Thursday, March 14, 2013

ESSENTIALS OF SALVATION: मोक्ष मार्ग के सहायक

 PREPARING FOR SALVATION मोक्ष साधना की तैयारी 
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By :: Pt. Santosh Bhardwaj 
dharmvidya.wordpress.com hindutv.wordpress.com santoshhastrekhashastr.wordpress.com bhagwatkathamrat.wordpress.com
santoshkipathshala.blogspot.com     santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com   
Photo
विधि निषेध रूप कर्म का अधिकारी मनुष्य शरीर बहुत ही दुर्लभ है।  स्वर्ग और नरक लोकों मे रहने वाले जीव इसकी अभिलाषा करते हैं, क्योंकि इसी शरीर में अंत:करण  की शुद्धि  होने पर ज्ञान अथवा भक्ति की प्राप्ति होती है।  बुद्धिमान पुरुष को न तो स्वर्ग-नरक के भोग प्रधान शरीर-जो किसी साधन के लिए उपुक्त नहीं हैं अथवा न मानव शरीर की ही कामना  करनी चाहिए, क्योंकि किसी भी शरीर में गुण बुद्धि और अभिमान हो जाने से, अपने वास्तविक स्वरुप की प्राप्ति के साधन में प्रमाद होने लगता है।Human body which is the recipient of reward-award-Karm Fal of his deeds, in one after another-repeated births and rebirths, is very rare (-obtained only after passing through, 84,00,000 incarnations in lower forms), even the deities, demons, ghosts etc. wish to avail it. Inhabitants of Heavens and Hells crave for this material-physical body. In fact one is extremely lucky to have obtained it. One can perform prayers and like to attain Salvation, through it. This human body is capable to cleanse the internal faculties associated with the soul. An intelligent or enlightened, will not desire to have a divine or even the human embodiment, since they will abstain him from Liberation-Assimilation in the Almighty. Which ever body is possessed by the soul, is bound to generate intoxication-ego-pride-suffering, ultimately.
यद्पि यह मानव रुपी शरीर मृत्यु  को अवश्य प्राप्त होगा तथापि इसके द्वारा परमार्थ की सत्य वस्तु की प्राप्ति हो सकती है।  बुद्धिमान पुरुष को चाहिए यह बात जानकर मृत्यु  पूर्व ही सावधान होकर ऐसी साधना कर ले, जिससे वह जन्म मृत्यु के चक्कर से सदा के लिए छूट जाये- मुक्त हो जाये। 

Who so ever is born, is bound to die-perish. Still the human being can make use of this body for the ultimate bliss-eternal truth-ecstasy. The intelligent-enlightened should be careful enough, to understand this  and subject-prepare himself for the attainment of the Ultimate, so that he becomes free from movement from one incarnation to another.
8 PREREQUISITES-ESSENTIALS OF SALVATION मोक्ष प्राप्ति हेतु आठ आत्म गुण
(Exerts from Matasy Puran)
(1). PITY-MERCY :: One  should take Pity-mercy on all creatures-organisms. One may be kind hearted. Kindness-pity-mercy help in paving path to Salvation. One must utilize discretion before extending a helping hand. At occasions it is misused, as a tool-means to extract some thing-favours. Think before you extend a helping hand, whether the person is deserving or not? If the help is going into wrong hands. Often people utilize the help against the person, who helped them. Be alert.
दया :: (-अपने दुःख में करुणा तथा दूसरों के दुःख में सौहार्द-स्नेहपूर्ण सहानुभूति) समस्त प्राणियों पर दया करना। दयालु होना अच्छी बात है। यह मोक्ष मार्ग को प्रशस्त करता है। किसी भी प्राणी पर दया करने से पहले विचार कर लेना चाहिए कि वह इस लायक है भी या नहीं। ऐसा न हो कि आपकी दया का कोई नाजायज फायदा उठा रहा हो, जैसा कि अक्सर ही होता है। कोई भी निर्णय सोच समझ कर ही करना चाहिए। दया की पात्रता भी आवश्यक है। ऐसा भी हो जाता है कि आपकी सहायता  को आपके विरुद्ध ही इस्तेमाल किया जा रहा हो। अत: सावधान होकर ही ऐसा करो। दया धर्म का मूल है। 
दया के समान धर्म, तप, मित्र, दान नहीं है। पुण्य का दान करने वाला मनुष्य सदा लाख गुना प्राप्त करता है। दया से धर्म की वृद्धि होती है मनुष्य की बुद्धि सदा दान और दया में दृढ़ रहनी चाहिए। 
(2). PARDON:  He teased-troubled you time and again and said sorry-please excuse me, each time he offended. You pardoned him every time, he said sorry. It emboldened him and he identified a weak person in you, who can be humiliated easily-repeatedly. How long will you tolerate him? Let him be punished, otherwise he will not mend-change his ways-mentality-style of working-mode of functioning. Pardons-forgiveness only make him a bigger-dreaded criminal. Let this bud be killed in the nip. Such people deserve to be behind the bars-put in secluded-deserted-isolated places, eliminated all together, for ever. As per dictates of the Almighty one will have to be undergo the fruits of his deeds-good for good, bad for bad.
Even if they are pardoned here, they will have to suffer for their misdeeds in successive rebirths-but, who will witness this?
To forgive is divine and constitute Satvik characteristic, paying  the way to divinity-Salvation.
क्षमा :: क्षान्ति-बिना क्षमा मांगे ही क्षमा करना। (-निन्दा, पराजय, आक्षेप, हिंसा, बन्धन, और वध तथा दूसरों के क्रोध से उत्तपन्न होने वाले दोषों को सह लेना, धर्म का साक्षात साधन है) संसार में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो आप को बार बार दुःख पंहुचाते हैं। फिर मांफी मांग लेते हैं। जब भी उसने मांफी मांगी, आपने उसे मांफ कर दिया। इससे वह और भी कठोर और निष्ठुर हो गया। उसे आपके अन्दर एक ऐसा आदमी मिल गया, जिस को कभी भी कहीं भी प्रताड़ित किया जा सकता है, सताया जा सकता है। कब तक बर्दाशत करोगे ? उसे सजा मिलने दो, अन्यथा वह नहीं सुधरेगा। ऐसी कांटे को निलने से पहले ही मसल दो। ऐसे लोगों को तो समाज से दूर जेल में ही होना ही चाहिए। उन्हें समाप्त कर दो हमेंशा के लिए। 
उन्हें यहाँ भले ही मांफी मिल जाये, भगवान से मांफी कभी नहीं मिल सकती। परमात्मा का नियम है कर्म का फल अवश्य मिलेगा -बुरे को बुरा, भले को भला। पर वहां ये सब हम कैसे देखंगे ?
क्षमा करना एक सात्विक गुण है जो कि दैव मार्ग-मोक्ष का द्वार खोलता है। 
(3). CONSOLATION:(-To assure-console the worried-pained and protect him) Assure-console the worried-pained and protect him. When one console the worried-grieved, he becomes calm and quite. In due course of time his grief is reduced considerably. He becomes normal. At occasions he is afraid of some one/enemy/invaders/terrorists/animal/ghost and you are capable of protecting him. Give him shelter-asylum, but ensure that he may not target you in future. Protection granted to dreaded enemies often back fires.
There are instances when protection was granted and the protected  attacked the protector. Take the case of venomous snakes. They may attack you any time, even if you feed/protect them. Its a part of their nature. If you are capable of protecting yourself from such attacks, proceed; otherwise not.
To protect the sinner is sin.
आश्वासन: दुःख से पीड़ित प्राणी को आश्वासन प्रदान करना और उसकी रक्षा करना। रघुकुल रीत सदा चली आई प्राण जाये पर वचन न जाई। अगर आप में सामर्थ है तो ऐसा करो अन्यथा कतई नहीं। पृथ्वीराज चौहान का उदाहरण याद रखो। 17 बार छोड़ने के बाद भी मौह्म्मद गौरी ने अन्त में बंदी बना लिया। पापी कि रक्षा करना भी पाप है। दुःख से पीड़ित प्राणी को आश्वासन प्रदान करना और उसकी रक्षा करना। 
(4). JEALOUSY :: Jealousy create unfounded desires-competition-anonymity-rivalry, which results in  tensions-unrest-instability of  mind.  One may become nervous. He dreams too big but make no/little effort for achieving his goal-target-ambitions. If unsuccessful in his ventures, he should remove weaknesses of his system-design-working, in stead of having ill will-grudge for others-competitors. He find other people acquiring all sorts of amenities of life and start craving for them. Envy develops hate-repulsion for those who have attained what he could not. This is a state of mind which can motivate him to commit a crime of any magnitude. It may create brain disorders. Enmity leads to sins and hell, ultimately. One should make efforts to eliminate spite-grudge and seek asylum in the Ultimate. Do not to have envy-anonymity-enmity with any one.
ईर्ष्या :: जगत में किसी से ईर्ष्या-द्वेष न करो। दुर्योधन बचपन से ही पाण्ड़वों से ईर्ष्या रखता था। वो उनसे किसी भी बात में सानी नहीं रखता था। इसी वजह से उसने, उनके राज्य को हड़पना चाहा। उसकी तृष्णा बढ़ती ही गई और इसकी परिणति महाभारत में हुई और उसका कुल नाश हो गया। मनुष्य को जगत में किसी से भी ईर्षा-द्वेष नहीं  करना-रखना चाहिये। 
(5). PURITY-PIOUSITY-VIRTUOUSNESS: Internal purity is connected to the mind-thoughts-ideas-concepts-visualization of things-happenings. Our soul perpetuate from one life to another vibrating from incarnation to another depending upon the deeds, our performances in respective births. Often we think-act through our perception of likes or dislikes, what pleases us make us react. We give more weightage to our relations determined by heart-attachments. Warnings come from the brain but we prefer to discard them. As a matter of fact one should think twice before acting. Ethics-virtues-purity of thoughts-righteousness-honesty leads to holiness, higher abodes, closer to the God.
External purity is equally important. it involves our behavior-actions-dealings with others-society. What we speak is important.We should not hurt the sentiments of others. One should not insult others. One should avoid watching-listening-mixing with the wretched-vulgar-indecent. Avoid commenting over them as well. Try to adhere to truth-honesty. 
Bathing in holy rivers, shrines, holy places do help us. Regular bathing is equally important since it keep one free from germs, fit and fine.
बाह्य  व आन्तरिक पवित्रता-शुद्धि :: मन चंगा तो कठोती में गंगा। बाह्य व आन्तरिक पवित्रता, दोनों ही मनुष्य के भविष्य का निर्धारण करतीं हैं, उसके अगले जन्मों को तय करतीं हैं। 
(6). AUSPICIOUS-PROPITIOUS CEREMONIES माँगलिक कार्य :: परिश्रम रहित अथवा अनायास प्राप्त हेतु कार्यों के अवसर पर उन्हें मांगलिक आचार-व्यवहार के द्वारा संपन्न करना।  Events which do not involve labor or occasions which are obtained-comes up instantly, should be celebrated with auspicious rituals-Mantr-Shloks.
(7). HELPING सहायता :: One must spend at least 1/6th of his earnings over charity-helping the needy-infirm-weak. Its essential to satisfy one self whether the person is wasting the funds provided to him over the prostitutes-narcotics-wine-criminal activities-terrorism. Do not to hold back the strings of the purse, while helping the poor-down trodden, with the earned by own labor-efforts.If the funds provided by you are used on evil-wicked acts, the recipient will drag you to the hells along with him.
जहाँ तक सम्भव हो मनुष्य को जरूरत मंद व्यक्ति-असहाय-कमजोर की  सहायता अवश्य करनी चाहिए। फिर भी यह आवश्यक है कि इस बात की जाँच-पड़ताल कर ली जाये कि वह व्यक्ति वास्तव में ही सहायता के लायक है भी या नहीं। कहीं ऐसा न कि आपसे प्राप्त धन से वो शराब-जुआ-वेश्या गमन आदि कर रहा हो। अगर ऐसा हुआ तो वो अपने साथ-साथ सहायता करने वाले को भी नरक में घसीट लेगा। अपने द्वारा उपार्जित द्रव्यों से दीन दुखियों की सहायता करते समय कृपणता-कंजूसी नहीं  बरतनी चाहिए।
(8). DETACHED-UNCONCERNED :: One must remain aloof-unconcerned from the wealth and women belonging to others.
पराये धन और पराई स्त्री के प्रति सदा निस्पृह रहना।नारी नरक का द्वार है। दूसरे की धन-संपत्ति छीनने वाला आताताई कहलाता है, शास्त्रों में उसके वध का विधान है। छीनने वाला नरक गामी-अधोगति को प्राप्त होता है।  
These are the means of Karm Yog  and Gyan Yog. Gyan Yog can not be achieved-attained without Karm Yog.
ये कर्म योग व ज्ञान  योग के साधन हैं। कर्म योग के बिना ज्ञान योग की प्राप्ति नहीं होती।  
PAVING WAY FOR SALVATION 
Yam and Niyam are useful to both types of devotees: The one who works selflessly and the one who want-seek fulfilment of his desires. One who practice  these is granted-blessed-provided with comforts-luxuries enjoyment and Moksh-Liberation, simultaneously. 

