूत्र में अंजन।
नाक से बहने वाला रक्त : दूर्वा रस का नस्य।
कर्ण शूल नाशक व ओष्ठ रोग: (1)लहसुन, अदरख और सहजन का रस कान में डालना। (2) केवल अदरख का रस कान में डालना होगा। 
दन्त पीड़ा: जायफल, त्रिफला, व्योष (-सौंठ, मिर्च, पीपल), गौमूत्र, हल्दी, गौ दुग्ध तथा बड़ी हर्रे  के कल्क  से सिद्ध किये हुए तिल के  तैल से कुल्ला करना।
जिव्हा रोग नाशक: कांजी, नारियल का पानी, गौमूत्र, सुपारी तथा सौंठ के क्वाथ को कवल मुख में रखना होता है।    
haritaki tree
हरीतकी 
गल गंड रोग व गंड माला: कलिहारी के कल्क (-पिसे हुए) में निगुण्डी  के रस के साथ सिद्ध किया हुआ तैल का नस्य नाक में डालना। 
सभी चर्म रोग: आक, काटा, करंज, थूहर, अमलतास और चमेली के पत्तों के साथ गौमूत्र का उबटन लगाना है।
प्रमेह रोग: (1) त्रिफला, दारुहल्दी, बड़ी इन्द्रायण और नागर मोथा-इनका क्वाथ या (2) आंवले का रस, हल्दी, कल्क और मधु के साथ पीना चाहिये। 
प्लीहा रोग: पिप्पली का प्रयोग करें। 
वातरक्त: अडूसे की जड़, गिलोय और अलमतास के क्वाथ में शुद्ध अरण्ड का तेल मिलकर पीयें।  
पेट रोग: थूहर के दूध में अनेक बार भावना दी हुई पिप्पली उपयोगी है। 
अरुचि रोग: चित्रक,त्रिकुट,विडंग के क्लक से सिद्ध दूध का सेवन हितकारी है।
ग्रहणी, अर्श, पाण्डु, गुल्म,और कृमि रोगों का इलाज: (1) पीपला मूल, वच, हर्रे, पीपल और विडंग को घी में मिलाकर सेवन करें  या (2) तक्र का एक मास तक सेवन करें।
कामला सहित पाण्डु रोग: त्रिफला, गिलोय, अडूसा, कुटकी, चिरायता। इनका क्वाथ शहद के साथ पीने से रोग दूर होता है। 
रक्त-पित्त रोग: (1) अडूसे का रस मिश्री और शहद मिलाकर लाइन से या (2) शतावरी, दाख, खरेटी और सौंठ का सिद्ध किया हुआ दूध पीने से लाभ होगा। 
विदृधि की गाँठ को पकाना: हरे, सहजन,करञ्ज, आक, दालचीनी, पुनरर्वा, सौंठ और सैंधव को गौ मूत्र के मिलाकर लेप करें। 
भगन्दर:  निशोथ, जीवन्ती, दन्तीमूल, मजिष्ठा, दोनों हल्दी, रसांजन और नीम के पत्ते का लेप करना चाहिये। नासूर शोधन: अमलतास, हरिद्रा, लाक्षा, और अडूसा के चूर्ण को गौ घृत और शहद के साथ बत्ती बनाकर नासूर में देवें। 
घाव: (1) पीपली, मुलहटी, हल्दी, लोध, पद्मकाष्ठ, कमल, लाल चन्दन एवं मिर्च को गौ दुग्ध में सिद्ध किया हुआ तैल इस्तेमाल करें। (2) श्री ताड़ कपास की पत्तियों की भस्म, त्रिफला, गोलमिर्च, खरेटी और हल्दी का गोल बनाकर घाव का स्वेदन करे और इन औषधियों के तेल को घाव पर लगायें। 
व्रण: (1) दूध के साथ कुम्भी सार-गुग्गल का सार, आग पर जलाकर वर्ण पर लेप करें। (2) गुग्गल सार को दूध में मिलकर आग से जले हुए व्रण पर लेप करें। (3) जलकुम्भी को जलाकर दूध में मिलाकर लगाने से सभी प्रकार के व्रण टेक हो जाते हैं। (4) नारियल के जड़ की मिट्टी में घृत मिलाकर सेक  करने से व्रण का नाश होता है। 