 12 YAM: SELF RESTRAINT-CONTROLS-यम
(1). NON VIOLENCE ::  (-अहिंसा) : स्वयं सहित किसी भी जीवित प्राणी को शारीरिक, मन, वचन या कर्म से दुख या हानि नहीं पहुंचाना। हत्या न करना। इसका लाभ-किसी के भी प्रति अहिंसा का भाव रखने से जहां सकारात्मक भाव के लिए आधार तैयार होता है वहीं प्रत्येक व्यक्ति ऐसे अहिंस व्यक्ति के प्रति भी अच्छा भाव रखने लगता है। सभी लोग परस्पर अच्छा भाव रखेंगे तो जीवन में अच्छा ही होगा।अहिंसा परमो धर्म। मांसाहार से सदा बचना चाहिये। व्यर्थ की हिंसा से दूर ही रहना चाहिये। इसका मतलब यह नहीं है कि कोई तुम पर हमला करे और तुम हाथ पर हाथ धरे बैठे रहो। डट कर मुकाबला करो और आता ताई को समूल नष्ट करो। भगवान बुद्ध और गाँधी जी की अहिंसा की नीति सदैव प्रासांगिक नहीं होती।चाणक्य नीति का अनुसरण समयानुसार उचित है। शान्ति चाहते हो तो युद्ध के लिए तैयार रहो। ब्राह्मण का वध करने वाले को बृह्म हत्या लग जाती है और वो नरक गामी होता है।
ब्रह्महत्या :: पूर्व काल में वृत्रासुर और इन्द्र में 11,000  वर्ष तक युद्ध हुआ, जिसमें इन्द्र की हार हुई और वे भगवान शिव के शरणागत हुए। इन्द्र को वरदान प्राप्त हुआ और उन्होंने प्रभु कृपा से, वृत्रासुर का वध किया, जो ब्राह्मण पुत्र था। इस लिये उन्हें ब्रह्म हत्या लग गई। वे ब्रह्मा जी की शरण में गये। ब्रह्महत्या ने इन्द्र के शरीर से हटने के लिये अन्य स्थान माँगा, तो उन्होंने उसे 4 भागों में बाँट दिया। 
पहला भाग अग्नि देव को मिला। जो कोई प्रज्वलित अग्नि में बीज, औषध, तिल, फल, मूल, समिधा और कुश  की आहुति नहीं डालेगा, ब्रह्महत्या अग्नि को छोड़ कर उसे लग जायेगी।
दूसरा भाग वृक्ष, औषध और तृण को मिला। जो कोई व्यक्ति मोह वश अकारण, इन्हें काटेगा या चीरेगा, ब्रह्म हत्या, इन्हें छोड़ कर उसे लग जायेगी।
तीसरा भाग अप्सराओं को मिला। जो कोई व्यक्ति रजस्वला स्त्री से मैथुन करेगा, यह तुरन्त उसे लग जायेगी।  
चौथा भाग जल ने गृहण किया। जो व्यक्ति अज्ञानवश जल में थूक, मल-मूत्र डालेगा, वही ब्रह्महत्या का निवास बन जायेगा। 
प्राचीन काल से ही कोई भी न्यायाधीश, इस भय से ब्राह्मण को प्राण दण्ड नहीं देता था। 
(2).TRUTH-सत्य :: Speak the truth. God is Ultimate truth-reality. Its a means to attain Salvation. But always speak the truth which is not going to harm any one, un necessarily-without reason-logic.Truth always triumphs. Truth is truth. One who do not speak the truth reserves his seat in hells.
सत्य :: सत्य से मनुष्य  इस लोक पर विजय पाता है। यह परम पद है। सदा सत्य बोलो। मृत्यु सत्य है।परमात्मा-ब्रह्म ही अन्तिम सत्य है। 
LIE-झूंठ :: A lie for the sake of humanity-welfare of mankind-to save an innocent person from ruin-disaster-torture-imprisonment-misery-cruelty is better than a plain truth.
एक ऐसा झूंठ जो किसी निर्दोष की रक्षा करता हो वह एक सत्य से उत्तम है।सत्य वादी नाम के तपस्वी सरस्वती के तट पर तपस्या के रहे थे।एक व्यापारी लुटेरों से बचने के लिए उनके पास आया तो उन्होंने उसे कुटिआ के अन्दर छुपा दिया। लुटेरे उसे ढूंढते हुए वहाँ आये तो, अन्दर इशारा कर  दिया।  भगवान श्री कृष्ण ने ऐसे सत्य को असत्य से भी हीन-बुरा माना।
सत्य ही परम मोक्ष, उत्तम शास्त्र, देवताओं में जाग्रत् तथा परम पद है। 
तप, यज्ञ,पुण्य कर्म, देवर्षि-पूजन,आद्य विधि और विद्या सत्य में प्रतिष्ठित हैं। 
सत्य ही यज्ञ, दान और सरस्वती है। 
सत्य ही व्रतचर्या और ॐ कार है। सत्य से वायु चलती है, सूर्य तपता है, आग जलती है और स्वर्ग टिका हुआ है। 
सत्यवादी देवताओं के पूजन तथा सम्पूर्ण तीर्थों में स्नान का फल प्राप्त  कर लेता है।
सम्पूर्ण यज्ञों की अपेक्षा सत्य का पलड़ा ही भारी है। 
देवता, पितर और ऋषि सत्य में ही विश्वास रखते हैं।
सत्य ही परम धर्म और परम पद है। 
यह ब्रह्म स्वरूप है। जो मनुष्य अपने, पराये अथवा पुत्र के लिये भी असत्य भाषण नहीं करते, वे स्वर्गगामी होते हैं। ब्राह्मणों में वेद, यज्ञ तथा मंत्र निवास करते हैं। किन्तु जो ब्राह्मण सत्य का परित्याग कर देता है उसमें ये शोभा नहीं देते-उसका त्याग कर देते हैं।अतः मनुष्य को सदैव सत्य भाषण ही करना चाहिये।  [पद्मपुराण ]   

(3). SELF RESTRAINT FROM STEALING-THEFT (ASTEY अस्तेय) :: Stealing leads to hells. One must not steal.
चोरी एक ऐसा अपराध है, जो मनुष्य को नर्क ले जाता है और वहाँ से मुक्ति के तदुपरान्त हीन योनियों में जन्म प्रदान करता है। चोरी करने वाला, चोरी का माल खरीदने वाला, बेचने वाला बराबर के अपराधी हैं।
(4). IRRELEVANCE (not to have unwanted-irrelevant company, असंगता) :: Undesirable company is always bad. One learns all sorts of evils-bad deeds-bad habits which puts him in trouble time and again. It takes one to Shaetan away from the God and paves the way for Hells. Some times, one is dragged to notoriety unknowing. The parents should be extremely careful, while handling the child. He should be nursed properly. The parents should teach-elaborate-discuss the epics, scriptures along with the teachings of renowned people-sages.
(5). SHAME शर्म-हया-लज्जा :: Bashfulness-modesty is like an ornament. One who cares for his parents-teachers-elders-God avoid such acts in front of them, which are not good-which are considered bad or anger them; to be done in front of others like sex, nudity, easing, urinating, smoking, drinking or the taboo. This is a manner to show respect-regard for them. सामाजिक मर्यादा का पालन हर मनुष्य को करना चाहिये।लज्जा स्त्री का गहना है। 
(6). ACCUMULATION (-no need to add-accumulate wealth, funds असंचय (-आवश्यकता से अधिक धन नहीं जोड़ना) :: One should have sufficient money to fulfill his needs after retirement and in an hour of need. People make investments-bank deposits for lean season. All religious ceremonies needs money and no activity can be performed without money. One should assess his needs and act accordingly. One should have sufficient funds for donation-charity and to avoid loans-begging. Accumulated wealth invites cheats-thugs-thieves-dacoits-bandits-criminals and even the state to steal-snatch it.One should not be a miser. 
पूत  कपूत तो क्यों धन संचय, पूत  सपूत तो क्यों धन संचय। जोड़-जोड़ मर जायेंगे, मॉल जमाई खायेंगे। कहते हैं धन संग्रह करने वाला उसकी रक्षा करने के लिए साँप बनता है। 
(7). FAITH IN GOD-RELIGION आस्तिकता-आस्था :We are the most valuable creations of God. One must have faith in Him. He is always with us. Religiosity and Atheism (-a belief that there is no God) are two phenomenon, which act in opposite directions, never to meet. India is a country where, majority of populations constitute of  the followers of Hinduism-The Sanatan Dharm, ancient way of life.  It's a very very liberal community. 
इसे ईश्वरवाद भी कहा जाता है। 
Religiosity makes one pious-virtuous-honest-a kind hearted person and improves the incarnations in future.
(8). CELIBACY-ASCETICISM ब्रह्मचर्य :: It connects one with the God. It retains the vigour, health, potency, memory, strength of a person. It protects one in an hour of need. The student life up to the age of 25 years is considered to be meant for celibacy. One is not supposed to interact with opposite sex during this period. While one is out of the Ashram for begging alms he has to keep his eyed down facing earth, and call every women Mata-mother.
(9). SILENCE मौन::  कम बोलना अच्छी आदत है। चुप रहना, व्यर्थ की बातचीत-बकबास-वाद विवाद से अच्छा है। इससे ऊर्जा की बचत होती है और ध्यान केन्द्रित रहता है। एकांत-वन-गुफा  में रहना, घर-गृहस्थी में रहकर कम बोलने से-न बोलने से आसान है। इसके लिए अभ्यास की आवश्यकता है। विवाद में फँसने से अच्छा  है, बात को हँसकर टाल देना-तूल न देना-माँफी मांग लेना। जिन लोगों को हर वक्त बकर-बकर करने की आदत होती है, उनसे दूर ही रहना चाहिये । एक चुप सौ को हराता है। 
इसका अर्थ यह नहीं है कि जरुरत के वक्त भी मौन रहो। आवश्यकता पड़ने पर अपनी बात पूरे जोर-शोर-दबाब से कहो।
Silence is Golden. It does not detach one from the living world. It brings peace, solitude, equanimity with it. It transcends  a person to the eternal. One goes beyond or outside the range of human experience-reason-belief-power of description. Silence can be used as a tool for eloquence-skillful use of language, to persuade or to appeal to the feelings, fluent speaking.  
Powerful-strong pulses of brain waves start pushing through the space and are received by the devotee-seeker bringing about a  complete change-metamorphosis in the thoughts pattern-ideas, granting him devotion-prudence-enlightenment. Piousness of thoughts enchant the ascetics all around-all over. Holy person generate-transmit, harmony-peace-solace-tranquillity-calm-quietness to the recipients. A stage is reached, where body consciousness, along with thoughts, pertaining to others, pervading the mind, disappear automatically, leaving behind the  worshipper, enchanted with the Supreme. 
(10). STABILITY स्थिरता :: One should be stable in stead of moving from one place to another. He should be not be flickering mind. Those who meditate-concentrate in God stay at one place in solitude year after year. Having adopted the life of a sage-recluse they do not turn to family way-house hold.
(11). FORGIVENESS-PARDON क्षमा :: To forgive is divine. One who is capable of containing the aggression-threat-attack may pardon the guilty but only after ascertaining that he will not be able to tease-torture again. Instead of hanging the guilty, let him be may be put to life sentence-imprisonment, till death. Mohammad Ghouri attacked India 17 times and was pardoned by Prathvi Raj Chauhan (-incarnation of Dhrat Rashtr)  on 16 occasions. At last he was successful. He  caught and blinded Prathvi Raj Chauhan and took him to Kabul in a cage. One should be able to crush such people; or else eliminate them at once. क्षान्ति-निन्दा, पराजय, आक्षेप, हिंसा, बन्धन और वध को तथा दूसरों के क्रोध से उत्तपन्न होने वाले दोषों को सह लेना। बिना क्षमा मांगे ही क्षमा करना। 
(12). LONELINESS अमय :: The sages-saints-ascetics wander alone and move out of the periphery-boundaries of residential areas before it becomes dark. भगवत भक्ति-भजन-चिन्तन-स्मरण एकांत में ही करना चाहिये ताकि मन की  शान्ति-एकाग्रता बनी रहे। चित्त उद्विघ्न न हो, चिन्ताएँ न हों, सब तरफ शान्ति ही शान्ति हो।  
12 NIYAM-SANCTIONS-RULES
12 Niyam-Sanctions-Rules: Shouch-cleanliness (-external, outer and inner purity), Jap-chanting, Tap- tenacity-meditation, Hawan-Agnihotr-sacrifice in fire, faith, serving- welcoming guests, Bhagvat Bhajan (-recitation of the names of God), worship, pilgrimage, efforts to help the needy-poor-down trodden -charity, contentment-satisfaction,  serving the mentor- master-teacher-educator.
वृती :- यह यम नियम संयम आदि कठोर शारीरिक और मानसिक क्रियाओं द्वारा मन को निग्रह करने का प्रयास है। शम, दम, उपरति, तितीक्षा, समाधान, श्रद्धा। मन को संसार से रोकना शम है। बाह्य इन्द्रियों को रोकना दम है। निवृत्त की गयी इन्द्रियों भटकने न देना उपरति है। सर्दी-गर्मी, सुख-दुःख, हानि-लाभ, मान अपमान को शरीर धर्म मानकरसरलता से सह लेना तितीक्षा है। रोके हुए मन को आत्म चिन्तन में लगाना समाधान है। 
SHUM-TRANQUILITY शम : Enlightenment-dedication of all faculties-intellect in the divinity through absence of passions-peace of mind-quiet-rest. Channelise all of one's efforts-energy-power to assimilate in the Eternal-Ultimate. Intentional cultivating an inner attitude of tranquillity, peace of mind, or contentment is a foundation on which the other practices can rest. 
DUM TRAINING DISCIPLINE दम : Training of the senses (-Indriy, इन्द्रिय संयम) means the responsible use of the senses in positive, useful directions, both in our actions in the world and the nature of inner thoughts we cultivate. Controlling sense organs, sensuality, lust, passions.  Restraint of the senses-sensuality-passions-mortification-subduing feelings.
Endurance: Bearing of sorrow-pains by virtue of justice.
PATIENCE: Control-Victory over tongue and genitals (-vagina, pennies), sex organs-passions, sensuality.
DONATION CHARITY दान: Giving alms, food, shelter, asylum, protection-safety, financial help to the needy-one who deserve. 

DONATION CHARITY दान: Giving alms, food, shelter, asylum, protection-safety, financial help to the needy-one who deserve.
अन्न दान: अन्न के समान न कोई दान है, न होगा। कल्याण की इच्छा रखने वाले व्यक्ति को उचित है कि वह अपने कुटुम्ब को कष्ट देकर भी महात्मा ब्राह्मण को दान अवश्य दे। थके मांदे अपरिचित राहगीर को जो बिना क्लेश अन्न (-भोजन) देता है, वो सब धर्मों का फल प्राप्त कर लेता है। अन्न से देवता, पितर, ब्राह्मण और राहगीर को तृप्त करने वाला, अक्षय पुण्य प्राप्त करता है। अन्न दान पाप से मुक्ति दिलाता है। ब्राह्मण को दिया अन्न दान अक्षय और शुद्र को दिया गया दान महान्  पहल दायक है।
जल दान: बावली, कुआँ और पोखरा बनवाना चाहिये। जिसके बनवाये गये जलाशय से गौ, ब्राह्मण और साधु पुरुष पानी पीते हैं, उसका कुल तर जाता है।पोखरा बनवाने वाला, तीनों लोक में सम्मानित होता है। मनुष्य, गन्धर्व, पितर, नाग, राक्षस तथा स्थावर प्राणी भी जलाशय का सहारा लेते हैं।जिसके पोखरे में वर्षा ऋतु में ही जल रहता है, उसे अग्निलोक का फल मिलता है। जिसके तालाब में हेमन्त और शिशिर काल तक जल ठहरता है, उसे सहस्त्र गौ दान का फल मिलता है। वसन्त और ग्रीष्म ऋतु तक पानी ठहरने पर मनीषी पुरुष अतिरात्रि और अश्वमेध यज्ञों का फल प्राप्त करता है। जिसके पोखरे में गर्मी तक पानी ठहरता है, वह कभी दुर्गम एवं विषम संकट का सामना नहीं करता।
वृक्ष लगाना : वृक्ष लगाने वाला अपने पितर और वंशजों का भी उद्धार कर  देता है और अक्षय लोकों को प्राप्त करता है। वृक्ष अपने फूलों से देवताओं, पत्तों से पितरों, छाया से समस्त अथितियों का पूजन करते है। किन्नर, राक्षस, मानव, देवता, ऋषि, यक्ष तथा गन्धर्व भी वृक्षों का आश्रय लेते हैं। वृक्ष फल और  फूल से युक्त होकर इस लोक में मनुष्यों को तृप्त करते हैं। वे इस लोक और परलोक में भी पुत्रवत माने गये हैं।
पशु दान : जो श्रेष्ठ पात्र को गौ, भैंस, हाथी, घोड़े दान देता है, वो अश्वमेध यज्ञ का फल पाता है।
धन व वस्त्र दान : जो व्यक्ति सुपात्र को धन, सुवर्ण, धान्य, वस्त्र दान करता है, वो परम गति को प्राप्त करता है।
अति दान: गौ दान, भूमि दान व विद्या दान अति दान कहलाते हैं।
भूमि दान : जो व्यक्ति सुपात्र को जोती-बोई एवं फलों से भरी हुई भूमि दान करता है, वो अपनी दस पीढ़ी पहले के पूर्वजों व दस पीढ़ी बाद के वंशजों को तार देता  है और विमान में बैठ कर विष्णु लोक जाता है।
दीप दान : दीप दान करने से मनुष्य सौभाग्य, अत्यन्त निर्मल विद्या, आरोग्य, परम उत्तम समृद्धि  के साथ-साथ सौभाग्यवती पत्नी, पुत्र, पौत्र, प्रपौत्र तथा अक्षय सम्पत्ति पाता है। ब्राह्मण ज्ञान, क्षत्रिय उत्तम राज्य, वैश्य धन और पशु तथा शुद्र सुख की प्राप्ति करता है। कुमारी कन्या को शुभ लक्षणों से युक्त पति, पुत्र-पौत्र तथा बड़ी आयु मिलती है और कभी वैधव्य नहीं देखना पड़ता। स्वामी से वियोग नहीं होता। भयभीत परुष भय से तथा कैदी बंधन मुक्त हो जाता है। दीपदान ब्रह्म हत्या, मानसिक चितां तथा रोगों से भी मुक्ति दिलाता है। दीप का प्रकाश दान करने से मनुष्य रूपवान्  होता है और दक्षिणा देने से स्मरणशक्ति  तथा मेधा (-धारणा शक्ति)   प्राप्त होता है।
जो लोग मंदिर के दिए में सदा ही यथाशक्ति तेल और बत्ती डालते हैं, वे परम धाम को जाते हैं। जो व्यक्ति स्वयं असमर्थ होते हुए बुझते या बुझे हुए दिए की सूचना देते हैं, वे भी परमधाम के अधिकारी होते हैं। यदि कोई भीख मांगकर भी भगवान विष्णु के सम्मुख दिया जलाता है, तो वो भी पुण्य का भागीदार हो जाता है। दीपक जलाते समय यदि कोई नीच पुरुष भी श्रद्धा से हाथ जोड़कर उसे निहारता है, तो वो भी विष्णुधाम को जाता है। दूसरों को भगवान के सम्मुख दिया जलाने की सलाह देने वाला भी सब पापों से मुक्त हो श्री धाम प्राप्त करता है। अतः मनुष्य को यथा सम्भव भगवान के सम्मुख या मार्ग में राहियों कि सुविधा के लिए दिया अवश्य जलाना चाहिए। [पद्मपुराण]
जो सदा सत्य बोलते हैं, पोखरे के किनारे वृक्ष लगा ते हैं, यज्ञानुष्ठान करते हैं, वे कभी स्वर्ग से भ्रष्ट नहीं होते।दान का पात्र : पुराण वेत्ता पुरुष दान का सर्व श्रेष्ठ पात्र है। वह पतन से त्राण करता है, इसलिए पात्र है। ब्राह्मण शांत होने के साथ ही विशेषतः क्रियावान् हो। इतिहास-पुराणों का ज्ञाता, धर्मज्ञ, मृदुल स्वभाव का पितृ भक्त, गुरुसेवा परायण तथा देवता-ब्राह्मणों का पूजन करने वाला हो। वो गुणवान, जितेन्द्रिय, तपस्वी हो।  जो ब्राह्मण श्रोतिय, कुलीन, दरिद्र, संतुष्ट, विनयी, वेदा भ्यासी, तपस्वी, ज्ञानी और इन्द्रिय संयमी हो उसे ही दिया गया दान अक्षय होता है। 
Tap-Tenacity: Asceticism, Renunciation-rejection-conquering of desires. Reject all desires.
Shrurut-valor: Conquering passions-sensuality-desires.
Saty-Truth: Experiencing-visualising the equanimity-true divinity, all around, (just speaking of truth is not sufficient).
Shrt:  Speaking the truth and pleasant-speech that consoles-soothes the listener.
Shouch-purity: Not to indulge in desires. 
Sanyas-retirement: Renunciation of desires-detachment.
Wealth: Religiosity-piousity-righteousness is true-intended, for humans.
Yagy-Sacrifice: God himself is Yagy (-the one who accepts all offerings).