अतिसार: सौंठ, अजमोद, सैंधा नमक, इमली की छाल, इन सबके समान भाग हर्रे को तक्र या समान भाग जल के साथ पीना चाहिये। 
आम सहित अतिसार-रक्तातिसार: इंद्रयव, अतीस, सौंठ, बेलगिरी नागरमोथा का क्वाथ। 
उदरशूल: (1) ठंडे थूअर में सैंधा नमक भरकर आग में जला लें और यथोचित मात्रा को गर्म जल के साथ ग्रहण करें। (2) सैंधा नमक, हींग, पीपल, हर्रे का प्रयोग गर्म जल के साथ। 
प्यास: (1) वरकी वरोह, कमल और धान की खील के चूर्ण को शहद में भिगोकर, कपड़े की पोटली में रखकर चूसें। (2) कुटकी, पीपल, मीठा कूट एवं धान का लावा मधु के साथ मिलाकर पोटली में रखकर मुँह में रखें और चूसें। 
मुखपाक-रोग: पाठा, दारू हल्दी, चमेली के पत्र, मुनक्का की जड़ और त्रिफला का क्वाथ बनाकर उसमें शहद मुँह में रखें।
PROTECTION FROM THROAT TROUBLE कण्ठरोग: पीपल, अतीस, कुटकी,इन्द्रयव, देवदारु, पाठा और नगर मोथा -इनका गौ मूत्र में बना क्वाथ मधु के साथ लेने पर सभी कण्ठ रोगों का नाश करता है।  
मूत्र कृच्छ्: हर्रे, गोखरू, जवासा, अमलतास एवं पाषाण-भेद; इनके क्वाथ में शहद मिलाकर पीने से कष्ट दूर होता है। 
अश्मरी रोग: बाँस का छिलका, वरुण की छाल का क्वाथ शर्करा के साथ उपयोग करें।
श्लीपद रोग: शाखोटक (-सिंहोर)  की छाल का क्वाथमधु और दुग्ध के साथ पान करें। 
पाद रोग नाशक: उड़द, मदर की पत्ती तथा दूध, तैल, मोम एवं सैंधव लवण का योग  पाद रोग नाशक है। 
मलबन्ध रोग: (1) सौंठ, काला नमक और हींग या (2) सौंठ के रस के साथ सिद्ध किया गया घी अथवा (3) इनका क्वाथ पीने से मलबन्ध दोष और तत्सम्बन्धी रोग नष्ट होते हैं। 
गुल्मरोगी: (1) सर्जक्षार, चित्रक, हींग और अजमोद के रस के साथ या (2) विडंग और चित्रक के रस के साथ तक्र पान करें। 
विसर्परोग: (1) आँवला, परवल और मूँग के क्वाथ का घी के साथ सेवन करें। (2) सौंठ, देवदारु और पुननर्वा या बन्सलोचन का दूधयुक्त क्वाथ प्रयोग करें। 
वमनकारक-उलटी कराना: वच और मैनफल के क्वाथ का जल। 
झुर्रियों से मुक्ति: भृंगराज के रस में भावित त्रिफला सौ पल, बायविडंग और लोहचूर दस भाग एवं शतावरी, गिलोय और चिचक पच्चीस पल ग्रहण करके उसका चूर्ण बना कर घी, मधु और तेल के साथ चाटना  चाहिये। इससे झुर्रियाँ नहीं होती और बाल नहीं पकते। 
मधु और शर्करा के साथ त्रिफला का सेवन सर्व रोग नाशक है। 
त्रिफला और पीपल का मिश्री, मधु और घी के साथ भक्षण पूर्वोक्त सभी फल-लाभ देता है। 

जपा-पुष्प को थोड़ा मसलकर जल में मिला लें उस जल को थोड़ी सी मात्रा में तेल में मिला देने पर तेल घृताकार हो जाता है। बिल्ली की गर्भ की झिल्ली की धूप से चित्र दिखलाई नहीं देता। फिर शहद की धूप देने से पूर्ववत दिखाई देने लगता है। पाकड़ की जड़, कपूर, जोंक और मेंढक का तेल पीसकर दोनों पैरों में लगाकर मनुष्य जलते हुए अंगारों पर चल सकता है। 

No comments:

Post a Comment