Dakshina:  Blessing with enlightenment-knowledge.

Pranayam-Yog: Pranayam generates-provides great strength force.

Bhag-vulva: The divine-superhuman power of God.

Labh-Gain-Advantages: Great devotion-subjecting one, to the dictates of God, is excellent form of Bhakti-devotion.
Vidya-Lore-Learning-Education: Eliminates the distinctions between the Brahm and Soul (-jeev-organism), difference between the divine and the soul disappears.
Lajja-Shame: To treat sin as a hate (-ghrana, घृणा)-taboo-disgrace.
Shree: True-real neutrality, absolute form.
Pleasure-Pain: Equanimity between pleasure and pain (-comforts and sorrow) is real-true pleasure.
Grief: Desire for passions-sensuality. 
Pundit-Scholar-Philosopher-Priest: Knows the gist-extract-nectar-elixir of attachment and Salvation.
Stupid:  One attached with the body, (-does not think beyond the current birth, life after death and improvement of the next births).
Sumarg-Good Company: The path which detaches the creature-organism from the world and connects-attaches with the Almighty. 
Kumard-misled-Bad Company : Indecent path which lures one, towards the world (-rejection of the devil, bad company, wicked-wretched-evil). 
Heaven: Increase-enhancement of Satv Gun-divinity.
WITHDRAWAL (-uprati, उप्रति): With a proper inner attitude of tranquility and the training of the senses, satiety, natural sense of completeness, one should not seek sensory experiences. Saturation, satisfaction may also provide an outlet to safely move to the shelter of the Almighty.
FORBEARANCE (-titikksha, तितिकक्षा): Forbearance and tolerance of external situations allows one to be free from the onslaught of the sensory stimuli and pressures from others to participate in actions, speech or thoughts, that one knows to be going in a not-useful-evil-wicked direction. 
FAITH (-shraddha, आस्था, विश्वास, श्रद्धा): Faith in God should be essential-integral part of an individual. Mutual faith too is essential in a family-household, society. Faith in the scriptures, epics, sermons of the holy souls,  saints and the ruler are necessary. An intense sense of certainty about the direction one is going to keep  in the right direction, persisting in following the teachings and practices that have been examined and seen to be productive, useful, and fruit bearing. 
SOLUTION (-samadhan, समाधान): Resolute focus towards harmonising and balancing of mind, its thoughts and emotions, along with the other virtues, brings a freedom to pursue the depth of inner exploration and realisation. 
मोक्ष मार्ग के सहाय

12 यम  :: अहिंसा, सत्य, अस्तेय (चोरी न करना ), असंगता, लज्जा, असंचय (-आवश्कता से अधिक धन नहीं जोड़ना), आस्तिकता, ब्रह्मचर्य, मौन, स्थिरता, क्षमा, अमय। 
12 नियम :: शौच (बाहरी और भीतरी पवित्रता), जप, तप, हवन, श्रद्धा, अतिथि सेवा, भगवत भजन, तीर्थ यात्रा, परोपकार की चेष्टा, संतोष व गुरु सेवा। 
यम-नियम सकाम और निष्काम दोनों प्रकार के साधनों के लिए उपयोगी हैं। पुरुष के द्वारा इनका प्रयोग-पालन, उसे इच्छानुसार भोग और मोक्ष प्रदान करता है।
विज्ञान :: छहों अंग, चारों वेद, मीमांसा, विस्तृत न्याय शास्त्र, पुराण और धर्म शास्त्र। धर्म की वृद्धि, विधि पूर्वक विद्याद्ययन करके धन का उपार्जनकर धर्म-कार्य का अनुष्ठान। 
सदा आत्म चिन्तन : अक्षर -अविनाशी पद को अध्यात्म समझना-जहां जाकर मनुष्य शोक में नहीं पड़ता। 
ज्ञान :: जिस विद्या से षड्विध ऐश्वर्य युक्त परम देवता साक्षात भगवान् हृषिकेश का ज्ञान होता है।वेद, शास्त्र, इतिहास, पुराण का अध्ययन, बोध, कर्तव्य-अकर्तव्य की समझ। विज्ञान-यज्ञ के विधि-विधान, अवसर, अनुष्ठान का उचित-समयानुसार प्रयोग। 
शम :: बुद्धि का परमात्मा में लग जाना। बुद्धि की निर्मलता। मन को जहाँ लगाना हो लग जाये और जहाँ से हटाना हो वहां से हट जाये।  
आर्जवन-शरीर, मन, वाणी व्यवहार, छल, कपट, छिपाव, दुर्भाव शून्य हों।
आस्तिकता-परमात्मा, वेद, शास्त्र, परलोक आदि में आस्था-विश्वास, सच्ची श्रद्धा और उनके अनुसार ही आचरण।
दम :: इंद्रियों को वश में रखना-संयम दम  है। शरीर की उपरामता। 
तितिक्षा :: न्याय से प्राप्त दुःख को सहने का नाम तितिक्षा है।
धैर्य: जिव्हा व जननेद्रिय पर विजय, धैर्य है। 
दान :: किसी से द्रोह न करना, सबको अभय देना  दान है।
दया: अपने दुःख में करुणा तथा दूसरों के दुःख में सौहार्द पूर्ण सहानुभूति जो कि धर्म का साक्षात साधन है। 
तप :: कामनाओं का त्याग।अपने धर्म का पालन करते हुए जो कष्ट आये उसे प्रसन्नतापूर्वक सहन करना।  मन का संतुलन बनाए रखना ही तप है। व्रत जब कठीन बन जाता है तो तप का रूप धारण कर लेता है। निरंतर किसी कार्य के पीछे पड़े रहना भी तप है। निरंतर अभ्यास करना भी तप है। त्याग करना भी तप है। सभी इंद्रियों को कंट्रोल में रखकर अपने अनुसार चलापा भी तप है।
उत्साह एवं प्रसन्नता से व्रत रखना, पूजा करना, पवित्र स्थलों की यात्रा करना। विलासप्रियता एवं फिजूलखर्ची न चाहकर सादगी से जीवन जीना। इंद्रियों के संतोष के लिए अपने आप को अंधाधुंध समर्पित न करना भी तप है।
जीवन में कैसी भी दुष्कर परिस्थिति आपके सामने प्रस्तुत हो, तब भी आप दिमागी संतुलन नहीं खो सकते, यदि आप तप के महत्व को समझते हैं तो। अनुशासन एवं परिपक्वता से सभी तरह की परिस्थिति पर विजय प्रा‍प्त की जा सकती है।
शूरता :: अपनी वासनाओं पर विजय प्राप्त करना। 
Win-over power-control each and every kind of lust-instincts.
सत्य :: सर्वत्र सम स्वरूप,  सत्य स्वरूप,  परमात्मा का दर्शन ही सत्य है। Visualisation of the Almighty who is truth, in each and every one-organism-God's creations.
श्रत :: सत्य व मधुर भाषण ही सत्य है। 
Speak the pleasant truth.
शौच: कामनाओं में आसक्त न होना। मन, बुद्धि, इन्द्रियां, शरीर, खान-पान, व्यवहार को पवित्र रखना। सदाचार का पालन। 
Rejection all needs-desires-wants.   

सन्यास: कामनाओं का त्याग। Rejection-relinquishing  of the world
धन : धर्म ही मनुष्यों का अभीष्ट धन है। Religion-pious-virtuous-righteous duties is the only religion
यज्ञ : परमेश्वर-शिव ही यज्ञ है। The Almighty is Yagy-all prayers-Agnihotr-sacrifices are offered to him.
दक्षिणा: ज्ञान का उपदेश। Preaching advising enlightenment-eternal truth.
प्राणायाम: प्राणायाम ही श्रेष्ठ बल  है। Pranayam-Yog is the Ultimate strength.
भग: परमात्मा का ऎश्वर्य है। Only wealth-luxury is the attainment of the Almighty.
लाभ: परमात्मा की श्रेष्ठ भक्ति ही लाभ है।Devotion to the ultimate God is the only gain-profit, attained through this perishable body.
विद्या: सच्ची विद्या वही है, जिससे परमात्मा और आत्मा का भेद मिट जाता है। The real learning is one which clears the difference between the soul and the Almighty.
लज्जा Shyness :: पाप करने से  घृणा  का नाम ही लज्जा है।
Hatred towards sin real shame.
श्री: निरपेक्षता आदि गुण ही शरीर का सच्चा सौन्दर्य-श्री है। Neutrality is the real beauty.
सुख: सुख व दुःख दोनों की भावना का सदा  के लिये नष्ट हो जाना सुख है। The vanishing of the feeling of pain and pleasure is the real happiness. 
दुःख: विषय भोगों की कामना ही दुःख है। Desire of pleasure is real worry-pain.
पंडित :: जो बंधन और मोक्ष का तत्व जनता है, वही पंडित है।  
One who understands the gist of attachment and Salvation is the Philosopher-Pandit-Scholar.
मूर्ख :: शरीर आदि में जिसका मैं पन-अपना पन-लगाव  है, वही मूर्ख  है। 
One suffering from the feeling of I-My-Me-Egotism is the real imprudent-Idiot-fool.
सुमार्ग: जो संसार की ओर से निव्रत्त करके परमात्मा की प्राप्ति करा देता, है वही  सच्चा सुमार्ग है। 
The path which leads to detachment and relinquishing this world is the right-correct path-way.
कुमार्ग: चित्त की वहिर्मुखता  ही कुमार्ग है। 
स्वर्ग: सत्व गुण की वृद्धि ही स्वर्ग है। 
नरक:तमो गुण की वृद्धि ही नरक है। 
बंधु: गुरु परमात्मा की प्राप्ति ही सच्चा भाई बंधु  है। 
घर: मनुष्य शरीर ही सच्चा घर है। 
धनी: सच्चा धनी वह है, जो गुणों से सम्पन्न है, जिसके पास गुणों का खजाना है। 
दरिद्र: जिसके चित्त में असंतोष है,अभाव का बोध है, वही दरिद्र है। 
कृपण: जो जितेन्द्रिय नहीं है,वही  कृपण है। 
ईश्वर : समर्थ, स्वतंत्र और ईश्वर वह है, जिसकी चित्त वृति विषयों में आसक्त नहीं है। 
असमर्थ : जो विषयों में आसक्त है ,वही  सर्वथा असमर्थ है। 
इनको समझ लेना ही मोक्ष-मार्ग के लिए सहायक है । 
गुणों और दोषों पर द्रष्टि  जाना ही सबसे सबसे बड़ा दोष है । 
गुण दोषों पर द्रष्टि नहीं जाना, अपने नि संकल्प स्वरूप में स्थित रहना -ही सबसे बड़ा गुण है। 

HEAVEN-HELL स्वर्ग-नरक
(EXTRACT FROM PADM PURAN पद्म पुराण  के पाताल खण्ड  का  सारांश) 
MARKANDEYS WITH YUM 
RAJ &
MAHA KAL-SHIV
As soon as one dies he acquires an immaterial body, similar to the one he possessed before death. He is taken to hell or heaven as per his deeds. He undergoes torture-pain in the hells for the sins he has committed. Those who insult the deities-demigods are the worst possible sinners. Those who make fun-insult, the deities-Brahmns are bound to be lodged in hells. Only place suitable for the sinner is hell. Killing-eating flash, meat, fish drinking-consuming wine, pushing women into prostitution are sins, leading to reservation of birth in unspecified hells, millions of years.1. विदेह राजा जनक ने धर्म राज से पूछा कि उन्हें किस अपराध के कारण नर्क तक आना पड़ा ? धर्म राज ने उन्हें बताया कि किसी गाय को उन्होंने चरने से रोका था। अत: उन्हें नर्क के द्वार तक आना पड़ा। गाय को घर में  प्यास रहना पड़े, घास चरने से रोका जाये, डंडे आदि से मारा जाये, काटा जाये; तो ऐसा करने वाला नरक गामी होता है। यही स्थिति गौ मांस खाने, बेचने, खरीदने वालों की भी होती है।
2. गौ से द्रोह करने वाला, किंकर नामक नरक में, गौ के रोमों की संख्या से हजार गुना वर्षों तक रहता है। 
3. जो लोग प्राणियों का वध करते हैं, उन्हें रौरव नर्क में डाला जाता है, जहाँ रुरु नामक पक्षी उसका शरीर नोचते हैं। 
4. जो पेट भरने के लिये जीव हत्या करता है, उसे महा रौरव नामक नर्क में डाला जाता है।  
5. दूसरों का धन चुरा कर स्वयं भोगने वाले के दोनों हाथों को काट कर पूयशोणित नरक में पकाया जाता है। 
6. संध्याकाल में भूख से पीड़ित अथिति का स्वागत सत्कार न करने वाला अंधकार से भरे तामिस्र नर्क में गिराया जाना और सौ वर्ष तक भ्रमरों से होकर यातना  भोगता है।
7. दूसरों की निन्दा करने  व सुनने वाला अन्धकूप में पड़ता है। 
DHARM RAJ
8. मित्र द्रोही को रौरव नरक में पड़ना पड़ता है।
9. अपने पिता और ब्राह्मण से द्वेष करने वाले को अति दुःख कारक कालसूत्र नरक में निवास प्राप्त होता है।
10. विद्या और आचार का धमण्ड रखकर गुरुजनों का अनादर-द्रोह करने वाला मुँह नीचे करके क्षार नामक नर्क में गिराया जाता है।  
11. ब्राह्मण की गौवों, धन, द्रव्य जीविका हरण करने वाला अंध कूप नरक में भयानक कष्टों का भागी होता है। 
12. ब्राह्मण का धन या स्वर्ण चोरी करने वाला संदंश नामक नरक में गिरता है।  
13.  राजा न होते हुए भी जो किसी को दण्ड देता है और ब्राह्मण को शारीरिक दण्ड देता है, उसे सूअर के मुँह वाले दुष्ट-भयंकर यमदूतों से पीड़ा प्राप्त होती है और अनेक दुष्ट-हीन योनियों में जन्म लेना पड़ता है।14. जीभ के स्वाद-लोलुपता वश, जो मधुर अन्न स्वयं ही चट कर जाता है और दूसरों या देवताओं को नहीं देता वो कृमि भोज नमक नर्क में पड़ता है। 
15. जो व्यक्ति दूसरों की उपेक्षा कर केवल अपने शरीर का पोषण करता है, वो तपाये हुए तेल से भरे कुम्भी पाक नरक की  यातनांए पाता है।
16. बल से उन्मत्त वेद  मर्यादा का लोप करने वाला वैतरणी में डूबकर मांस व रक्त का भोजन करता है।
17. धर्म से बहिष्कृत होकर विश्वास घात करने वाले को शूलप्रोत नरक में गिराया जाता है।  
18. धूर्त के द्वारा धोका देने और दम्भ का सहारा लेने पर वैशस नामक नरक में गिरना पड़ता है। 
19. चोर, आग लगाने वाला, दुष्ट, जहर देने वाला, गाँवों को लूटने वाला सारमेयादन नरक पाता है। 
20. झूठी गवाही देने वाला, दूसरे का धन छीनने वाला अवीचि नर्क में सर नीचे करके डाला जाता है और फिर अत्यन्त पाप मयी-नीच-हीन योनियों में जन्म पाता है। 
21. सुरा पान करने वाले को गर्म-गर्म पिघला हुआ लोहा पिलाया जाता है। 
22. चुगली करने वाले को दंद शूक नामक नरक में डाल कर सांपों द्वारा डसवाया जाता है।
23. रजस्वला कन्या घर में अविवाहित रहे, देवताओं पर चढ़ाया हुआ पहले का निर्माल्य पड़ा रहे तो ये दोष पहले के किये हुए पुण्य को नष्ट कर डालते हैं। 
24. मित्र की  पत्नी जो उस पर पूर्ण विश्वास करती थी, के साथ बलात्कार करने वाला पहले लोह शंकु नरक में दस हजार साल तक पकाया जाता है, फिर सूअर की योनि में जाता है और अन्त में मनुष्य योनि में नपुंसक के रूप में जन्मलेता है। 
25. पराई स्त्री के साथ आलिंगन करने वालों को सौ वर्ष तक नरक में पकाया जाता है।
26. अगम्या स्त्री के साथ पत्नी के समान सम्बन्ध बनाने वाला, उसी स्त्री की तपायी गई लोहे की मूर्ति के साथ आलिंगन करता है। 
27. जो द्विज शुद्र की स्त्री को अपनी पत्नी बना कर गृहस्थी चलाता है वह पूयोद नरक में पड़कर बहुत दुःख भोगता है।
28. सगोत्री स्त्री का भोग करने वाला वीर्य की नहर में डाला जाता है और वीर्य पान करता है।  
29. पराया धन, संतान या स्त्री को भोग के लिए जो जबरदस्ती छीन लेता है उसे 1,000 वर्ष तक तामिस्र नामक नरक में प्रताड़ित किया जाता है। तब जाके उसे सूअर की योनि में जन्म मिलता है जिससे छूटने पर ही उसे मानव योनि मिलती है और यहाँ भी उसे भयानक कष्ट और बीमारी का सामना करना पड़ता है।
30. जो व्यक्ति दूसरे प्राणियों से द्रोह करके अपना कुटुंब पालता है उसे अंध तामिस्र नरक में पड़ता है। 
31. जो व्यक्ति मन,वाणी, बुद्धि, तथा क्रिया द्वारा धर्म-भगवत् भक्ति से च्युत है; दूसरे का खेत, जीविका, घर-सम्पत्ति, प्रीति तथा आशाओं का उच्छेद  वो नरक का भागी है।
32. जो मूर्ख व्यक्ति जीविका का कष्ट भोगते हुए ब्राह्मणों को समर्थ होते हुए भी भोजन नहीं देता, वो नरक गामी होता है। 
33. अनाथ-भगवत् भक्त, दीन, रोगातुर तथा वृद्ध पर जो दया नहीं करता, वो नरक गामी होता है। 
34. One who dies without paying loans, goes to hells and on release from there, gets birth as Mule, ass, horse, elephant, camel, ox, Yak etc. the animals which carry load.
पाप SIN 
CHITR GUPT TEMPLE, 
KHUJRAHO
पापपाप तीन प्रकार का होता है:  (I) शारीरिक-कार्मिक, (II) वाचिक और (III) मानसिक। ईश्वर की आराधना, दान-पुण्य, व्रत-उपवास, तीर्थ यात्रा, पवित्र नदियों-सरोवरों में पर्वोँ-उत्सवों पर स्नान, गरीब-मज़लूम की सहायता, धर्म-कर्म, भजन कीर्तन, साधना, तपस्या, चिन्तन-मनन आदि कुछ ऐसे उपाय हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य पाप से मुक्ति पा सकता है।  पाप मनुष्य को घोर नर्कों में ले जाते हैं। ये प्राणी को उसके दुष्कर्मों के परिणाम स्वरूप नर्क में ले जाता है। 
शारीरिक: किसी भी प्राणी को शारीरिक आघात-कष्ट पहुँचाना। 
वाचिक: वचनों-वाणी-शब्दों से अपमान-तिरस्कार-दिल दुखाना-क्रोध करना । 
मानसिक: बुरा सोचना-दुर्भावना रखना-बदले की चाहत। 
पाप को प्रायश्चित, आराधना, तपस्या, दूसरों की मदद करके कम किया जा सकता है।
(1) परस्त्री की संगति, पापियों के साथ रहना और प्राणियों के साथ कठोरता का व्यवहार करना। 
(2) फलों की चोरी, आवारागर्दी, वृक्ष पेड़ काटना।
(3-i) वर्जित वस्तुओं को लेना, (3-ii) वे कसूर को मारना, जेल-बन्धन में डालना, धन की प्राप्ति के लिये मुकदमा करना। 
(4) सार्वजनिक सम्पत्ति को नष्ट करना धर्म-नियमों के विपरीत चलना। 
(5) पुरश्चरण आदि तान्त्रिक अभिचरों से किसी को मारना, मृत्यु जैसा अपार कष्ट देना, मित्र के साथ छल-छंद, झूँठी शपथ, अकेले मधुर पदार्थ खाना। 
(6) फल-पत्र-पुष्प की चोरी, बंधुआ रखना, सिद्ध की प्राप्ति में बाधा डालना और नष्ट करना, सवारी के सामानों चोरी। 
(7) राजा को देय राशि में घपला, राजपत्नी का सन्सर्ग और राज्य-देश का अमंगल। 
(8) किसी वस्तु या व्यक्ति पर लुभा जाना, लालच करना, पुरुषार्थ से प्राप्त धर्म युक्त धन का विनाश करना, लारमिली वाणी-चिकनी-चुपड़ीबातें करना बनाना। 
(9) ब्राह्मण को देश से निकालना, उसका धन चुराना, निंदा करना, तथा बन्धुओं से द्वेष-विरोध रखना।
(10) शिष्टाचार का नाश, शिष्ट जनों से विरोध, नादान-अबोध बालक की हत्या करना, शास्त्र-ग्रंथों की चोरी, स्वधर्म का नाश-धर्म परिवर्तन।
(11) वेद-विद्या, संधि विग्रह, यान, आसन, द्वैधी भाव, समाश्रय-राजनैतिक गुणों का प्रतिवेश। 
(12) सज्जनों से वैर, आचारहीनता, संस्कार हीनता, बुरे कामों से लगाव। 
(13) धर्म, अर्थ, सत्कामना की हानि, मोक्ष प्राप्ति में बाधा डालना या इसके समन्वय में विरोध उत्पन्न करना।
(14) कृपण,  धर्म हीनता, परित्याज्य और आग लगाने वाला।
(15) विवेकहीनता, दूसरे के दोष निकालना, अमंगल-बुरा करना, अपवित्रता एवं असत्य वचन बोलना। 
(16) आलस्य, विशेष रूप से क्रोध करना, सभी के प्रति आतताई बन जाना और घर में आग लगाने वाला।
(17) परस्त्री की कामना, सत्य के प्रति ईर्ष्या, निन्दित एवं उदण्ड व्यवहार। 
(18) देव ऋण, ऋषिऋण, प्राणियों के ग्रहण-विशेषतः मनुष्यों एवं पित्तरों का ऋण, सभी वर्णो को एक समझना, ॐ  कार  के उच्चारण में उपेक्षा भाव रखना, पापकर्मों को करना, मछली खाना तथा अगम्या स्त्री से संगत ; महापाप हैं। 
(19) तेल-घृत बेचना, चाण्डाल से दान लेना अपना दोष छिपना और दूसरे का उजागर करना घोर पाप हैं। 
(20) दूसरे का उत्कर्ष देखकर जलना, कड़वी बात बोलना, निर्दयता, भयंकरता और अधर्मिकता। [वामन पुराण]
THREE CATEGORIES OF SIN
(1). PHYSICAL:: The abuse is carried out physically by torture, murder, beating-thrashing, assault, tying, inflicting pain by harming bodily, over powering.
(2). VOCAL :: Speaking harsh words, insult, abusing, making fun, cutting jokes, rejection, mental agony-turpitude, harassment.
(3). MENTAL :: Thinking bad of others, desire for revenge, bad motives, desire for illicit relations, sensuality, passions, pride, ego, greed. 
Any deed-action-maneuver,  preformed with bad intentions to harm others, amounts to sin. Harming others whether intentional or without intention-chance-happening is sin. Penances, repentance, ascetics, prayers devotion to God, helping others-poor-down trodden-elders-needy, pity on others, forgiving. 
SIN: (Devil, satanic, wicked, vicious, corrupt, villain, wretch, enemy) One is subjected-forced into the hells for thousands and thousands of years, become insect, worm, animal, tree on his release from the hells. The God provides him with an opportunity to improve by giving birth in human incarnation. This opportunity must be utilises for our own sack.
1. Company of others women, wicked and too strict behavior.
2.  Stealing of fruits, roaming aimlessly with leisure, cutting-felling of trees.
3. Acceptance of restricted goods, killing, beating, imprisoning, filing of false cases against for the sake of extracting money against the innocents. 
4. Destruction of community property and acting against the religious rules-scriptures-epics-code.
5. Killing of people through ghostly-wretched actions, torture like-comparable to death, cheating with friends-relatives-well wishers, false promise, ignoring colleagues-friends-relatives, sitting nearby while sweets. 
6. Theft of vegetation-leaves-fruits-flowers, either vehicles or their components, keeping bonded labor, creating troubles-hindrances in the way of devotees busy in meditation asceticism.
 7. Contact-relations with the queen, action against the country and non payment of the state dues. 
8. To become greedy (-bait, lure, to temp, to decoy,intense desire, avarice) for a person or thing,  to be greedy and to destroy the wealth-money earned through righteous-honest means. 
(9)  To expel a Brahmn (-Pundit, scholar, learned, enlightened) from the country, snatching-looting his money-wealth-property, spoiling the money earned through righteous means-honest-pure means, envy-anguish with the relatives-friends.
(10)  Loss of decency, opposition with the descent people, murder of infants-kids, theft-stealing of scriptures-epics-holy-religious books, change-conversion from own religion and acting against the religion.
(11) Action against the Veds-Purans-Upnishads, breaking of treaties, destabilising from vehicle-seat-couch, duality in behavior, equanimity with the political thoughts-ideas-philosophy. 
(12) Rivalry-enmity with the descent people-gentle men, lack of virtues-manners, lack of ethics, attachment to bad deeds-vices-wickedness-devilish.
(13) Loss of religiosity, money-wealth-finances-budget, loss of good thoughts-ideas, prohibiting in the attainment of Liberty-Salvation-The Ultimate-Almighty.
(14) Miserliness, lack of religiosity, one to be rejected-expelled from family-society and the one who ignites fire to others possessions.
(15) Imprudence, finding faults with others, doing bad, impurity and speaking untrue-slur.
(16) Laziness, furore-being angry-anguish, becoming tyrant to all, burning homes-houses-inhabitants-huts-tents. 
(17) Desire for someone else's wife-abduction-forcefully or otherwise luring others women, enmity for truth, bad insensitive abnormal behavior.
(18) All sorts of debt pertaining to elders, ancestors-failure to pay debt-debt servicing, considering all castes to be equal, keeping anti opinion-negligence-rejection-opposition against the pronunciation of Om-Omkar -ॐ: the sound created at the time of evolution, eating fish, sex with impure-wretched women are extreme sins.
(19) Selling of oil-ghee, accepting of donations-charity from a Chandal-one who performs last rights in cremation ground-extremely low caste person who lives away from the periphery of civilians-cities, hiding of own faults and exposing others are the ulterior sins.
(20) To envy others rise, always speaking the bitter, lack of pity, to act terribly like a monster-fearsome-terrible-dangerous-desolate.
Prayers, donations-charity, fasting, bathing in pious rivers-ponds-lakes on auspicious occasions-festivals, vising holy places-holy rivers, helping poor-down trodden-weaker sections of society, participation in religious activities, chanting-recitation-singing-celebrating-remembering of God's names on auspicious occasions, meditation, asceticism, thinking-analysing God's deeds are some of the actions which helps in getting rid from sins. sins carry the sinners to rigorous hells. On being released from them the soul goes to the species like insects-worms-animals.


DESCRIPTION OF HELLS पुष्कर द्वीप-नर्क विवरण  
जम्बू द्वीप से लेकर क्षीर सागर के अन्त तक का विस्तार 40 करोड़ 90 लाख 5 योजन है। उसके बाद पुष्कर द्वीप व तदन्तर स्वादु जल का समुद्र है। पुष्कर द्वीप का परिमाण 4  करोड़ 52 लाख योजन है। उसके चारोँ ओर उतने ही परिमाण का समुद्र है। उसके चारोँ ओर लाख योजन का अण्ड कटाह है। पुष्कर द्वीप देखने में भयंकर है जो पैशाच धर्म का पालन करते हैं और कर्म के अन्त में उनकी मुक्ति होती है। यह द्वीप भयंकर, पवित्रता रहित घोर और कर्म के अंत में नाश करने वाला है। 
इस द्वीप में रौरव आदि भयंकर नरक हैं। मुख्य नरकोँ की संख्या 21 है। उनमें रौरव पहला है, जिसका परिमाण 2000 योजन है। यह प्रज्वलित अंगार मय है।    इससे दुगुने विस्तार वाला महा रौरव है जिसकी भूमि तांबे से बनी है और नीचे से अग्नि द्वारा तापित है। इसके भी दुगुने आकार का तामिस्त्र और इसका दुगुना अंध तामिस्त्र है।  पाँचवां कालचक्र, छटा अप्रतिष्ठ और सातवां घटी यंत्र है।
नरकोँ में श्रेष्ठ असिपत्रवन आठवां है और 72 हजार योजन विस्तार वाला है। तप्त कुण्ड नवाँ, कूटशाल्मली दसवाँ, करपत्र ग्यारहवाँ, श्वान भोजन बारहवाँ है। उसके बाद क्रमशः संदंश, लोहपिण्ड, करम्भसिकता, भयंकर क्षार नदी, कृमि भोजन और अठारहवें  को घोर वैतरणी नदी कहा जाता है। इनके बाद शोणित-पूय भोजन, क्षुराग्र धार, निशितचक्रक तथा संशोषण नामक अन्तहीन नरक है।
** जो व्यक्ति वेद, देवता, द्विजातियों की सदा निंदा करते हैं, पुराण और इतिहास के अर्थों में आदर बुद्धि या श्रद्धा नहीं रखते, गुरुओं की निंदा करते हैं, यज्ञोँ में बाधा डालते हैं, दाता को दान देने से रोकते हैं वे सभी प्रेत योनि में जाकर उपरोक्त  नरकोँ को आबाद करते हैं। 
One who do not respect-honor the scriptures, insults the Guru-Holy persons-sages-seers, obstruct donation to the genuine person, obstruct performance of Yagy-Hawan-Agni Hotr-Prayers-rituals become spirits before sentencing them to rigorous tortures-punishments. They acquire an immaterial body identical to one they possessed before their death in the current life-birth.** जो अधम व्यक्ति मित्र, स्त्री-पुरुष,सहोदर-भाई, स्वामी-सेवक, पिता-पुत्र एवं आचार्य-यजमान, में परस्पर झगड़ा करवाते हैं और जो कन्या एक जगह ब्याह कर पुनः दूसरी जगह उसकी शादी करवाते हैं, उन्हें यमदूतोँ द्वारा नरकोँ में आरे से चीरा जाता है। One who create differences among the friends, relatives and those who remarry their daughters to some one else, are cut into pieces in various hells.
** दूसरोँ को संताप देना, चन्दन और खस की चोरी करना बालोँ और चँवर से  सामान चोरी करना
 करम्भसिकता नामक नरक में पहुंचता है। 
** देव या पितृ श्राद्ध में निमन्त्रण को स्वीकार करने के बाद भी अन्यत्र भोजन करने वाले को तेज चोंच वाले नरकपक्षी दोनों ओर से पकड़ कर खींचते हैं। 
** साधुओं को तीखे वचनोँ से चोट पहुंचने वाला उनके दिल को दुखाने वाला, उनकी चुगली-निंदा करने वाला भयंकर पक्षियों की चौंच से आहत किया जाता है और उसकी जीभ को वज्र तुल्य चोंच और नख वाले कौए खींचते हैं। 
** जो लड़के अपने पिता-पिता एवं गुरु की उचित आज्ञा का उल्लंघन करते हैं उन्हें पीव, विष्ठा एवं मूत्र से भरे अप्रतिष्ठ नमक नरक में मुँह नीचे करके डुबाया जाता है। 


HEAVEN स्वर्ग 
जो व्यक्ति गाय के शरीर से डांस, मच्छर आदि हटाता है, उसके पूर्वज संतुष्ट हो जाते हैं। गौ पालक को अपार सुख-स्वर्ग मिलता है। 
1. भगवत भजन, कीर्तन-दान-ध्यान, स्मृण, पूजन, तप, दीन-दुखी की  सहायता, भगवान की यशोगाथा का गान स्वाध्याय करने वाला स्वर्ग से ऊपर के लोक प्राप्त करता है। 
2. उचित-सात्विक-धर्म पूर्वक कमाए गये साधनों-धन से जो मुफ्त धर्मशाला, अस्पताल, कुँआ-बाबड़ी,  स्कूल-कॉलेज, सड़क, वृक्षारोपण आदि करने वाले को स्वर्ग में स्थान प्राप्त होता है। 
3. मांगने पर देने  वाले, प्रिय वचन बोलने वाले, दिन में न सोने वाले, सहनशील पर्व के अवसर पर आश्रय दाता, द्वेष रखने वालों से भी द्वेष पूर्ण व्यवहार न करने वाला, दूसरे गुणों का गान करने वाला, तथा सत्व गुण में स्थित व्यक्ति स्वर्ग में स्थान पाता है। 
4. किसी भी (-भले ही नीच या निम्न कुल हो) कुल में जन्म लेकर जो व्यक्ति दयालु, यशस्वी, उपकारी, और सदाचारी है वह स्वर्ग का अधिकारी हो जाता है। 
5. व्रत को क्रोध से, लक्ष्मी को डाह-ईर्ष्या से, विद्या को मन-अपमान से, आत्मा को प्रमाद से, बुद्धि को लोभ से, मन को काम से, धर्म को कुसंग से बचाये रखता है वो स्वर्ग प्राप्त करता है।
6. शुक्ल व कृष्ण पक्ष में विधि पूर्वक-पाप शून्य, एकादशी का व्रत रखने वाला मानव स्वर्ग में स्थान पाता है।
7. जिसके हृदय में परमात्मा की भक्ति है, वो उच्च लोकों में स्थान ग्रहण करता है। 
8 . पाप शून्य-शुद्ध हृदय-भगवत् भक्त, पवित्र नदियों में स्नान मात्र से ही स्वर्ग प्राप्त कर लेता है।   
9. पवित्र तीर्थों में प्राण त्याग करने वाला पाप शून्य-शुद्ध हृदय-भगवत् भक्त, परमात्मा को प्राप्त करता है। 
10. अमावश्या के दिन, श्राद्ध के नियम पालन करने वाले, अपने पित्तरों के साथ स्वर्ग जाते हैं। 
11. जो व्यक्ति श्री हरी की पूजा करके पृथ्वी पर, तिल और कुश बिछाकर, तिल बिखरते हुए, लोहे और दुधारू गौ का दान करते हैं, वे स्वर्ग प्राप्त करते हैं। 
12. जो व्यक्ति ममता-अहंकार से मुक्त, दादा-परदादा होकर मरता है, वह स्वर्ग का अधिकारी होता है। 
13. जो व्यक्ति चोरी-डकैती, मार-काट से दूर, ईमानदारी से प्राप्त होने वाले धन से जीविका चलाते हैं, उनको स्वर्ग मिलता है।
14. शुद्ध-पीड़ा रहित-मधुर-पापरहित वाणी, का प्रयोग करने वाला, स्वर्ग जाता है। 
15. दान धर्म में प्रवत्त, धर्म मार्ग के अनुयायियों का उत्साह बढ़ाने वाला, उर्ध्गति प्राप्त करता है। 
16. सर्दी में सूखी लकड़ी, गर्मी में शीतल जल तथा बरसात में आश्रय प्रदान करने वाले को उर्ध्गति मिलती है। 
17. दरिद्र के द्वारा किया गया दान, सामर्थशाली की दी गई क्षमा, नौजवान की तपस्या, ज्ञानियों का मौन, सुख भोगने वाले की सुखेच्छा-निवृति और सभी प्राणियों पर दया स्वर्ग प्रदायक हैं। 
जो सदा सत्य बोलते हैं, पोखरे के किनारे वृक्ष लगाते हैं, यज्ञानुष्ठान करते हैं, वे कभी स्वर्ग से भ्रष्ट नहीं होते।फल मूल के भोजन से सम्मान और सत्य से स्वर्ग कि प्राप्ति होती है। 
वायु पीकर रहनेवाला यज्ञ का फल पता है जो उपवास करता है वो चिरकाल तक स्वर्ग में  निवास करता है। जो सदा भूमि पर शयन करता है , उसे अभीष्ट गति प्राप्त होती है , जो पवित्र धर्म के आचरण करता है वो स्वर्ग लोक में सम्मानित होता है। [पद्मपुराण]
हरी ओउम तत् सत् 
File:Hindu hell.jpg



यम (-नर्क ) यातना कर्म फल :: जीवजीव, भोग देह का परित्याग करके पुनः गर्भ में आता है।जीव वायु रूप होकर गर्भ में प्रवेश करता है। केवल मनुष्योँ को मृत्यु के उपरांत एक आतिवाहिक संज्ञक शरीर प्राप्त होता है। अन्य किसी भी प्राणी को वह नहीं मिलता और न ही वे यमलोक को ले जाये जाते हैं।यह लोक कर्म भूमि है और परलोक फल भूमि। यम दूत जब किसी पुण्य वान को धर्मराज के पास लेकर जाते हैं, तो वे उसका पूजन करते हैं और यदि कोई पापी ले जाया जाता है तो उसे दण्ड मिलता है। भोग देह दो प्रकार की हैं: शुभ और अशुभ।  भोग देह के द्वारा कर्मफल भोग लेने के बाद जीव पुनः मर्त्य लोक में गिरा दिया जाता है। उसके त्यागे हुए शरीर को निशाचर खा जाते हैं। 

यदि जीव भोगदेह के माध्यम से पहले स्वर्ग का सुख पाता है तो उसे पुनः पापियों के योग्य भोग शरीर धारण कर नरक की यातना सहनी पड़ती है और तदुपरान्त जीव को पशु पक्षी या तियर्ग योनि-कीड़े मकोड़े के रूप में जन्म लेना पड़ता है। 
यदि पहले पाप का फल भोग कर प्राणी स्वर्ग जाता है तो उसे देवोचित शरीर मिलता है। स्वर्ग जाने वाले प्राणी को भोग काल समाप्त होने पर पवित्र आचार विचार वाले धनवानों के घर जन्म प्राप्त होता है। 
जो व्यक्ति जिस पाप से सम्पर्क रखता है उसी का कोई चिन्ह लेकर जन्म ग्रहण करता है।

पाप का फल :: ब्रह्म हत्यारा पुरुष-व्यक्ति मृग, कुत्ते, सूअर और ऊँटो की योनि में जाता है। इनसे मुक्ति के बाद राजयक्ष्मा का रोगी बनता है। 
मदिरा पान करने वाला गधे, चाण्डाल तथा मल्लेछ (-मुसलमान, अंग्रेज) बनता है और उसके दाँन्त काले पड़ जाते हैं। 
सोना चुराने वाला कीड़े-मकोड़े और पतिंगे की योनि पाता है। गुरु (-कोई भी पूज्य व्यक्ति) पत्नी  से गमन करने वाला तृण अथवा लता बनता है और इससे मुक्ति के बाद मनुष्य योनि में कोढ़ी होता है।
अन्न चुराने वाला मायावी-राक्षस होता है। 
वाणी-कविता आदि की चोरी करने वाला गूंगा होता है। 
धान्य का अपहरण करने वाला अतिरिक्त अंग के साथ जन्म लेता है। 
चुगलखोर की नाक और मुँह से बदबू आती है। 
तेल चुराने वाला, तेल पीने वाला कीड़ा बनता है।
दूसेरों की स्त्री और ब्राह्मण का धन चुराने वाला निर्जन वन में ब्राह्मण राक्षस होता है। 
रत्न चोर नीच जाति में जन्म लेता है। 
उत्तम गंध का चोर छछूंदर होता है। 
शाक पात चुराने वाला मुर्गा और अनाज की चोरी करने वाला चूहा बनता है। 
पशु चोर बकरा, दूध चराने वाला कौवा, सवारी की चोरी करने वाला ऊँट, फल चुराकर खाने वाला बन्दर या गृद्ध बनता है। 
शहद चोर डाँस, घर का सामान चुराने वाला गृह काक होता है। 
वस्त्र हड़पने वाला कोढ़ी, चोरी-चोरी रस का स्वाद लेने वाला कुत्ता और नमक चोर झींगुर बनता है। [अग्नि पुराण] 

Hell: Increase of Tamsik property-gun character.
Brother-relative-friend-associate: True guide-preacher-master-The God.

Home-House: Human body is the true home.

Rich-wealthy: Endowed with the goodness-Satvik Gun-properties-characteristics.
Poor:  Discontent-dissatisfaction in mind, feeling of scarcity.
Miser-stoic: No control over his senses-working-habits.
God: Competence, independence and is Godliness-mind does not indulge in worldly pleasures, sensuality, passions.
INABILITY-INCOMPETENCE: Enamoured in subjects-utterly incapable-incompetent-unable. 
Understanding of these tenants is helpful in achieving/attaining-Salvation-Liberation-Assimilation in God-Moksh.
MEDITATION-ध्यान (I) : It involves conceptualisation-image formation of the Almighty. Initially one has to sit quietly, with closed eyes thinking of the Almighty only. He will experience all sorts of hurdles and the mind will travel in all direction. But being a human being, he is capable of channelising all his energies to a spot. Normally the direction to align one self in the morning is East and in the evening, its North. A calm-quite place is essential for such practices. People prefer isolated places, near water bodies or caves. One can practice it at home as well, by placing a pot full of water in front of him. Sit with cross legs or adopt some Asan, like Padmasan. Use a mat-cushion for sitting comfortably. You can use fan or even AC during this. This water should be offered to the Sun in the morning after bathing.
One should concentrate only in him, while forgetting-discarding everything at this moment. Ignore all activities around you and think of him only and nothing else, at the time of meditation.He will show you the way to Dharm, Arth,Kaam and Moksh. उसी में रम जाओ और रमण करो मन को एकाग्र  करो चित्त को भटकने मत दो अभीष्ट पर केंद्रित करो और देखो सफ्लता तुम्हारी है।
MEDITATION (II): One is aware of deep-repeated thinking over certain issues-problems, which forces him to forget everything to find ways and means, to come out of the difficulty.  The thinker get involved with it, whole heartedly and all his energies are channelised into finding a solution. Ultimately, he approaches the God. Life in itself is full of difficulties and the prudent-enlightened makes a bid to come out of them. The easiest-simplest method is meditation by focusing-fixing-concentrating the brain-mind into the Almighty.
This is a state when one prevents the mind from roaming around, brings the mind-brain under self restraint-control. Inner self-sensuality-passions are made to fall in line with deep thinking-contemplation. A magic spell is cast, followed by enchantment-charm-delight-happiness.
One has to focus the mind over certain material object like a statue-picture-even Om-Allah-Khuda-Rab-God-Jesus-Bhagwan, written over the wall.  This can be done-achieved, while-talking-walking-moving-standing-sitting-sleeping-waking-opening or closing eyes-pure or impure body state, by continuously reciting-remembering the God. One has to consider himself as an incarnation-organ-part-component(-soul is a component of the Almighty-the Supreme soul) of the God and that he has evolved out of the Almighty and merge into him, ultimately.
Meditation relieves anxiety and helps in solving intricate problems.
Human brain has two lobes-compartments, which drag him into different directions-channels. One may successfully perform two tasks, simultaneously. During emergency-difficulty the two lobes start functioning together. Repeated practice makes one achieve this state quite frequently. This act when utilized to focus-penetrate-channelize into the creator-nurturer-destroyer-all in one, the Almighty; relieves the devotee of all pains-sorrow-grief-problems-difficulty and the cycle of birth and rebirth, obviously.
For best results choice of a peaceful place-solitude-secluded place-cave-hut in the forest is recommended. Continued efforts gives quick results associated with confidence-happiness-success.
Transcendental Meditation requires practice session extending between 10-15 minutes twice-even once depending upon the time available with you, regularly. Don't mind if you could not devote time for it for a number of days. You may restart at you will. It's relaxation of mind, body and soul.One may call it self analysis-identification-realization.
This technique allows the mind to settle and gives one a chance to experience pure awareness, called transcendental consciousness. It allows one to experience the most silent and peaceful level of consciousness-the innermost self. It also allows the brain to attain deep rest-relaxation, helping one to be more efficient and better in cognitive functions. 
Sit with crossed legs comfortably over met-tiger/deer skin-cushion-durri-carpet. You may utilize Padmasan or some other Aasan-posture. Sit with erect back bone-vertebral column, recite om or om em namh: or remain quite.
ध्यान: स्थिर चित्त से भगवान  का चिंतन, ध्यान कहलाता है। समस्त उपाधियों से मुक्त मन सहित आत्मा का ब्रह्म विचार में परायण होना ध्यान है। ध्येय रूप आधार में स्थित एवं सजातीय प्रतीतियों से युक्त चित्त को जो विजातीय प्रतीतियों से रहित प्रतीति  होती है, उसको भी ध्यान कहते हैं। जिस किसी प्रदेश में भी ध्येय वस्तु के चिंतन में एकाग्र हुए चित्त को प्रतीति  के साथ जो अभेद-भावना होती है, उसका नाम भी ध्यान है। ध्यान परायण होकर जो व्यक्ति अपने शरीर का त्याग करता है, वह अपने कुल स्वजन और मित्रों का उद्धार करके स्वयं भगवत स्वरुप हो जाता है। प्रति दिन श्रद्धा पूर्वक श्री हरी का ध्यान करने से मनुष्य वह गति पाता  है, जो कि सम्पूर्ण महायज्ञों के द्वारा भी अप्राप्य है
चलते-फिरते, उठते-बैठते-खड़े होते, सोते-जागते, आँख खोलते-मींचते, शुद्ध-अशुद्ध अवस्था में भी निरंतर परमेश्वर का ध्यान करना चाहिए।
भगवान मृत्युंजय, ध्यान करने पर अकाल-मृत्यु  को दूर करने वाले हैं।
साधक को पहले मन को स्थिर करने के लिए स्थूल-मूर्त रूप का ध्यान करना चाहिये। मन के स्थिर हो जाने पर उसे सूक्ष्म तत्व-अमूर्त के चिंतन में लगाना चाहिये।
ध्यानावस्था में समस्याओं का समाधान मिल जाता है।  
ध्यान दो प्रकार का होता है-निर्गुण और सगुण। जो लोग योग-शास्त्रोक्त, यम-नियमादि साधनों के द्वारा परमात्म-साक्षात्कार का प्रयास कर रहे हैं, वे सदा ही ध्यान परायण होकर केवल ज्ञान दृष्टि से परमात्मा का दर्शन करते हैं। 
निर्गुण: परमात्मा हाथ और पैर से रहित है, तो भी वह सब कुछ ग्रहण करता है और सर्वत्र जाता है। मुख के बिना ही भोजन करता है और नाक के बिना ही सूंघता है। उसके कान नहीं हैं तथापि वह सब कुछ सुनता है। वह सबका साक्षी और इस जगत का स्वामी है। रूप हीन होकर भी रूप से संबद्ध हो पांचों इंद्रियों के वशीभूत सा प्रतीत होता है। वह सब लोकों का प्राण है, सम्पूर्ण चराचर जगत के प्राणी उसकी पूजा करते हैं। बिना जीभ के ही वह सब कुछ वेद-शास्त्रों के अनुकूल बोलता है। उसके त्वचा नहीं है तथापि वह शीत-उष्ण आदि, सब प्रकार के स्पर्श अनुभव करता है। सत्ता और आनन्द उसके स्वरूप हैं। वह जितेन्द्रिय, एकरूप, आश्रय विहीन, निर्गुण, ममता रहित, व्यापक, सगुण, निर्मल, ओजस्वी, सबको वश में करने वाला, सब ओर देखने वाला और सर्वज्ञों में श्रेष्ठ है। वह व्यापक और सर्वमय है। इस प्रकार जो अनन्य  बुद्धि से उस सर्वमय ब्रह्म का ध्यान करता है, वह निराकार एवं अमृत तुल्य परम पद को प्राप्त होता है। 
This involves mental image formation or conceptualisation of the Almighty, who has no shape or size. He is undefined yet unique. He is present each and every where, including us. He has no sense organs, still he is performing all functions. He is without hands or legs, still he is able to act-perform what ever is essential. He is free from desires or activities, still he acts. He does not eat , still he accepts the offerings of the devotees. He is without tongue and yet he recites the Shloks-enchants-rhymes of Ved-Puran-Upnishad. He is without skin, still he experiences cold or warmth. He has full control over all sensuality-passions. He is one and only one-unique. There is no one-nothing to support him, yet he supports every one. He has no sentiments. He is pure, orator, source of all energy, mesmerise every one-controls every one-looks in all directions and above all the enlightened. He is present in each one of us and all directions-material-immaterial objects. His qualities-characters are unlimited-infinite. he has no boundaries.
One who utilize his mind-brain-intelligence, to attain him, is able to liberate himself and assimilate in him.
सगुण: इस ध्यान का विषय किंवा साकार रूप है। वह निराकार-रोग-व्याधि से रहित है। उसका कोई आलम्ब-आधार नहीं है, वही सब का आलम्ब है। जिनके संकल्प से यह संसार वासित है वे श्री हरी इस संसार को वासित करने के कारण वासुदेव कहलाते हैं। 
उनका श्री विग्रह वर्षा ऋतु के सजल मेघ के समान श्याम है। उनकी प्रभा सूर्य के तेज को भी लज्ज्ति करती है। उनके दाहिने भाग के एक हाथ में बहुमूल्य मणियों से चित्रित शंख शोभा पा रहा है और दूसरे हाथ में बड़े-बड़े असुरों का संहार करने वाली कौमुद गदा विराजमान है। उन जगदीश्वर के बायें हाथों में पद्म और शंख सुशोभित हैं। वे चतुर्भज हैं। वे सम्पूर्ण देवताओं के स्वामी हैं। श्राङ्ग धनुष धारण करने के कारण श्राङ्गी उन्हें भी कहते हैं। वे लक्ष्मी के स्वामी हैं।  
शंख के समान मनोहर ग्रीवा, सुन्दर गोलाकार मुखमण्डल तथा पद्म-पत्र के समान बड़ी-बड़ी ऑंखें हैं। कुन्द जैसे चमकते दांतों से ह्रषिकेश की बड़ी शोभा हो रही है। वे निद्रा के ऊपर शासन करते हैं। उनका नीचे का होंठ मूंगे के सामान लाल है। नाभि कमल से प्रकट होने के कारन उन्हें पद्मनाभ कहते हैं। वे अत्यन्त तेजस्वी किरीट के कारण बड़ी शोभा पा रहे हैं। श्री वत्स के चिन्ह ने उनकी छवि को और बढ़ा दिया है। श्री केशव का वक्ष स्थल कौस्तुभ मणि से अलंकृत है। वे जनार्दन सूर्य के समान तेजस्वी कुण्डलों से अत्यंत देदीप्यमान हो रहे है। केयूर, हार, कड़े, कटिसूत्र करघनी तथा अंगूठियों से उनके श्री अंग विभूषित हैं, जिससे उनकी शोभा और बढ़ गयी है। भगवान  तपाये हुए सुवर्ण के रंग का पीताम्बर धारण किये हुए हैं तथा गरुड़ जी की पीठ पर विराजमान हैं। वे भक्तों की पाप राशि को दूर करने वाले हैं। इस प्रकार सगुण चिन्तन करना चाहिये। 
इसका अभ्यास करने से मनुष्य मन, वाणी तथा शरीर द्वारा होने वाले सभी पापों से मुक्त हो जाता है और अंत में वह विष्णु लोक को प्राप्त करता है।   
समाधि: जो चैतन्य स्वरूप से युक्त और प्रशांत महासागर की भांति स्थिर हो,  जिसमें आत्मा  के सिवाय किसी अन्य वस्तु की प्रतीति न हो, उस ध्यान को समाधि  कहते हैं। जो ध्यान के समय अपने चित्त को ध्येय-परमात्मा, में लगा कर वायु हीन प्रदेश की अग्नि शिखा के भांति अविचल एवं स्थिर भाव से बैठा रहता  है, वह योगी समाधिस्थ कहा गया  है। जो न सुनता है , न सूँघता है, न देखता है, न रसास्वादन करता है, न स्पर्श का अनुभव करता है, न मन में संकल्प उठने देता है, न अभिमान करता है और न बुद्धि से किसी दूसरी-अन्य, वस्तु को जानता ही  है, केवल  काष्ठ (वृक्ष) की भांति अविचल भाव से ध्यान में स्थित रहता  है, ऐसे चिंतन परायण पुरुष को समाधिस्थ कहते हैं। जो अपने आत्म स्वरुप श्री विष्णु के ध्यान में संलग्न रहता है, उसके सामने अनेक दिव्य विघ्न उपस्थित होते हैं , वे सिद्धि की सूचनादेने वाले हैं। बड़े बड़े विघ्न, लालच, लोभ, ज्ञान, सिद्धियाँ, प्रतिभा, सद्गुण, सम्पूर्ण शील, कलाएँ, कन्याएँ बिना बुलाए उपस्थित होती हैं। जो इनको तिनके की भांति निस्सार मानकर त्याग देता है, उसी पर भगवान विष्णु की कृपा होती है और वे प्रसन्न होते हैं। 
 हरी ओम तत्  सत्।  

No comments:

Post a Comment